अंग्रेजी पढ़ें व बोलें, पर जीवन पद्धति में पाश्चात्य संस्कृति का प्रवेश न होने दें – सुरेश भय्याजी जोशी Reviewed by Momizat on . देहरादून महानगर का शाखा दर्शन कार्यक्रम देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने परेड ग्राउण्ड देहरादून में आयोजित शाखा द देहरादून महानगर का शाखा दर्शन कार्यक्रम देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने परेड ग्राउण्ड देहरादून में आयोजित शाखा द Rating: 0
You Are Here: Home » अंग्रेजी पढ़ें व बोलें, पर जीवन पद्धति में पाश्चात्य संस्कृति का प्रवेश न होने दें – सुरेश भय्याजी जोशी

अंग्रेजी पढ़ें व बोलें, पर जीवन पद्धति में पाश्चात्य संस्कृति का प्रवेश न होने दें – सुरेश भय्याजी जोशी

देहरादून महानगर का शाखा दर्शन कार्यक्रम

देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने परेड ग्राउण्ड देहरादून में आयोजित शाखा दर्शन कार्यक्रम में सम्बोधित किया. उन्होंने स्वयंसेवकों से बस्ती सेवा, ग्राम सेवा, धर्म जागरण, कुटुम्ब प्रबोधन, जातिवाद से ऊपर उठकर समानतायुक्त हिन्दू जागरण, आपसी सद्भाव, राष्ट्रीयता, निस्वार्थ सेवा, अच्छा हिन्दू (उत्तम सिद्धान्त से युक्त स्वयंसेवक) बनने, स्वदेशी वस्तुओं के उपयोग का आग्रह किया. हम अपनी भाषा पढ़ेंगे और अपना काम अपनी भाषा में करेंगे. उन्होंने कहा कि अंग्रेजी पढ़ें और बोलें, पर आचरण, व्यवहार, खानपान से स्वेदशी रहें तथा स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करें. अपनी जीवन पद्धति में पश्चिमी जीवन पद्धति (पाश्चात्य संस्कृति) का प्रवेश न होने दें. पर्यावरण सुरक्षा, नदियों की सुरक्षा एवं स्वच्छता पर भी ध्यान रखें.

सरकार्यवाह जी ने कहा कि संघ की शाखा केवल खेलकूद का मैदान नहीं है. हमारा जीवन किसलिए है, यह भी एक विचारणीय चिन्तन है. संघ की शाखा में आकर स्वयंसेवक बनेंगे एवं समाज में जाकर अच्छा काम करेंगे. अपने समाज में अस्पृश्यता के भाव को समाप्त करना है. हम कहते हैं कि प्राणी मात्र में ईश्वर है और अपने ही सम्प्रदाय या अपने हिन्दू धर्म को मानने वालों को कहें कि आप हमारे नहीं हैं तो ऐसा कहना ठीक नहीं है. अपनी शक्ति को कम नहीं होने देना. हिन्दुओं में कोई पतित नहीं है. समाज के सबसे दुर्बल लोगों की सेवा भी हमें ही करनी है. सेवा बस्ती के विकास के लिए काम करें. उन्होंने कहा कि जब हम शुद्धि की बात करते हैं तो हमारे मन एवं आचरण में शुद्धि होनी चाहिए. जैसे तालाब का पानी अगर अशुद्ध है तो सबके लिए अशुद्ध है. इसी प्रकार यदि समाज में कोई दोष है तो सबमें दोष आता है. अतः उस दोष के निवारण की चिन्ता करें.

कार्यक्रम में महानगर देहरादून की 57 शाखाओं ने प्रतिभाग किया. जिसमें स्वयंसेवकों ने शाखा के नियमित कार्यक्रम खेल, योग, आसन, समता, चर्चा, सुभाषित, गीत आदि कार्यक्रम किये. अन्त में सभी शाखाओं ने एक समय पर प्रार्थना की.

शाखा दर्शन कार्यक्रम में अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख सुरेश जी, क्षेत्र प्रचारक प्रमुख जगदीश जी, सम्पर्क प्रमुख शशिकान्त जी, प्रान्त प्रचारक युद्धवीर जी, सह प्रान्त प्रचारक देवेन्द्र जी, देहरादून महानगर के संघचालक आजाद सिंह जी सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे.

About The Author

Number of Entries : 3788

Leave a Comment

Scroll to top