अ.भा. प्रतिनिधि सभा 2017 – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यविभाग वृत्त Reviewed by Momizat on . राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यविभाग वृत्त (1) शारीरिक विभाग - प्रति पांच वर्ष में होने वाला अखिल भारतीय शारीरिक वर्ग इस वर्ष नवंबर मास में देवगिरी प्रांत के भुसा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यविभाग वृत्त (1) शारीरिक विभाग - प्रति पांच वर्ष में होने वाला अखिल भारतीय शारीरिक वर्ग इस वर्ष नवंबर मास में देवगिरी प्रांत के भुसा Rating: 0
You Are Here: Home » अ.भा. प्रतिनिधि सभा 2017 – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यविभाग वृत्त

अ.भा. प्रतिनिधि सभा 2017 – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यविभाग वृत्त

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यविभाग वृत्त

(1) शारीरिक विभाग – प्रति पांच वर्ष में होने वाला अखिल भारतीय शारीरिक वर्ग इस वर्ष नवंबर मास में देवगिरी प्रांत के भुसावल शहर में संपन्न हुआ. जिसमें 40 प्रांतों से 430 कार्यकर्ताओं ने भाग लिया. अपने विषय के अभ्यास के अतिरिक्त दंड, पदविन्यास, योगासन और खेल इन विषयों के शाखा में आयु अनुसार जो प्रयोग हो सकते हैं, उनका भी अभ्यास किया गया. वर्ग में पू. सरसंघचालक मा. मोहन जी भागवत, सरकार्यवाह तथा सह सरकार्यवाह वी भागय्या जी का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ.

(2) बौद्धिक विभाग – इस वर्ष 33 प्रांतों में बौद्धिक विभाग के कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण कार्यशालाओं का आयोजन हुआ. जिसमें 1483 कार्यकर्ता उपस्थित थे. चयनित कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण हेतु 5 वर्ग हुए, जिनमें 311 कार्यकर्ताओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया. 24 प्रांतों में आयु अनुसार बौद्धिक योजना करना प्रारंभ हुआ है. 6 प्रांतों में अलग से बौद्धिक पुस्तिका निकलती है.

(3) सेवा विभाग – लगभग 10 वर्ष के अंतराल से इस वर्ष प्रांत सेवा प्रमुखों का त्रिदिवसीय अभ्यास वर्ग कन्याकुमारी में संपन्न हुआ. इसमें पू. सरसंघचालक जी एवं सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय जी द्वारा मार्गदर्शन प्राप्त हुआ. कन्याकुमारी जिले में लगभग 6000 सेवाकार्य चलते हैं. वर्ग के पश्चात् एक दिन सभी कार्यकर्ता इन सेवाकार्यों के दर्शन हेतु गये थे. भाषा की कठिनाई होते हुए भी सभी ने आनंद की अनुभूति ली.

(4) प्रचार विभाग – वर्ष 2016-17 में प्रचार विभाग के द्वारा विविध प्रकार के उपक्रम किये गये.

नारद जयंति – नारद जयंति के 187 कार्यक्रमों में 6137 पत्रकारों के साथ 20183 नागरिक उपस्थित थे. उन कार्यक्रमों में 756 पत्रकारों को सम्मानित किया गया.

साहित्य बिक्री – 38 प्रांतों में 31622 कार्यकर्ताओं द्वारा लगभग एक करोड़ 40 लाख मूल्य की 6 लाख 17 हजार पुस्तकों की बिक्री हुई.

देश के 35 प्रतिशत ग्रामों तक जागरण पत्रिका पहुँचती है. देशभर में 20 स्थानों पर विश्व संवाद केन्द्र का कार्य चलता है.

इस वर्ष प्रचार विभाग के प्रयासों से 2 स्थानों पर लघु चित्रपट प्रदर्शन आयोजित किया. अ. भा. स्तर पर इन्दौर में 103 तथा राज्य स्तर पर तेलंगाणा, केरल, प. बंगाल में लघु चित्रपट दिखाये गये. आगामी वर्ष में और अन्य स्थानों पर भी करने का विचार है.

शिक्षित युवा वर्ग में संघ जानने की दृष्टि से उत्सुकता लगातार बढ़ रही है. संघ की अधिकृत वेबसाइट के उपयोग में अच्छी वृद्धि हुई है. फेसबुक द्वारा संपर्क रखने वाली संख्या में लगभग 4 लाख की वृद्धि हुई है. अब 12 लाख लोग संपर्क में है.

(5) संपर्क विभाग – इस वर्ष क्षेत्र और प्रांत स्तर संपर्क विभाग के कार्यकर्ताओं की कार्यशालायें तथा प्रशिक्षण वर्ग आयोजित किये थे.

विभिन्न निमित्तों से समाज के सभी श्रेणियों के गणमान्य व्यक्ति, संस्था प्रमुख और सहचिंतक महानुभावों से संपर्क हुआ. संघ के प्रति अनुकूलता तथा स्वागतशीलता का अनुभव आ रहा है.

पू. सरसंघचालक जी के प्रवास में प्रमुख स्थानों पर विशेष संपर्क की योजना बनी थी. विविध क्षेत्र के अग्रणियों से मुलाकात हुई. अत्यंत विधायक चर्चा और राष्ट्रीय प्रमुख विषयों पर सहमति का भी अनुभव इसमें प्राप्त हुआ.

सभी प्रांतों में वर्ष में एक दिन ‘संपर्क दिन’ के रूप में हो, ऐसी योजना अभी स्थायी रूप ले रही है. संपर्क विभाग के माध्यम से जिला स्थानों पर प्रबोधनात्मक एवं पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम संपन्न हो रहे है. गुजरात के महेसाणा में विभाग के प्रमुख व्यक्तियों से संपर्क कर दिनभर का एक प्रबोधनात्मक कार्यक्रम आयोजन किया. लगभग पाँच सौ गणमान्य नागरिक इसमें सम्मिलित हुए.

पू. सरसंघचालक जी के विजयादशमी के अवसर दिये गये उद्बोधन में आये मुद्दों पर दिल्ली में गणमान्य व्यक्तियों से चर्चा करने के कार्यक्रमों का आयोजन होता आया है. इस वर्ष से देश के कुछ प्रमुख स्थानों पर भी ऐसे चर्चा के कार्यक्रमों का आयोजन किया गया. मा. सरकार्यवाह जी मुंबई एवं पुणे तथा सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय जी, भागय्या जी एवं डॉ. कृष्णगोपाल जी बंगलुरु, चेन्नई, जयपुर, चंडीगढ़ और भाग्यनगर में हुए कार्यक्रमों में उपस्थित रहे. प्रति वर्ष यह आयोजन करने का विचार हुआ है.

About The Author

Number of Entries : 3722

Leave a Comment

Scroll to top