करनाल में सेवा भारती के प्रांत कार्यालय का उद्घाटन Reviewed by Momizat on . करनाल. अखिल भारतीय सहसेवा प्रमुख गुणवंत सिंह कोठारी जी ने कहा कि हमें एकजुट होकर स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं को अपनाना चाहिये तथा उनके बताये हुए दरिद्र नारायण करनाल. अखिल भारतीय सहसेवा प्रमुख गुणवंत सिंह कोठारी जी ने कहा कि हमें एकजुट होकर स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं को अपनाना चाहिये तथा उनके बताये हुए दरिद्र नारायण Rating: 0
You Are Here: Home » करनाल में सेवा भारती के प्रांत कार्यालय का उद्घाटन

करनाल में सेवा भारती के प्रांत कार्यालय का उद्घाटन

Udghatan Prant Karyalay Seva Bharatiकरनाल. अखिल भारतीय सहसेवा प्रमुख गुणवंत सिंह कोठारी जी ने कहा कि हमें एकजुट होकर स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं को अपनाना चाहिये तथा उनके बताये हुए दरिद्र नारायण देव भव: के वाक्यों का अनुसरण करना चाहिये. उन्होंने कहा कि सेवा का संस्कार जन्म से मिलता है.

श्री कोठारी जी रविवार, 21 दिसंबर को करनाल में अर्जुन गेट स्थित अभिमन्यु व्यायामशाला में सेवा भारती के नवनिर्मित प्रांत कार्यालय के उद्घाटन अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि आज देश में विकास तो है परन्तु दूसरी तरफ देश में झुग्गी-झोपड़ी विकास के नाम पर प्रश्न चिन्ह भी लगा रही है. हमारे देश में सामाजिक सद्भावना की कमी है. स्पर्श व अस्पर्श की भावनायें गलत है. उन्होंने कहा कि लोगों की सामाजिक मानवता मजबूत होनी चाहिये, तभी गरीब व्यक्ति को समाज की मूलधारा में लाया जा सकेगा. इस अवसर पर सेवा भारती के अखिल भारतीय कोषाध्यक्ष लक्षमण जी माल्या ने सेवा भारती के बारे में जानकारी दी और कहा कि सेवाभारती देश में जरूरतमंद परिवार के लोगों को किसी न किसी रूप में सेवा करने तथा उन्हें संस्कारों से जोड़ने का काम कर रही है.

unnamedहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि हमारा दायित्व समाज के अंत में खड़े हुए व्यक्ति को आगे बढ़ाना है. यह कार्य समाज में सामाजिक समरसता व समानता लाकर ही पूरा किया जा सकता है. समाज के हर वर्ग को चाहिये कि समुचित विकास में सरकार का सहयोग दें. उन्होंने कहा कि हमारी सेवा का उद्देश्य वहां पर दीप जलाना है, जहां पर अभी भी अन्धेरा है. इसके लिये समाज के सभी वर्गों को बिना किसी भेदभाव के आगे आने की जरूरत है. हमारा समाज कई वर्गो में बंटा है,यह सभी वर्ग अपनी व्यवस्था अपने आप चलाते हैं. कुछ वर्ग ऐसे शब्दों का प्रयोग करते हैं, जिनसे हृदय को ठेस पहुंचती है. समाज में किसी व्यक्ति को पिछड़ा, दलित, अति दलित ,कमजोर व गरीब कहें तो काफी रूढ़ लगता है. जबकि ऐसा शब्द व्यक्ति के सम्मान को भी ठेस पहुंचाता है. हमारा मकसद केवल इतना होना चाहिये कि समाज का कोई व्यक्ति शिक्षा, विकास, स्वास्थ्य, संस्कार आदि से यदि पिछड़ जाता है तो हमें सेवाभाव से उस व्यक्ति को समाज की मूलधारा में जोडऩा चाहिये,ना कि ऐसे व्यक्ति को वर्गों में बांटना चाहिये.

उन्होंने कहा कि मनुष्य को पूरे विश्व को अपना परिवार मानना चाहिये और जहां वह रह रहा है, उसका दायित्व है कि वह अपने आस-पास रह रहे परिवारों की सेवा करे. यह एक साइफन का रूप है. सरकार की समाज से अलग भूमिका होती है. व्यक्ति की छ: आवश्यकतायें हैं जिनमें रोटी, कपड़ा, मकान, शिक्षा, स्वास्थ्य, जिन्हें सरकार दे सकती है,परन्तु छठी चीज सम्मान को शायद सरकार न दे सके, उसे सामाजिक संगठन बखूबी दे सकते है. जब तक मनुष्य स्वयं अपने पैरों पर खड़ा नहीं होगा तब तक उसे सम्मान नहीं मिल सकता. जरूरत की सभी चीजें आपसी सहयोग व सरकार से मिल सकती है, इन्हें प्राप्त करने के लिये हाथ फैलाने की जरूरत है, परन्तु कभी भी समाज में हाथ फैलाकर सुविधा लेने से सम्मान नहीं मिलता. मुख्यमंत्री ने सेवा भारती संगठन को करनाल विकास निधि फंड से 5 लाख रुपये की राशि देने की घोषणा की.

सांसद अश्विनी चौपड़ा ने कहा कि समाज में अभिन्नता व जातिवाद समाज में बिखराव पादा करता है. ऐसे लोग जो अपनी रोजी-रोटी का इंतजाम नहीं कर सकते, सेवा भारती उनके लिये पूरे देश में सहयोग कर रही है ताकि समाज के वंचितों को सेवाभाव से उपर उठाया जाये. उन्होंने कहा कि स्वयं उनके द्वारा भी चौपाल व वरिष्ठ नागरिक केसरी कल्ब एनजीओ के माध्यम से समाज के जरूरतमंद लोगों की सेवा की जा रही है. उन्होंने भी सांसद निधि कोष से 5 लाख रुपये की राशि सेवाभारती संगठन को देने की घोषणा की.

इस अवसर पर सेवाभारती के प्रदेश महामंत्री श्री नरेश कुमार ने बताया कि देश में सेवा भारती नर सेवा, नारायण सेवा का ध्येय लेकर काम कर रही है. देश में सेवाभारती के माध्यम से बाल संस्कार केन्द्र,बाल विद्यालय, टयूशन सेन्टर, सिलाई कढ़ाई, रूप सज्जा केन्द्र, कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र व भजन मंडलियों के माध्यम से जन-जागरण किया जाता है. उन्होंने बताया कि इस समय हरियाणा में 362 सेवा प्रकल्प

हैं, जिनमें शिक्षा के 144, स्वास्थ्य के 38, रोजगार परक 119 तथा सामाजिक समरसता के 61 प्रकल्प चल रहे हैं. उन्होंने कहा कि सेवाभारती का उद्देश्य गरीब, वंचित परिवारों को सहयोग करके समाज की मूलधारा में जोडऩा है.

श्री गुणवंत जी कोठारी, मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल जी एवं अन्य ने कार्यक्रम से पहले सेवाभारती के नवनिर्मित भवन का विधिवत उद्घाटन किया. इसके उपरांत मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्जवलित करके कार्यक्रम का शुभारम्भ किया. कार्यक्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रम, देशभक्ति के गीत, नाटक भी प्रस्तुत किये गये. सेवाभारती के अध्यक्ष डॉ. बुद्ध सिंह ने आगत सभी अतिथियों का धन्यवाद किया. मंच का संचालन सेवाभारती के प्रदेश के प्रचार प्रमुख ओम प्रकाश अत्रेजा ने किया.

इस अवसर पर सेवा भारती के अखिल भारतीय संगठन मंत्री सुंदर लक्ष्मण जी, अ. भा. महामंत्री श्री ऋषिपाल डडवाल जी, सह सचिव रेनू पाठक, पूर्व केन्द्रीय राज्य मंत्री आई डी स्वामी, विधायक हरविन्द्र कल्याण, विधायक भगवान दास कबीरपंथी, मेयर रेनू बाला गुप्ता,बृज गुप्ता,पूर्व विधायक रमेश कश्यप, शशिपाल मेहता, डिप्टी मेयर कृष्ण गर्ग, जगदेव पाढा, जगमोहन आनंद, चंद्रप्रकाश कथूरिया, आदि व प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा काफी संख्या में समाज सेवी उपस्थित थे.

About The Author

Number of Entries : 3868

Leave a Comment

Scroll to top