जनजाति बन्धुओं के उत्थान हेतु 15 एकड़ जमीन विद्याभारती को दान Reviewed by Momizat on . (पूर्व कुलपति डॉ. सुरेश्वर शर्मा जी का सराहनीय कार्य) जबलपुर (विसंकें). विद्या भारती महाकौशल प्रान्त के महाकौशल वनांचल शिक्षा सेवा न्यास को पूर्व कुलपति रानी दु (पूर्व कुलपति डॉ. सुरेश्वर शर्मा जी का सराहनीय कार्य) जबलपुर (विसंकें). विद्या भारती महाकौशल प्रान्त के महाकौशल वनांचल शिक्षा सेवा न्यास को पूर्व कुलपति रानी दु Rating: 0
You Are Here: Home » जनजाति बन्धुओं के उत्थान हेतु 15 एकड़ जमीन विद्याभारती को दान

जनजाति बन्धुओं के उत्थान हेतु 15 एकड़ जमीन विद्याभारती को दान

(पूर्व कुलपति डॉ. सुरेश्वर शर्मा जी का सराहनीय कार्य)

जबलपुर (विसंकें). विद्या भारती महाकौशल प्रान्त के महाकौशल वनांचल शिक्षा सेवा न्यास को पूर्व कुलपति रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर डॉ. सुरेश्वर शर्मा जी ने शहडोल जिले में 15 एकड़ जमीन शिक्षा हेतु दान दी. उनका मुख्य उद्देश्य जनजाति बन्धुओं के सामाजिक उत्थान एवं शैक्षणिक उन्नयन हेतु प्रयास करना है. सुरेश्वर जी ने कहा कि देश में शिक्षा ही एक ऐसा अंग है जो समाज के प्रत्येक व्यक्ति का विकास कर सकती है. हमारा जब जन्म हुआ, तब हमारी माता दूध नहीं पिला पा रही थीं. तब हमारे क्षेत्र की गोड़, पनिका, भील, कोल, किरात, निषाद आदि समाज की लगभग 15 माताओं ने हमें दूध पिलाकर बड़ा किया. आज हम उनका कर्ज उतारने का प्रयास कर रहे हैं. मेरा बचपन और मेरा लालन पालन इन्हीं वनवासी समाज के बीच हुआ है, यह हमारा सौभाग्य है कि हमारे इस पवित्र कार्य के लिए विद्या भारती जनजाति बन्धुओं के लिए कार्य करेगी, एवं मधुवन के रूप में इस जगह को विकसित कर जनजाति समाज की शिक्षा, संस्कृति और उन्नति के लिए सभी प्रकार के कार्य यहां प्रारम्भ किए जाएंगे. सुरेश्वर शर्मा जी ने 15 एकड़ जमीन के दस्तावेज विद्या भारती कार्यालय में सादगीपूर्ण आयोजित समारोह में सौंपे. इस दौरान विद्या भारती के संगठन मंत्री डॉ. पवन तिवारी, सक्षम के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. पवन स्थापक जी सहित अन्य उपस्थित थे.

About The Author

Number of Entries : 3868

Leave a Comment

Scroll to top