तटस्थ पत्रकारिता आज की आवश्यकता – विजय रुपाणी जी Reviewed by Momizat on . गुजरात (विसंकें). विश्व संवाद केंद्र, गुजरात द्वारा नारद जयंती के अवसर पर पत्रकार सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस वर्ष सम्मानित पत्रकारों में जपनभाई पाठक गुजरात (विसंकें). विश्व संवाद केंद्र, गुजरात द्वारा नारद जयंती के अवसर पर पत्रकार सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस वर्ष सम्मानित पत्रकारों में जपनभाई पाठक Rating: 0
You Are Here: Home » तटस्थ पत्रकारिता आज की आवश्यकता – विजय रुपाणी जी

तटस्थ पत्रकारिता आज की आवश्यकता – विजय रुपाणी जी

गुजरात (विसंकें). विश्व संवाद केंद्र, गुजरात द्वारा नारद जयंती के अवसर पर पत्रकार सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस वर्ष सम्मानित पत्रकारों में जपनभाई पाठक (Cyber Journalism), आरती बहन पटेल (Radio Journalism), कौशिक भाई मेहता, संपादक फूलछाब (Print Media), निर्णय कपूर, Sub-Editor (Electronic Media), नगेन्द्र विजयजी (सफारी मैगज़ीन) तथा झवेरीलाल मेहता (Photo Journalist, Gujarat Samachar) को Life Time Achievement पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता गुजरात के मुख्यमंत्री विजयभाई रुपाणी जी ने विश्व संवाद केंद्र तथा सम्मानित पत्रकारों को बधाई दी. उन्होंने कहा कि विश्व में सबसे बड़ा लोकतंत्र हमारे देश में है, मीडिया अपना कार्य निर्पेक्ष भाव से करे इसके लिए मीडिया के साथ संवाद जरुरी है और इस दृष्टी से नारद जयंती के माध्यम से मीडिया के मित्रों के साथ जो संवाद का, राष्ट्र चिंतन का अवसर मिला, इसके लिए विश्व संवाद केंद्र को अभिनंदन. सन् 1925 मे संघ की स्थापना हुई, तब से आज तक संघ के विषय में अनेक बातें होती रहती हैं. परन्तु संघ विचलित हुए बिना अपना कार्य कर रहा है. अनेक क्षेत्रों में कार्य कर रहा है, उसी में से एक है विश्व संवाद केंद्र.

आज के समय के अनुसार वास्तव में नारद जी Information के व्यक्ति थे. उन्होंने अपनी जानकारी के माध्यम से मानव जाति के कल्याण के लिए कार्य किया. उन्होंने कभी नकारात्मक विचारों का प्रचार नहीं किया, इसीलिए हम उन्हें ऋषि कहते हैं. ऋषि का मतलब ही यह है कि जो राष्ट्र, समाज के लिए सकारात्मक विचार दे.

आज मीडिया का समाज जीवन पर गहरा प्रभाव देखने को मिलता है. दुनिया के किसी भी कोने में घटित होने वाली घटना कुछ ही पल में हम तक पहुंच जाती है. घटित होने वाली घटना के विषय में सही जानकारी देना, यह मीडिया के क्षेत्र में कार्य करने वाले बंधुओं का दायित्व है. आज राजनीती में, मीडिया में, न्याय के क्षेत्र में कार्य करने वाले सभी लोग समाज के कल्याण के लिए कार्य कर रहे हैं. इसलिए समाज को ध्यान में रखकर ही अपनी प्रस्तुति होनी चाहिए.

कार्यक्रम में विशेष अतिथि क्षेत्र संघचालक जयंतीभाई भाड़ेसिया जी ने कहा कि हमारे शस्त्रों के अनुसार प्रत्येक क्षेत्र में कोई न कोई आदि गुरु रहा है. जैसे कृषि क्षेत्र में बलराम जी, शिक्षा के क्षेत्र में मां सरस्वती ऐसे ही पत्रकारिता (सूचना संवाद) के क्षेत्र में नारद जी. कार्यक्रम में मीडिया क्षेत्र के बंधुओं सहित बड़ी संख्या में गणमान्य लोग उपस्थित रहे.

About The Author

Number of Entries : 5054

Leave a Comment

Scroll to top