…तो क्या हिन्दू एक भी हिन्दू राष्ट्र नहीं बना सकते – चारुदत्त पिंगले Reviewed by Momizat on . भुवनेश्वर (विसंकें). हिन्दूवादी तथा हिन्दू संगठन के प्रतिनिधियों का महाधिवेशन गोवा के पोंडा स्थित रामनाथी में आयोजित किया गया. महाधिवेशन में श्रीलंका, बांग्लादे भुवनेश्वर (विसंकें). हिन्दूवादी तथा हिन्दू संगठन के प्रतिनिधियों का महाधिवेशन गोवा के पोंडा स्थित रामनाथी में आयोजित किया गया. महाधिवेशन में श्रीलंका, बांग्लादे Rating: 0
You Are Here: Home » …तो क्या हिन्दू एक भी हिन्दू राष्ट्र नहीं बना सकते – चारुदत्त पिंगले

…तो क्या हिन्दू एक भी हिन्दू राष्ट्र नहीं बना सकते – चारुदत्त पिंगले

भुवनेश्वर (विसंकें). हिन्दूवादी तथा हिन्दू संगठन के प्रतिनिधियों का महाधिवेशन गोवा के पोंडा स्थित रामनाथी में आयोजित किया गया. महाधिवेशन में श्रीलंका, बांग्लादेश के साथ भारत के 21 राज्यों से 200 हिन्दू संगठनों के 390 प्रतिनिधियों ने भाग लेकर विचार वमर्श किया. अधिवेशन में शामिल पदाधिकारियों ने भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करने पर जोर दिया. हिन्दू जागृत समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक चारुदत्त पिंगले ने कहा कि यदि क्रिश्चियन 157, मुसलमान 52 देश बना सकते हैं, तो क्या हिन्दू एक भी राष्ट्र नहीं बना सकते. सम्मेलन में प्रतिनिधियों ने देश में एक समान सिविल कोड, कश्मीरी हिन्दुओं के पुनर्वास, जम्मू- काश्मीर से धारा 370 हटाने के साथ क्रिश्चियन मिशनरी के कार्यक्रम, लव जिहाद, घर वापसी, बांग्लादेशी अनुप्रवेश, पाकिस्तान, बांग्लादेश एवं श्रीलंका में रहने वाले हिन्दुओं के प्रति हो रहे अत्याचार आदि पर अकुंश लगाने के लिए आवश्यक कदम उठाने की मांग भारत सरकार से की.

अधिवेशन में भारत रक्षा मंच के सह संयोजक मुरली मनोहर शर्मा ने राष्ट्रवाद एवं हिन्दुओं के अधिकारों की सुरक्षा के क्षेत्र में मोदी सरकार की तरफ से एक साल में उठाए विभिन्न कदमों पर प्रकाश डाला. इससे पहले यूपीए सरकार के पांच साल के कार्यकाल में मात्र एक हजार पाकिस्तानी एवं अफगानिस्तानी हिन्दुओं को भारत की नागरिकता दी थी, मगर मोदी सरकार ने मात्र एक साल में 4000 पाकिस्तानी एवं अफगानिस्तानी हिन्दुओं को भारत की नागरिकता दी है. विदेश से धन लाकर मिशनरी कार्यक्रम में खर्च करने वाले कुछ स्वेच्छासेवी सगंठनों पर अंकुश लगाने के लिए एनजीओ पर केंद्र सरकार ने रोक लगाई है. मोदी सरकार द्वारा घोषित गंगा एक्शन प्लान एवं कैलाश मानसरोवर को नया रास्ता निर्माण बनाया है. बांग्लादेशी अनुप्रवेशकारियों पर रोक लगाने के लिए मोदी सरकार ने कई तरह के कदम उठाए हैं. हाल ही में भारत एवं बांग्लादेश के बीच हुए करारनामे के अनुसार दोनों देश की सीमा को घेरने का निर्णय लिया जा चुका है. विश्व योग दिवस को राष्ट्र संघ की मुहर मोदी सरकार की नीति की विश्वस्तरीय सफलता है. उसी तरह हिन्दू राष्ट्र नेपाल में टूट गए मंदिरों को ठीक करने में मदद देने का भी मोदी सरकार ने आश्वासन दिया है.

इस अवसर पर प्रतिनिधियों ने रामजन्म भूमि प्रसंग पर केन्द्र सरकार की चुप्पी एवं काश्मीर में पीडीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के प्रसंग पर भी चर्चा की. भारत रक्षा मंच के राष्ट्रीय सह संयोजक मुरली शर्मा ने कहा कि काश्मीर समस्या के समाधान के लिए राजनीतिक उपाय पर भाजपा एवं पीडीपी सरकार का प्रयास जारी है. सीमा पार सरकार ने जैसा को तैसा की नीति को अख्तियार किया है.

About The Author

Number of Entries : 3628

Leave a Comment

Scroll to top