दुश्मन देश भारत का बाल भी बांका नहीं कर सकता – मेजर जनरल जी.डी. बख्शी जी Reviewed by Momizat on . समरस गंगा महोत्सव के अवसर पर शहीद सैनिक परिवारों, पूर्व सैनिकों का सम्मान वीर सैनिकों के गांव की रज (मिट्टी) कलशों में लाई गई पलवल, हरियाणा (विसंकें). मेजर जनरल समरस गंगा महोत्सव के अवसर पर शहीद सैनिक परिवारों, पूर्व सैनिकों का सम्मान वीर सैनिकों के गांव की रज (मिट्टी) कलशों में लाई गई पलवल, हरियाणा (विसंकें). मेजर जनरल Rating: 0
You Are Here: Home » दुश्मन देश भारत का बाल भी बांका नहीं कर सकता – मेजर जनरल जी.डी. बख्शी जी

दुश्मन देश भारत का बाल भी बांका नहीं कर सकता – मेजर जनरल जी.डी. बख्शी जी

समरस गंगा महोत्सव के अवसर पर शहीद सैनिक परिवारों, पूर्व सैनिकों का सम्मान

वीर सैनिकों के गांव की रज (मिट्टी) कलशों में लाई गई

पलवल, हरियाणा (विसंकें). मेजर जनरल जी.डी. बख्शी जी ने कहा कि भारत ने युद्ध में पाकिस्तान के दो टुकड़े किए थे. अगर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आता है तो हमारी युवा पीढ़ी अबकी बार उसके चार टुकड़े करके आए. मेजर जर्नल जी.डी. बख्सी नेताजी सुभाष चन्द्र बोस स्टेडियम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा आयोजित समरस गंगा महोत्सव के अवसर पर शहीद सैनिक परिवारों, पूर्व सैनिकों के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित कर रहे थे. समरस गंगा महोत्सव कार्यक्रम में हजारों की संख्या में लोगों ने देश के शहीदों को नमन किया. हजारों की संख्या में माताओं – बहनों और समाज के लोगों ने कार्यक्रम की शोभा बढाई.

महोत्सव में जिले के 42 शहीद सैनिकों के गांवों की रज को कलश में भरकर रथ यात्रा द्वारा ढोल नगाड़ों के साथ नेताजी सुभाष चंद स्टेडियम में निर्मित भारत माता मंदिर में लाकर सरयू नदी के जल द्वारा मंत्र उच्चारण के साथ पूजन किया गया. पूजन में इलाके के संत समाज व पुजारियों ने अपनी सहभागिता निभाई. हजारों महिलाएं कलश यात्रा लेकर आयोजन स्थल पर पहुंचीं. भारत माता के जयघोष के साथ पूर्व सैनिक अपनी वर्दी में मैडल सहित तैयार होकर कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे. महोत्सव में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे सामाजिक संस्थान, विद्यार्थी, पूर्व सैनिकों एवं शहीद सैनिक के परिवारों का पूर्ण योगदान रहा. महोत्सव में ना केवल शहीद परिवारों को बल्कि समाज में विशेष योगदान देने वाली महान विभूतियों को भी मुख्य अतिथि मेजर जनरल जी.डी. बख्शी द्वारा सम्मानित किया गया. जिससे उनसे प्रेरणा लेकर नई पीढ़ी भी समाज हित के बारे में सोचे और समाज हित के लिए कार्य करे.

उन्होंने कहा कि हमारे देश की 1.3 अरब आबादी में से 50 प्रतिशत 25 साल से कम उम्र के युवा हैं. अगर वह एकजुट हो जाएं तो कोई भी दुश्मन देश भारत का बाल बांका नहीं कर सकता. पाकिस्तान की मानसिकता पर सवाल उठाते हुए कहा कि न केवल भारत, बल्कि दुनिया को इस विषय पर सोचना होगा. आजादी के लिए आजाद हिन्द फौज के 60 हजार सैनिकों ने जान हथेली पर रखकर युद्ध में 23 हजार सैनिकों की कुर्बानी के साथ लड़ाई लड़ी थी, तब ही देश को आजादी मिली थी. आजाद हिन्द फौज के पूर्व सैनिकों व शहीद सैनिकों के परिवारों को भी उचित सम्मान मिलना चाहिए. उन्होंने गत दिनों जाधव के परिजनों के साथ पाकिस्तान द्वारा किए गए बर्ताव की आलोचना की. उन्होंने कहा कि यह पाकिस्तान द्वारा जाधव के प्रति मानसिक टॉर्चर था.

इस अवसर पर महामंडलेश्वर स्वामी धर्मदेव महाराज जी ने कहा कि सुभाष चन्द्र बोस ने तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा का नारा दिया था. जबकि आज हमें खून की नहीं, देश हित के लिए युवा पीढ़ी के पसीने की आवश्यकता है. कार्यक्रम में अनेक गणमान्यजन उपस्थित थे.

भगवा रंग में रंगा शहर

कार्यक्रम स्थल पर 4 मंच बनाए गए. एक मंच पर शहीद सैनिकों के परिवार, दूसरे मंच पर सांस्कृतिक कार्यक्रम, तीसरे मंच पर संत और सैनिक व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उच्च अधिकारी विराजमान थे. इस महोत्सव में 298 गांव से कलश लेकर पांच रथ ढोल नगाड़ों के साथ महोत्सव स्थल पर पहुंचे. इस अवसर पर कान्हा दादा की पालकी लेकर आए लोगों में बहुत उत्साह था. दादा कान्हा की पालकी लेकर आते समय वंदेमातरम् और भारत माता की जय के नारों के साथ जयघोष करते हुए पहुंचे.

About The Author

Number of Entries : 3788

Leave a Comment

Scroll to top