धर्म शब्द हिन्दू समाज को एक सूत्र में पिरोने वाला है – जगन्नाथ शाही जी Reviewed by Momizat on . रांची (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व विहिप के समन्वय मंच के संरक्षक जगन्नाथ शाही जी ने होटल ग्रीन एंकर के सभागार में रांची की लगभग 35 म रांची (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व विहिप के समन्वय मंच के संरक्षक जगन्नाथ शाही जी ने होटल ग्रीन एंकर के सभागार में रांची की लगभग 35 म Rating: 0
You Are Here: Home » धर्म शब्द हिन्दू समाज को एक सूत्र में पिरोने वाला है – जगन्नाथ शाही जी

धर्म शब्द हिन्दू समाज को एक सूत्र में पिरोने वाला है – जगन्नाथ शाही जी

रांची (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व विहिप के समन्वय मंच के संरक्षक जगन्नाथ शाही जी ने होटल ग्रीन एंकर के सभागार में रांची की लगभग 35 मत पंथ सम्प्रदाय की सम्मानित सामाजिक, सांस्कृतिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों के बीच हिन्दू समाज को एक सूत्र में पिरोने वाले धर्म शब्द की व्याख्या करते हुए कहा कि यूरोप व अमेरिका के 100 से अधिक विश्वविद्यालयों में पीठ स्थापित की गई हैं, जिनके अनुसंधान का विषय ही भारत के लोगों के बीच दरार पैदा करना है. “रिलिजन” यानि पूजा पद्धति मानने वाले विशेष वर्ग में विभाजित करना है, जबकि इसका हिन्दी में अर्थ कदापि धर्म शब्द नहीं हो सकता है.

उन्होंने कहा कि धर्म का अर्थ तो मनुष्य को हर क्षेत्र में उच्चतम स्तर तक ले जाने का मार्ग है. चाहे वह भौतिक हो, लौकिक हो या अलौकिक. इससे सारी मनुष्य जाति को लाभान्वित करके उसके दुःखों से नितान्त मुक्ति का मार्ग है. दुःख है, दुःख का कारण है, कारण है तो उसका निवारण भी अवश्य है और उसी निवारण के मार्ग पर चलने का मार्ग ही धर्म है. भारत के हर ऋषि – मुनि व संत – महात्माओं ने सिर्फ दुःखों से नितान्त मुक्ति का मार्ग बताया है. स्वामी विवेकानंद जी की शिक्षाओं का मूल भी यही है, भारत माता की संतानों के दुःखों का निवारण हो, सभी सुखी हों. इसके लिए आवश्यक है कि सारा समाज जो आज मत-पंथ-सम्प्रदाय में बंट गया है, अपने मूल स्वरूप यानि व्यक्ति की दुःखों से मुक्ति को मूल मानकर आपस में समन्वय बनाए. इस दुर्गम कार्य को सुगम बनाने के लिए ही विश्व हिन्दू परिषद् ने “समन्वय मंच” नाम से एक आयाम बनाया है.

सभा में जगन्नाथ शाही जी के साथ विहिप झारखंड के उपाध्यक्ष ध्रुवदेव तिवारी जी, मंत्री डॉ. बिरेन्द्र साहू जी, संगठन मंत्री केशव राजू जी, समन्वय मंच प्रान्त प्रमुख अशोक कुमार अग्रवाल जी ने भी संबोधित किया. कार्यक्रम में संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने अपनी अपनी संस्थाओं द्वारा समाज हित में किये जा रहे सामाजिक कार्यों का विवरण प्रस्तुत किया.

About The Author

Number of Entries : 3722

Leave a Comment

Scroll to top