पहली बरसी पर ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा जी को याद किया Reviewed by Momizat on . जालन्धर (विसंकें). लाडोवाली रोड पर स्थित सर्वहितकारी विद्या मंदिर में स्व. ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा जी की पहली बरसी पर हवन यज्ञ एवं श्रद्धांजलि कार्यक्रम सम्पन्न जालन्धर (विसंकें). लाडोवाली रोड पर स्थित सर्वहितकारी विद्या मंदिर में स्व. ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा जी की पहली बरसी पर हवन यज्ञ एवं श्रद्धांजलि कार्यक्रम सम्पन्न Rating: 0
You Are Here: Home » पहली बरसी पर ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा जी को याद किया

पहली बरसी पर ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा जी को याद किया

जालन्धर (विसंकें). लाडोवाली रोड पर स्थित सर्वहितकारी विद्या मंदिर में स्व. ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा जी की पहली बरसी पर हवन यज्ञ एवं श्रद्धांजलि कार्यक्रम सम्पन्न हुआ. इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांतीय अधिकारी, सामाजिक संगठनों के प्रमुख कार्यकर्ता एवं स्वयंसेवक उपस्थित रहे.

श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए प्रांत संघचालक स. बृजभूषण सिंह बेदी जी ने गगनेजा जी को अपना निकटतम सहयोगी बताया, जिनके जाने से उनको व संगठन को व्यक्तिगत रूप से क्षति पहुंची है. उन्होंने कहा कि गगनेजा जी अपनी ध्येयनिष्ठा तथा कार्यों के बल पर संगठन में काफी ऊंचे स्तर पर जाने का सामर्थ्य रखते थे.

प्रांत कार्यवाह विनय जी ने उनके सहज व सरल व्यवहार की चर्चा करते हुए कहा कि चाहे वे सेना से आए थे और उनकी बातचीत में एक सैनिक का भाव झलकता था, पर उनके अन्दर की कोमलता उनके नजदीक जाने पर अनुभव की जा सकती थी, अनेक मौके पर मैंने यह महसूस किया था. गगनेजा जी को संघ में पुन: सक्रिय करने वाले उस समय के विभाग प्रचारक तथा वर्तमान में विद्या भारती के उत्तर क्षेत्र संगठन मंत्री विजय सिंह जी ने कहा कि गगनेजा जी सेना और संघ दोनों को देश सेवा का माध्यम मानते थे. इसलिए सेना से सेवानिवृत होने के बाद जब उन्हें संघ कार्य का दायित्व मिला तो वह पुन: उसी भाव से कार्य में जुट गए. संगठन ने उन्हें जो भी दायित्व दिया, उसको उन्होंने प्रमाणिकता से निभाया. इस अवसर पर विजय जी ने गगनेजा जी की याद में संगठन तथा स्वयंसेवकों की इच्छा अनुसार लाडोवाली रोड स्थित सर्वहितकारी विद्या मन्दिर का नाम ‘ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा सर्वहितकारी विद्या मन्दिर’ करने की घोषणा की. इस अवसर पर भाजपा, विश्व हिन्दू परिषद, राष्ट्रीय सिख संगत समेत अनेक संगठनों के प्रमुख कार्यकर्ता तथा संघ के स्वयंसेवकों, गणमान्यजनों ने अपने श्रद्धासुमन अर्पित किये.

About The Author

Number of Entries : 3715

Leave a Comment

Scroll to top