प्रवासी छात्रों ने जानी उत्तराखण्ड की संस्कृति Reviewed by Momizat on . देहरादून (विसंकें). उत्तराखंड की जलवायु, देवी-देवता दुनिया के लिए जिज्ञासा का विषय रहे हैं. अमेरिका जैसे समृद्ध देश भी इन विषयों पर शोध करने की इच्छा जता चुके ह देहरादून (विसंकें). उत्तराखंड की जलवायु, देवी-देवता दुनिया के लिए जिज्ञासा का विषय रहे हैं. अमेरिका जैसे समृद्ध देश भी इन विषयों पर शोध करने की इच्छा जता चुके ह Rating: 0
You Are Here: Home » प्रवासी छात्रों ने जानी उत्तराखण्ड की संस्कृति

प्रवासी छात्रों ने जानी उत्तराखण्ड की संस्कृति

देहरादून (विसंकें). उत्तराखंड की जलवायु, देवी-देवता दुनिया के लिए जिज्ञासा का विषय रहे हैं. अमेरिका जैसे समृद्ध देश भी इन विषयों पर शोध करने की इच्छा जता चुके हैं. अब अमेरिका में उत्तराखण्ड के प्रवासी छात्र वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये यहां की संस्कृति से रूबरू हुए. पौड़ी गढ़वाल के द्वारीखाल ब्लॉक के तिमली विद्यापीठ के छात्रों ने प्रवासी छात्रों को उत्तराखण्ड की संस्कृति के बारे में जानकारी दी. उन्होंने वीडियो कांफ्रेंस की मदद से अमेरिका के उत्तराखण्डी प्रवासियों को जानकारी दी.

विद्यापीठ के आशीष डबराल ने बताया कि उत्तराखण्डी संस्कृति को प्रवासी छात्रों तक पहुंचाने के लिए प्रयास किया जा रहा है. सप्ताह में एक बार इस तरह का कार्यक्रम चलाया जाएगा. जिससें प्रवासी उत्तराखण्डी अपने राज्य के बारे में अधिक जानकारी जुटा सकें. अमेरिका के न्यू जर्सी स्थित ब्रंसविक हाईस्कूल की श्रुति पटवाल, युक्ता चंद और मोरिस काउंटी स्कूल ऑफ टैकनोलॉजी के नील, तिमली विद्यापीठ की रिया, निधी, मोहित और सोनम आदि कांफ्रेंसिंग के दौरान उत्साहित नजर आए. अमेरिका और उत्तराखण्ड के छात्रों के परिजनों ने विद्यापीठ के आशीष डबराल के प्रयास को सराहनीय बताया.

About The Author

Number of Entries : 3679

Leave a Comment

Scroll to top