भारत का समाज नैतिक मूल्यों पर चलने वाला है – सुरेश भय्याजी जोशी Reviewed by Momizat on . नई दिल्ली. राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच द्वारा आयोजित संगोष्ठी ‘मंथन’ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि सेना को सीमान्त क् नई दिल्ली. राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच द्वारा आयोजित संगोष्ठी ‘मंथन’ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि सेना को सीमान्त क् Rating: 0
You Are Here: Home » भारत का समाज नैतिक मूल्यों पर चलने वाला है – सुरेश भय्याजी जोशी

भारत का समाज नैतिक मूल्यों पर चलने वाला है – सुरेश भय्याजी जोशी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच द्वारा आयोजित संगोष्ठी ‘मंथन’ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि सेना को सीमान्त क्षेत्र के नागरिकों का सहयोग सीमा की सुरक्षा के लिए आवश्यक है. सीमावर्ती क्षेत्र में रहने वाले ग्राम वासियों का सहयोग जितना सीमावर्ती सेना को मिलता रहेगा, उतना उसका लाभ होगा. पड़ोसी अगर हमको दुश्मन मानता है तो यह चिंता का विषय है. देश के अंदर कई प्रकार के अराष्ट्रीय तत्त्व सुरक्षा चुनौती बने हुए हैं, इसमें हमारी ही कमी है. सरकार से ज्यादा समाज की जागरूकता आंतरिक सुरक्षा के लिए आवश्यक है.

उन्होंने कहा कि सीमा से लगे देश हमें जब दुश्मन मानते हैं तो समस्याएं और बढ़ जाती हैं. भारत ने कभी पाकिस्तान को दुश्मन नहीं माना है. लेकिन पाकिस्तान ने भारत को हमेशा दुश्मन ही माना है. चीन को कभी हमने दुश्मन नहीं माना, लेकिन चीन ने व्यवहार ऐसा किया कि लगता है वह दुश्मन के रूप में हमारे सामने खड़ा है. बांग्लादेश का व्यवहार भिन्न प्रकार का है जो देश के लिए हितकर नहीं है, घुसपैठ के रूप में शांत आक्रमण. पड़ोसी मित्र बनने चाहिएं, लेकिन मित्रता एकपक्षीय नहीं होती, भारत मित्रता में कभी बाधा नहीं बना. यह दुनिया को बताने की आवश्यकता है.

सरकार्यवाह जी ने कहा कि आज बिना शस्त्रों के जो आक्रमण हो रहा है, उसे भी समझने की आवश्यकता है. मादक पदार्थों की तस्करी, फेक करंसी, गो तस्करी करने वाले कौन हैं? अंदर आए हुए और सीमा के अंदर ही रहकर इस देश के साथ गद्दारी करने वाले तत्व इस देश में विद्यमान हैं, यह हम सबके सामने एक बड़ा संकट है. इस देश की संस्कृति, परम्पराओं को नष्ट करने के लिए कई प्रकार के प्रयोग चल रहे हैं. मनुष्य ज्ञानी बने, इसके हम विरोधी नहीं हैं. लेकिन जब मूल्यों में क्षरण आता है, जीवन में पतन की प्रक्रिया प्रारम्भ होती है यह किसी भी देश के लिए हानिकारक है. किस प्रकार का साहित्य विदेशों से आता है? दूरदर्शन पर किस प्रकार के भिन्न-भिन्न चित्र दिखाए जाते हैं? भारत में विदेशी चैनल देखने के प्रति बढ़ते रुझान से सावधान रहने की आवश्यकता है. दुनिया में केवल एकमात्र देश ऐसा है, जिस देश के दो नाम हैं, एक भारत है – एक इंडिया है., भारत कहने से प्राचीन सारी बातों से समाज जुड़ता है, उसको उस जड़ से काटने का एक सफल प्रयास अंग्रेजों ने किया. आज भी हम इंडिया छोड़ने को तैयार नहीं हैं. अंग्रेजों द्वारा यह स्थापित करने का प्रयास किया गया कि कोई भारत का नहीं है, सभी बाहर से आए हैं. यह आर्यव्रत है तो आर्य भी तो उत्तर ध्रुव से आए. फिर मुग़ल आए, फिर अंग्रेज, आप पुराने हम नए, इस मिथक को स्थापित किया अंग्रेजों ने. इस षड्यंत्र के आगे समाज का प्रबुद्ध वर्ग झुक गया और मानने लगा कि हम भी बाहर से आए. यह देश बार-बार खड़ा कैसे होता है? देश में सक्रिय विघटनकारी शक्तियों को पता लग चुका है कि यह देश न शस्त्रों के भय से समाप्त हुआ है, न मिथक फ़ैलाने से समाप्त हुआ, भारत नैतिक मूल्यों पर चलने वाला देश है. इस देश के नैतिक जीवन मूल्यों को समाप्त करो, देश समाप्त हो जाएगा, आज जो युद्ध चल रहा है, यह इस प्रकार का युद्ध है.

भय्याजी ने कहा कि आज जो इतनी बड़ी मात्रा में व्यसनाधीनता हुई है, समाज भोगवाद का शिकार बना है और इस कारण व्यक्ति आत्म केंद्रित बनता जा रहा है, यह चुनौती हमारे सामने है. इससे अगर समाज को सुरक्षित रखना है तो स्वाभाविक रूप से सामाजिक और धार्मिक नेतृत्व को सफलतापूर्वक आगे आना होगा.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य इन्द्रेश कुमार जी ने कहा कि देश की सुरक्षा को सबसे ज्यादा खतरा आधुनिक जयचंदों और मीरजाफरों से है. इसके लिए राष्ट्रवाद से युक्त और देश की सुरक्षा से समझौता न करने वाले देश का निर्माण करने की आवश्यकता है. समाज के अंदर देश प्रेम हिलोरें ले और सभी सजग नागरिक बनकर रहें, यह इस कार्यक्रम का उद्देश्य है. उन्होंने कहा कि भारत ही एकमात्र देश है, जिसने सभी धर्मों को स्वीकारा व सम्मान दिया है. अपने जीवन नैतिक मूल्यों के कारण सबसे ज्यादा लोगों को शरण भारत ने ही दी है. जीवन मूल्यों के ह्रास के कारण क्राइम और करप्शन बढ़ा है. टेक्नोलॉजी विकास का साधन बने विनाश का नहीं, यूरोप के देशों की सीमाएं आर्मी रहित हैं, भारत को बहुत बड़ी राशि सीमा की रक्षा के लिए खर्च करनी पड़ रही है.

एयर मार्शल डॉ. आर.सी. वाजपई ने कहा कि देश तभी तरक्की कर सकता है, जब सीमाएं सुरक्षित हों. चीन विस्तारवादी देश है उससे सावधान रहने की जरूरत है. पड़ोसी देशों से हो रही मादक पदार्थों और हथियारों की तस्करी आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौती है.

About The Author

Number of Entries : 5201

Leave a Comment

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about VSK Bharat Latest News

Scroll to top