भारत में राम राज्य भी होगा और अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर भी बनेगा – डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया Reviewed by Momizat on . आगरा (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद के स्थापना दिवस पर आगरा के सूरसदन प्रेक्षाग्रह में आयोजित ‘रामजन्म भूमि राष्ट्रीयता का आधार स्तंभ’ संगोष्ठी को संबोधित करते ह आगरा (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद के स्थापना दिवस पर आगरा के सूरसदन प्रेक्षाग्रह में आयोजित ‘रामजन्म भूमि राष्ट्रीयता का आधार स्तंभ’ संगोष्ठी को संबोधित करते ह Rating: 0
You Are Here: Home » भारत में राम राज्य भी होगा और अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर भी बनेगा – डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया

भारत में राम राज्य भी होगा और अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर भी बनेगा – डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया

आगरा (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद के स्थापना दिवस पर आगरा के सूरसदन प्रेक्षाग्रह में आयोजित ‘रामजन्म भूमि राष्ट्रीयता का आधार स्तंभ’ संगोष्ठी को संबोधित करते हुए विश्व हिन्दू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय कार्याध्यक्ष डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया ने कहा कि भारत में राम राज्य भी होगा और अयोध्या में राम मंदिर भी होगा. हम न भीख मांग रहे हैं, न दान मांग रहे हैं. हम अपना अधिकार मांग रहे हैं. राम की जन्म भूमि एक इंच भी नहीं हट सकती है.

उन्होंने कहा कि हर दिल में राम बसते हैं. राष्ट्रीयता का आधार स्तंभ भी वही हैं और जन्मभूमि ही राष्ट्रीयता का केंद्र है. उन्होंने श्रीराम से जुड़े तमाम प्रसंग आज के परिप्रेक्ष्य में श्रोताओं के सामने रखे. राम की जन्म भूमि पर मस्जिद बनाना चाहते हो तो अयोध्या में मस्जिद की ईंट नहीं रखने देंगे और राम की जन्म भूमि से इतना प्यार है तो हिन्दू बन जाओ. ये हिन्दू समाज राम मंदिर के बराबर कोई मस्जिद सहन नहीं करने वाला. देश का हिन्दू समाज मांग करता है कि संसद में कानून बनाओ और राम मंदिर के लिए जमीन उपलब्ध कराओ. डॉ. प्रवीण भाई ने कहा कि मेरा दृढ़ विश्वास है कि सरकार संसद में कानून बनाकर भगवान राम को घर देने का काम करेगी. आगरा का तेजो महालय तो हमारा है. यहां शिव मंदिर है. संगोष्ठी का आयोजन विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल आगरा महानगर ने किया. संगोष्ठी में शहर के प्रबुद्ध नागरिक व बड़ी संख्या में आमजन उपस्थित रहे.

इससे पूर्व डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया ने आगरा के ग्रामीण अंचल खंदौली में किसान सभा को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि रासायनिक खाद से कैंसर का खतरा है. देसी खाद का इस्तेमाल करें. किसानों की स्थिति को सुधारने के लिए कड़े कदम उठाने पर जोर दिया. साल 1970 में जिस किसान परिवार के पास छह एकड़ जमीन थी, अब घट कर मात्र दो एकड़ रह गई है.

About The Author

Number of Entries : 3679

Comments (1)

Leave a Comment

Scroll to top