माँ दिवस पर गौ माताओं की हत्या Reviewed by Momizat on . आधा दर्जन गायों के काटे जाने के विरुद्ध विहिप का प्रदर्शन नई दिल्ली. माँ दिवस पर एक ओर माँ की महिमा का वर्णन करते हुये विश्वभर में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया आधा दर्जन गायों के काटे जाने के विरुद्ध विहिप का प्रदर्शन नई दिल्ली. माँ दिवस पर एक ओर माँ की महिमा का वर्णन करते हुये विश्वभर में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया Rating: 0
You Are Here: Home » माँ दिवस पर गौ माताओं की हत्या

माँ दिवस पर गौ माताओं की हत्या

आधा दर्जन गायों के काटे जाने के विरुद्ध विहिप का प्रदर्शन

नई दिल्ली. माँ दिवस पर एक ओर माँ की महिमा का वर्णन करते हुये विश्वभर में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया तो वहीं पुलिस व प्रशासन की निष्क्रियता तथा कसाइयों के बढ़ते हौसले के चलते दुष्टों ने 11 मई को आधा दर्जन गौ माताओं को मौत के घाट उतार दिया. दक्षिणी-पश्चिमी दिल्ली के खडखडी गांव में हुई इस घटना से गुस्साये ग्रामवासियों के साथ विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) – बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने इसके विरुद्ध जमकर प्रदर्शन किया तथा राजधानी में बढ़ती गौकसी की घटनाओं पर अविलम्ब अंकुश लगाने की मांग दोहराई.

घटना की विस्तृत जानकारी देते हुये विहिप दिल्ली के मीडिया प्रमुख विनोद बंसल ने बताया कि नज़फ़गढ़ के समीप जाफरपुर थानान्तर्गत खडखडी गांव में प्रात: लगभग आधा दर्जन गायों के छत-विछत अंग देख कर ग्रामवासी हतप्रभ रह गये. देखते ही देखते सैकड़ों की संख्या में लोग जमा होने लगे. विश्व हिन्दू परिषद व बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने पुलिस को फोन कर घटना की जानकारी तो दी किन्तु दोपहर बाद तक पुलिस द्वारा कोई कार्यवाही नहीं किये जाने से वहां उपस्थित जन समूह का पारा सातवें आसमान पर पहुंचाने लगा. बाद में जन दबाव देख क्षेत्रीय थानाध्यक्ष व अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी अपने लाव-लश्कर के साथ घटना स्थल पर पहुंचे तो किन्तु तब तक गौ-भक्तों ने विरोध स्वरूप पूरे रास्ते को जाम कर जमकर प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारियों में विहिप के जिला गौ रक्षा प्रमुख ओमप्रकाश तथा अवनीश वत्स सहित सैंकड़ों ग्रामवासी शामिल थे.

विहिप दिल्ली के महामंत्री रामकृष्ण श्रीवास्तव ने राजधानी दिल्ली में गत कुछ महीनों से लगातार बढ़ती गौकसी की घटनाओं पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुये पुलिस व प्रशासन से इस सम्बन्ध में अविलम्ब कड़ी कार्यवाही करने की मांग दोहराई है.

 

About The Author

Number of Entries : 3868

Comments (1)

Leave a Comment

Scroll to top