राष्ट्रीयता के बल पर संघ वट वृक्ष के रूप में खड़ा हुआ Reviewed by Momizat on . देवभोग (छत्तीसगढ़). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तीन दिवसीय जिला स्तरीय शिविर में सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे. विभिन्न अनुशांगिक संगठनों के कार्य देवभोग (छत्तीसगढ़). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तीन दिवसीय जिला स्तरीय शिविर में सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे. विभिन्न अनुशांगिक संगठनों के कार्य Rating: 0
You Are Here: Home » राष्ट्रीयता के बल पर संघ वट वृक्ष के रूप में खड़ा हुआ

राष्ट्रीयता के बल पर संघ वट वृक्ष के रूप में खड़ा हुआ

1302deo1देवभोग (छत्तीसगढ़). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तीन दिवसीय जिला स्तरीय शिविर में सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे. विभिन्न अनुशांगिक संगठनों के कार्यकर्ता भी शिविर में सम्मिलित रहे. संघ के प्रांत प्रचारक दीपक विस्पुते जी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते कहा कि देश वासियों में राष्ट्रीयता का भाव जागृत करने के उद्देश्य से संघ की स्थापना हुई है.

स्थानीय शिशु मंदिर प्रांगण में आयोजित शिविर में विभिन्न विकास खंडों से स्वंयेसवकों, कार्यकर्ताओं ने भाग लिया. स्वयंसेवकों ने नगर में पथ संचलन कर संगठन में शक्ति का प्रचार किया. नगर में विभिन्न मार्गों पर संचलन के दौरान स्वयंसेवकों का पुष्प वर्षा से स्वागत किया. आयोजन में प्रमुख रूप से प्रांत महाविद्यालयीन छात्र प्रमुख कैलाश जी, विभाग संघ चालक बसंत जी, विभाग प्रचारक महावीर जी, जिला सह संघ चालक रामकुमार नागेश, सहित अन्य उपस्थित थे.

शुभारंभ सत्र में प्रांत प्रचारक जी ने संघ की स्थापना के उद्देश्य को विस्तार से रखा. अंग्रेजों के चंगुल में फंसी मां भारती की आजादी के लिए सक्रिय भूमिका निभाने वाले क्रांतिकारियों के बारे में भी जानकारी दी. साथ ही स्वतंत्रता आंदोलन में संघ की स्थापना से पूर्व व पश्चात संघ संस्थापक डॉ. हेडगेवार जी की भूमिका पर भी प्रकाश डाला. उन्होने कहा कि आजादी की लड़ाई में देश व्यापी राष्ट्रीयता का भाव जगाने के लिए ही डॉ. हेडगेवार जी ने संघ की स्थापना की थी. राष्ट्रीयता के विचार के आधार पर ही आज संघ एक वट वृक्ष के रूप में संपूर्ण विश्व में खड़ा है.

About The Author

Number of Entries : 3679

Comments (1)

  • रोहितकुमार पाला

    ||ओरुम्||
    नमस्ते…..
    आपणां जीवन सारां अने पवित्र होय तो ज दुनिया सारी अने पवित्र थई शके…

    ||राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ||

    Reply

Leave a Comment

Scroll to top