राष्ट्र सेविका समिति के पथ संचलन में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक Reviewed by Momizat on . शिमला (विसंकें). शिमला में राष्ट्र सेविका समिति के पथ संचलन में महिला सशक्तिकरण की झलक देखने को मिली. राष्ट्र सेविका समिति राष्ट्र के प्रति समर्पित भारतीय बेटिय शिमला (विसंकें). शिमला में राष्ट्र सेविका समिति के पथ संचलन में महिला सशक्तिकरण की झलक देखने को मिली. राष्ट्र सेविका समिति राष्ट्र के प्रति समर्पित भारतीय बेटिय Rating: 0
You Are Here: Home » राष्ट्र सेविका समिति के पथ संचलन में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक

राष्ट्र सेविका समिति के पथ संचलन में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक

शिमला (विसंकें). शिमला में राष्ट्र सेविका समिति के पथ संचलन में महिला सशक्तिकरण की झलक देखने को मिली. राष्ट्र सेविका समिति राष्ट्र के प्रति समर्पित भारतीय बेटियों एवं महिलाओं का संगठन है. पथ संचलन का नेतृत्व अखिल भारतीय घोष प्रमुख एवं जम्मू केंद्र की प्रचारिका सुश्री पंकजा ने किया. पथ संचलन में 84 सेविकाओं ने भाग लिया. पथ संचलन की शुरूआत शिमला के सीटीओ से हुई. इसके बाद सेविकाओं ने लोअर बाजार में प्रवेश किया और लोगों की सराहना प्राप्त करते हुए शेरे ए पंजाब तक पथ संचलन किया. मालरोड में सभी सेविकाओं ने मूक संचलन करते हुए जिलाधीश कार्यालय के पास पथ संचलन का समापन किया. संचलन समन्वयक राजकुमारी जी ने बताया कि पथ संचलन सेविका समिति की नारी शक्ति के लिए अपनी ताकत प्रदर्शन में एक अहम भूमिका अदा करता है. पथ संचलन में कदम से कदम मिलाकर सेविकाओं ने संदेश दिया कि महिलाएं भी किसी से कम नहीं है. राष्ट्र के लिए शौर्य दिखाने वाले अवसरों में वह अग्रणी भूमिका निभाती हैं. नारी शक्ति के सशक्तिकरण में भी यह अहम योगदान देने के लिए जानी जाती रही है.

मॉनसून के प्रबल होने पर भी राष्ट्र सेविका समिति की सेवाकाओं के हौंसलों में कोई कमी नहीं दिखी. मौसम ने भले ही उनकी परीक्षा ली और बीच बीच में हल्की से जोरदार बारिश भी हुई, लेकिन सेविकाओं पर मौसम का कोई असर देखने को नहीं मिला. घोड़े पर सवार कमान संभालती सेविका पूजा ने सेविकाओं में जोश भरा. राष्ट्र के सम्मान में जयघोष करती और भारत माता एवं वंदे मातरम के नारों से पूरे वातावरण को सेविकाओं ने राष्ट्रभाव से भर दिया.

पथ संचलन जैसे ही लोअर बाजार से शुरू हुआ, लोगों ने फूल बरसाकर राष्ट्र सेविका समिति की सेविकाओं का स्वागत किया. स्वागतकर्ताओं में महिलाओं की संख्या विशेष रूप से रही.

 

About The Author

Number of Entries : 3628

Leave a Comment

Scroll to top