लेखन के विभिन्न आयामों पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन Reviewed by Momizat on . नोएडा. प्रेरणा मीडिया शोध संस्थान एवं केशव संवाद पत्रिका के संयुक्त तत्वाधान में संस्थान में लेखन की विभिन्न आयामों पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया. के नोएडा. प्रेरणा मीडिया शोध संस्थान एवं केशव संवाद पत्रिका के संयुक्त तत्वाधान में संस्थान में लेखन की विभिन्न आयामों पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया. के Rating: 0
You Are Here: Home » लेखन के विभिन्न आयामों पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

लेखन के विभिन्न आयामों पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

नोएडा. प्रेरणा मीडिया शोध संस्थान एवं केशव संवाद पत्रिका के संयुक्त तत्वाधान में संस्थान में लेखन की विभिन्न आयामों पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया. केशव संवाद पत्रिका के जून अंक पर्यावरण विशेषांक का विमोचन किया गया. कार्यशाला के चार सत्र रखे गये. जिसमें तीन सत्रों  में लेखन के सैद्धांतिक एवं व्यवहारिक पक्षों पर गहन विचार विमर्श किया गया. प्रथम सत्र का विषय लेखन के आधारभूत सिद्धांत (विचार, भाषा, लेखन, कौशल, परिकल्पना आदि) पर मुख्य वक्ता जगदीश उपासने जी समूह संपादक पांचजन्य एवं आर्गनाइजर ने विषय के विभिन्न पहलुओं से प्रतिभागियों को अवगत कराया. उनका मानना था कि लेखकों को लेखन में विविधता एवं नवीनता बनाए रखना चाहिए. उन्होंने लेखन में संक्षिप्तता, भाषा, विचारों का संयोजन इत्यादि विषयों पर लेखकों को गंभीरतापूर्वक विचार करने का सुझाव दिया. सत्र की अध्यक्षता कर रहे सुदर्शन न्यूज के संपादक राकेश त्रिपाठी जी ने प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के अलग संदर्भ की बात की. सत्र में उत्तर प्रदेश व उत्तराखण्ड के संयुक्त क्षेत्र प्रचार प्रमुख कृपाशंकर जी ने कार्यशाला के उद्देश्य पर प्रकाश डाला. सत्र का संचालन प्रो. अखिलेश मिश्र तथा विषय परिचय डॉ. प्रदीप कुमार द्वारा किया गया.

द्वितीय सत्र के मुख्यवक्ता अजय मित्तल जी संपादक राष्ट्रदेव ने लेखकों को लेखन से पूर्व गहन अध्ययन का सुझाव दिया. उन्होंने लेखन में लेखकों को अच्छा साहित्य पढ़कर जनसामान्य के समझ में आने वाले लेखों को लिखने का सुझाव दिया. सत्र की अध्यक्षता डॉ. गीता पांडेय प्रख्यात लेखिका एवं विभागाध्यक्ष हिन्दी विभाग शम्भूदयाल कॉलेज गाजियाबाद ने पत्र लेखन में भाषा संयोजन एवं सरल शब्दों के चयन पर जोर दिया. सत्र का विषय परिचय नीता सिंह एवं संचालन डॉ. मंजरी गुप्ता ने किया.

तृतीय सत्र के मुख्यवक्ता जितेंद्र तिवारी संपादक यथावत ने लेखन की विषयवस्तु एवं संरचना पर अपने अनुभव साझा किए तथा लेखकों को राष्ट्रहित से जुड़े विषयों पर स्पष्टता से लिखने का सुझाव दिया. सत्र की अध्यक्षता कर रहे लोकसभा टीवी एंकर पराक्रम सिंह शेखावत ने कहा कि अच्छे लेखक को अच्छा पाठक भी होना चाहिए. इस सत्र का संचालन डॉ. प्रदीप कुमार ने किया.

समापन सत्र में केशव संवाद पत्रिका के जून अंक पर्यावरण विशेषांक का विमोचन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य अशोक बेरी जी ने किया. उन्होंने पत्रकारिता में गिरते मूल्य स्तर एवं राष्ट्रीय महत्वों के मुद्दों की उपेक्षा पर चिंता जाहिर की तथा नये लेखकों से खुलकर साहसपूर्वक लिखने का आह्वान किया. इस अंक का विषय परिचय प्रो. अखिलेश मिश्र द्वारा प्रस्तुत किया गया. सत्र में मुख्य अतिथि पंकज कुमार सिंह, आयुक्त सेल्स टैक्स की पुस्तक जैसी शिक्षा वैसा देश का भी विमोचन किया गया तथा उन्होंने शिक्षा के कई पहलुओं पर प्रतिभागियों का ध्यान आकृष्ट किया. शिक्षा सुधार को जनआंदोलन बनाने की वकालत की. सत्र की अध्यक्ष्ता प्रो. वीनस जैन विभागाध्यक्ष, इतिहास विभाग, एमिटी विश्वविद्यालय ने की. उन्होंने पर्यावरण विषय पर पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन दिया. इस सत्र का संचालन डॉ. श्रुति मिश्रा ने किया.

About The Author

Number of Entries : 3679

Leave a Comment

Scroll to top