लोक मंगल की भावना से समाज के सामने सत्य रखना ही सच्ची पत्रकारिता – श्याम किशोर जी Reviewed by Momizat on . मेरठ (विसंकें). विश्व संवाद केन्द्र मेरठ द्वारा दो दिवसीय पत्रकारिता प्रशिक्षण वर्ग का आयोजन किया गया. जिसमें चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय, आईआईएमटी विश्वविद्यालय मेरठ (विसंकें). विश्व संवाद केन्द्र मेरठ द्वारा दो दिवसीय पत्रकारिता प्रशिक्षण वर्ग का आयोजन किया गया. जिसमें चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय, आईआईएमटी विश्वविद्यालय Rating: 0
You Are Here: Home » लोक मंगल की भावना से समाज के सामने सत्य रखना ही सच्ची पत्रकारिता – श्याम किशोर जी

लोक मंगल की भावना से समाज के सामने सत्य रखना ही सच्ची पत्रकारिता – श्याम किशोर जी

मेरठ (विसंकें). विश्व संवाद केन्द्र मेरठ द्वारा दो दिवसीय पत्रकारिता प्रशिक्षण वर्ग का आयोजन किया गया. जिसमें चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय, आईआईएमटी विश्वविद्यालय, सुभारती विश्वविद्यालय एवं रुद्रा कॉलेज के जनसंचार एवं पत्रकारिता के छात्रों ने भाग लिया. वर्ग के उद्घाटन सत्र पर मुख्य वक्ता लोकसभा टीवी के सम्पादक श्याम किशोर सहाय जी ने कहा कि सत्य का अन्वेषण ही पत्रकार का काम है. लोक मंगल की भावना से समाज के सामने सत्य रखना ही सच्ची पत्रकारिता है. उन्होंने कहा कि पत्रकारिता का लक्ष्य लोगों का विवेक जागृत करना हो तो वह सर्वश्रेष्ठ बात होगी. परन्तु केवल जानकारियों के ज्ञान से विवेक नहीं मिलता. सर्वोत्तम ज्ञान वही है जो जीवन को पवित्र बनाए. इसके लिये पत्रकार को तत्वचिन्तन करते रहना चाहिये और अपनी विवेक शक्ति जगानी चाहिये.

वर्ग के अन्य सत्रों में समाचार संग्रह, लेखन तथा सम्पादन विषय पर दैनिक जागरण के वरिष्ठ उपसम्पादक रामानुज, टेलीविजन पत्रकारिता विषय पर लोकसभा टीवी के वरिष्ठ एंकर रामवीर श्रेष्ठ, सांस्कृतिक राष्ट्रवाद विषय पर राष्ट्रदेव के सम्पादक अजय मित्तल, ग्रामीण पत्रकारिता विषय पर प्रो. नरेन्द्र मिश्र, खोजी पत्रकारिता विषय पर डॉ. अम्बरीश पाठक एवं विज्ञप्ति लेखन विषय पर डॉ. मनोज श्रीवास्तव ने जानकारी दी.

वर्ग के समापन सत्र पर मुख्य वक्ता माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अरुण भगत जी ने कहा कि पत्रकारिता समाज जीवन की धड़कन है, नियामक शक्ति है, तथा सामाजिक रुचि की परिष्कारक है. किन्तु दुर्भाग्य से कुछ वर्षों से उसमें नकारात्मक प्रवृत्ति बढ़ी है, सत्य खोजने की प्रवृत्ति घटी है. जिसके कारण पत्रकार की विश्वसनीयता में भी कमी आयी है. समाचार के साथ विचार का घालमेल नहीं चलेगा. तथ्यों को पवित्र मानकर के प्रस्तुत किया जाना चाहिये, वरना पत्रकार एक पक्षकार सा दिखता है.

वर्ग के समापन पर चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय के उपकुलपति प्रो. नरेन्द्र कुमार तनेजा जी ने शिक्षार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किये. वर्ग का संचालन डॉ. प्रशान्त कुमार ने किया. वर्ग के विभिन्न सत्रों में पत्रकारों एवं पत्रकारिता के अध्यापकों ने भी भाग लिया.

About The Author

Number of Entries : 3788

Leave a Comment

Scroll to top