व्यक्ति निर्माण की पाठशाला है संघ की शाखा – राजकुमार जी Reviewed by Momizat on . रायपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का स्थापना दिवस तथा विजयादशमी उत्सव सप्रे शाला मैदान में प्रात:काल सम्पन्न हुआ. मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित संघ के क रायपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का स्थापना दिवस तथा विजयादशमी उत्सव सप्रे शाला मैदान में प्रात:काल सम्पन्न हुआ. मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित संघ के क Rating: 0
You Are Here: Home » व्यक्ति निर्माण की पाठशाला है संघ की शाखा – राजकुमार जी

व्यक्ति निर्माण की पाठशाला है संघ की शाखा – राजकुमार जी

रायपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का स्थापना दिवस तथा विजयादशमी उत्सव सप्रे शाला मैदान में प्रात:काल सम्पन्न हुआ. मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित संघ के क्षेत्र संपर्क प्रमुख राजकुमार जी ने कहा कि यदि हिन्दू समाज छुआछूत, जातिवाद या संप्रदाय-भेद से ऊपर उठकर आगे बढ़े तो दुष्ट शक्तियां हतोत्साहित-पराजित हो सकेंगी. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना के 90 साल पूरे हो गए हैं तथा संघ ने अपनी शाखाओं के माध्यम से व्यक्ति-निर्माण का जो कार्य किया है, उसी के अनुरूप आज हिन्दू समाज एकात्मता के साथ खड़ा हुआ है, उसमें गौरव-भाव जागा है.

RSS Chhattisgarhउन्होंने कहा कि राष्ट्र-जीवन के लिए जो शक्ति आवश्यक है, उसमें संस्कारित और देशभक्ति से ओतप्रोत व्यक्तियों की आवश्यकता है तथा संघ की शाखाएं इसी अनुरूप कार्य कर रही हैं. विश्व में भारतीय संस्कृति को सराहा जा रहा है. संयुक्त राष्ट्र संघ ने विश्व योग दिवस घोषित किया, जिसे दुनिया के कई देशों ने मनाया. हिन्दुत्व के संस्कारों के आधार पर देश की एकता सुदृढ़ हुई है. उसके श्रेष्ठ तत्व ज्ञान, उदारता, सुहृदयता और अपनत्व की एकात्मा के चलते आतंकवादी शक्तियां हतोत्साहित हुई हैं. हिन्दू समाज में हिंसा व कटुता के लिए कोई जगह नहीं है. भारतीय संस्कृति महासागर की तरह है. इस देश में कई आक्रमणकारी आए और यहीं के होकर रह गए, यहां की संस्कृति में घुल मिल गए.

राजकुमार जी ने कहा कि हिन्दू समाज में सब भाई हैं तथा कोई अछूत नही है, संघ इसी भावना के साथ कार्य करते हुए आगे बढ़ रहा है क्योंकि उसके सामने भगवान राम-कृष्ण जैसे आदर्श हैं. उपस्थित स्वंयसेवकों से आह्वान करते हुए कहा कि देश और समाज के लिए अधिक से अधिक समय दें, शाखा-तंत्र को मजबूत करें तो समाज की दुष्ट शक्तियां अपने आप हतोत्साहित और पराजित होंगी. मंच पर विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रांत सह संघचालक व अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ. पूर्णेन्दु सक्सेना तथा महानगर संघचालक उमेश अग्रवाल जी उपस्थित थे.

कार्यक्रम की शुरूआत शस्त्र पूजन से हुई, तत्पश्चात प्रात: 8 बजे लगभग 500 तरूण स्वयंसेवकों ने घोष दल के साथ नगर में पथ संचलन निकाला. इस दौरान कई संस्थाओं ने स्वयंसेवकों का पुष्प-वर्षा कर स्वागत किया. कार्यक्रम में 150 वरिष्ठ स्वयंसेवकों के बीच परिवार प्रबोधन का कार्यक्रम हुआ, जिसमें महेश बिड़ला, शशांक शुक्ल ने संबोधित किया. समारोह में मुख्य तौर पर प्रांत प्रचारक दीपक विस्पुते जी, वरिष्ठ प्रचारक शांताराम जी सर्राफ, प्रांत सह प्रचार प्रमुख कनिराम जी तथा विभाग प्रचारक नारायण नामदेव उपस्थित थे. ध्वजावतरण के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ.

About The Author

Number of Entries : 3580

Leave a Comment

Scroll to top