शारीरिक और मानसिक रोगों में योग रामबाण उपचार – श्रीनिवास मूर्ति जी Reviewed by Momizat on . शिमला (विसंकें). मधुमेह मुक्त भारत अभियान के राष्ट्रीय संयोजक श्रीनिवास मूर्ति जी ने कहा कि आज के दौर में अपनायी जा रही जीवनशैली के कारण जीवन तनावग्रस्त हो गया शिमला (विसंकें). मधुमेह मुक्त भारत अभियान के राष्ट्रीय संयोजक श्रीनिवास मूर्ति जी ने कहा कि आज के दौर में अपनायी जा रही जीवनशैली के कारण जीवन तनावग्रस्त हो गया Rating: 0
You Are Here: Home » शारीरिक और मानसिक रोगों में योग रामबाण उपचार – श्रीनिवास मूर्ति जी

शारीरिक और मानसिक रोगों में योग रामबाण उपचार – श्रीनिवास मूर्ति जी

शिमला (विसंकें). मधुमेह मुक्त भारत अभियान के राष्ट्रीय संयोजक श्रीनिवास मूर्ति जी ने कहा कि आज के दौर में अपनायी जा रही जीवनशैली के कारण जीवन तनावग्रस्त हो गया है. ऐसे में आज हर व्यक्ति निराश और बीमार जीवन व्यतीत कर रहा है. जीवन में हताशा से बाहर निकलने और प्रसन्नचित रहने के लिए योग को अपनाना ही एक कारगर उपाय है. वे शनिवार को शिमला के आईजीएमसी अस्पताल में आरोग्य भारती द्वारा योग एवं औषधीय वनस्पति के विविध आयामों पर आयोजित कार्यशाला में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने अस्पताल के तनावपूर्ण वातावरण में काम करने के तरीकों के बारे में मरीजों को अवगत करवाया. आरोग्य भारती द्वारा मरीजों को योग भी करवाया गया और उनको गंभीर बीमारियों में योग द्वारा स्वास्थ्य लाभ संबंधी जानकारी प्रदान की गयी. मरीजों को कपाल भाती, अनुलोम-विलोम करना सिखाया गया.

श्रीनिवास मूर्ति जी ने कहा कि योग को अपनाने से रोगों में आश्चर्यजनक परिणामों को प्राप्त किया जा सकता है. भारत में योग और वन्य पौधों पर गहन अनुसंधान हुआ है, यही कारण है कि आज भी यह उतना ही प्रासंगिक है जितना हजारों साल पहले हुआ करता था. हमेशा ही सभी को हंसते रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि हंसने से कई बीमारियां दूर होती है. योग के साथ मनोरंजन कार्यक्रम भी आयोजित किए गए. संयोजक एवं चिकित्सक आईजीएमसी डॉ. कल्पना विशेष रूप से उपिस्थत रहीं. उन्होंने भी योग के बारे में मरीजों को विस्तार पूर्वक जानकारी दी, साथ ही इससे होने वाले फायदों के बारे में भी बताया. कार्यक्रम में आरोग्य भारतीय से डॉ. राकेश पंडित के अलावा 100 के आसपास लोग उपस्थित रहे.

About The Author

Number of Entries : 3682

Leave a Comment

Scroll to top