संयुक्त राष्ट्र को हिंदी में संबोधित करके मोदी दिखाना चाहते हैं भारत का आत्मविश्वास Reviewed by Momizat on . न्यूयॉर्क (एजेंसियां). भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे. संयुक्त राष्ट्र महासभा को प्रधानमंत न्यूयॉर्क (एजेंसियां). भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे. संयुक्त राष्ट्र महासभा को प्रधानमंत Rating: 0
You Are Here: Home » संयुक्त राष्ट्र को हिंदी में संबोधित करके मोदी दिखाना चाहते हैं भारत का आत्मविश्वास

संयुक्त राष्ट्र को हिंदी में संबोधित करके मोदी दिखाना चाहते हैं भारत का आत्मविश्वास

Sanyukt Rashtr Ko Hindi mein Sambodhit karke Modi Dikhana Cahte hein Bharat ka Atmvishwasन्यूयॉर्क (एजेंसियां). भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे. संयुक्त राष्ट्र महासभा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार संबोधित करेंगे. नरेंद्र मोदी के इस भाषण पर पूरे विश्व की नजर है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा को उनसे पहले श्री अटल बिहारी वाजपेयी और स्वर्गीय पीवी नरसिम्हा राव हिंदी में संबोधित कर चुके हैं. ऐसा पहली बार हो रहा है कि हिंदी में दिये गये भाषण को वहां उपस्थित लोग लाइव अंग्रेजी में हेडफोन की सहायता से सुन सकेंगे. यह व्यवस्था भारत की ओर से की गयी है. गौरतलब है हिंदी संयुक्त राष्ट्र की ऑफिसियल भाषा में शामिल नहीं है, जिसके कारण उसका तुरंत अनुवाद नहीं हो पाता था, लेकिन इस बार तत्काल अनुवाद की व्यवस्था की गयी है.

जब से भारत में एक मजबूत सरकार का गठन हुआ है, पूरे विश्व की नजर भारत पर है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कार्यशैली उन्हें एक दृढ़प्रतिज्ञ व्यक्ति के रूप में पारिभाषित करती है, यही कारण है कि दुनिया का हर देश उन्हें सुनना और समझना चाहता है. प्रधानमंत्री ने अपने पड़ोसियों के साथ रिश्ते सुधारने के लिये जिस प्रकार की पहल की है, उससे दक्षिण-एशिया की राजनीति पर काफी असर पड़ सकता है.

आजादी से पहले महात्मा गांधी और पंडित जवाहर लाल नेहरु ने अंग्रेजी का सहारा लेकर पूरे विश्व को भारत की सोच और स्थिति से अवगत कराया था. लेकिन अब परिस्थितियां काफी बदल गयी हैं. आज पूरे विश्व में हिंदी चौथी ऐसी भाषा है, जिसे जानने और समझने वाले लोग सर्वाधिक हैं. इस स्थिति में नरेंद्र मोदी इस प्रयत्न में हैं कि वे हिंदी में बोलकर उन लोगों तक पहुंचे, जो हिंदी जानते और समझते हैं. हिंदी में संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करके मोदी भारत को आत्मविश्वास से परिपूर्ण भी दिखाना चाहते हैं. वे विश्व को यह बताना चाहते हैं कि भारत एक ऐसा देश है, जो पूरी तरह से समर्थ है.

अपने संबोधन के दौरान नरेंद्र मोदी भारत देश की सोच को स्थापित करेंगे और यह बताने की कोशिश करेंगे कि आज भारत विश्व के लिए क्यों महत्वपूर्ण है. वे पूरे विश्व को यह  बताने का प्रयास करेंगे कि भारत को दरकिनार करके या उसे कमतर आंक कर आज विश्व आगे नहीं बढ़ सकता है.

मोदी का तय कार्यक्रम
25 से 30 सितंबर तक अमेरिका में रहेंगे मोदी
26 सितंबर- न्यूयॉर्क में शहर के मेयर मोदी से मुलाकात करेंगे
27 सितंबर- सुबह मोदी 9/11 हमले की जगह पर बने स्मारक पर जायेंगे
27 सितंबर- मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे
28 सितंबर- मोदी न्यूयॉर्क के मैडिसन स्क्वायर में 20 हजार भारतीय-अमेरिकियों को संबोधित करेंगे
29 सितंबर- मोदी ओबामा की पहली मुलाकात वॉशिंगटन में व्हाइट हाउस में निजी भोज पर होगी
30 सितंबर- दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय बातचीत होगी

About The Author

Number of Entries : 3580

Leave a Comment

Scroll to top