हर बच्चे के अंदर होता है एक नन्हा फिल्मकार – डॉ. श्रवण कुमार जी Reviewed by Momizat on . पटना (विसंकें). चिल्ड्रेन फिल्म सोसायटी, इंडिया (सीएफएसआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. श्रवण कुमार जी ने कहा कि हर बच्चे के पास एक कहानी होती है और उसे कहने पटना (विसंकें). चिल्ड्रेन फिल्म सोसायटी, इंडिया (सीएफएसआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. श्रवण कुमार जी ने कहा कि हर बच्चे के पास एक कहानी होती है और उसे कहने Rating: 0
You Are Here: Home » हर बच्चे के अंदर होता है एक नन्हा फिल्मकार – डॉ. श्रवण कुमार जी

हर बच्चे के अंदर होता है एक नन्हा फिल्मकार – डॉ. श्रवण कुमार जी

पटना (विसंकें). चिल्ड्रेन फिल्म सोसायटी, इंडिया (सीएफएसआई) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. श्रवण कुमार जी ने कहा कि हर बच्चे के पास एक कहानी होती है और उसे कहने का तरीका भी उसके पास होता है. अगर उन्हें फिल्म निर्माण की बारीकियों से परिचित कराया जाए तो बच्चे भी एक समझदार फिल्मकार हो सकते हैं. इसी परिकल्पना को आधार बनाकर चिल्ड्रेन फिल्म सोसायटी, इंडिया द्वारा ‘लिटिल डायरेक्टर्स’ कार्यक्रम शुरू किया गया है. इसके माध्यम से स्कूल के बच्चे अपनी कहानी पर फिल्म बनायेंगे और फिर उसे विभिन्न जगहों पर दिखाया जाएगा.

वह शुक्रवार को सीएफएसआई एवं विश्व संवाद केंद्र द्वारा आयोजित तीन दिवसीय बाल फिल्म महोत्सव ‘फिल्म बोनांजा’ के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे. डॉ. कुमार ने कहा कि सीएफएसआई का प्रयास है कि बच्चों के लिए बनने वाली फिल्में विधिवत रिलीज हों तथा मुख्य धारा के सिनेमा की भांति उन्हें देखने के लिए लोग थियेटर तक जायें. सिनेमा ने बच्चों के मन को प्रभावित किया है, इसका उदाहरण यहां उपस्थित बच्चों के उत्साह को देखकर पता चलता है. विश्व संवाद केंद्र के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि ‘फिल्म बोनांजा’ कार्यक्रम की सफलता यह उम्मीद जगाती है कि आने वाले समय में उम्दा किस्म की बाल फिल्मों का निर्माण होगा और उसका व्यापक रूप से प्रदर्शन होगा. उन्होंने कहा कि बच्चों के उत्साह को देखकर हमारा प्रयास होगा कि अगली बार से बड़े आयोजन स्थल का चयन किया जाए, जहां कई सौ बच्चे एक साथ बैठकर फिल्म देख सकें.

आयोजन समिति की ओर से केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के सदस्य आनंद प्रकाश नारायण सिंह जी ने कहा कि सिनेमा अत्यंत ही प्रभावशाली माध्यम है जो हरेक उम्र के दर्शकों के मन को प्रभावित करता है, विशेषकर बाल मन को. सिनेमा में इतनी शक्ति है कि वह समाज के एक बड़े वर्ग की जीवन शैली में परिवर्तन ला सकता है. इसलिए यह आवश्यक है कि बाल फिल्म महोत्सव के माध्यम से सकारात्मक एवं सार्थक फिल्मों को बढ़ावा दिया जाये ताकि बाल मन पर सिनेमा का अनुकूल असर हो.

विश्व संवाद केंद्र के संपादक संजीव कुमार ने कहा कि विश्व संवाद केंद्र का सदैव प्रयास रहा है कि नकारात्मक चीजों को परे रखकर समाज की सकारात्मक गतिविधियों को रेखांकित कर उद्घाटित किया जाए. आधुनिक समाज को सांस्कृतिक रूप से समृद्ध करने की दिशा में संस्था सदैव प्रयासरत है. इसकी एक इकाई पाटलिपुत्र सिने सोसायटी बिहार में स्वस्थ सिनेमा की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए सतत् प्रयत्नशील है. दर्शकों से मिल रही प्रतिक्रिया से हम उत्साहित हैं और उम्मीद करते हैं कि आगे इससे भी बड़े पैमाने पर बाल फिल्मोत्सव का आयोजन करेंगे.

फिल्म विश्लेषक प्रो. जय देव ने अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सीएफएसआई की यह अनूठी पहल निश्चित रूप से इस मायने में सराहनीय है कि इसने अच्छी फिल्मों के द्वार बाल दर्शकों के लिए खोल दिया है. ऐसे कार्यक्रम समय-समय पर होते रहें तो यह उम्मीद की जानी चाहिए कि शिक्षकों तथा अभिभावकों के मन में सिनेमा को लेकर एक अच्छी सोच विकसित होगी.

About The Author

Number of Entries : 3722

Leave a Comment

Scroll to top