05 सितम्बर / इतिहास स्मृति – पर्यावरण संरक्षण हेतु अनुपम बलिदान Reviewed by Momizat on . नई दिल्ली. प्रतिवर्ष पांच जून को हम ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ मनाते हैं, लेकिन यह दिन हमारे मन में सच्ची प्रेरणा नहीं जगा पाता. क्योंकि इसके साथ इतिहास की कोई प्रेर नई दिल्ली. प्रतिवर्ष पांच जून को हम ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ मनाते हैं, लेकिन यह दिन हमारे मन में सच्ची प्रेरणा नहीं जगा पाता. क्योंकि इसके साथ इतिहास की कोई प्रेर Rating: 0
You Are Here: Home » 05 सितम्बर / इतिहास स्मृति – पर्यावरण संरक्षण हेतु अनुपम बलिदान

05 सितम्बर / इतिहास स्मृति – पर्यावरण संरक्षण हेतु अनुपम बलिदान

Chipko2नई दिल्ली. प्रतिवर्ष पांच जून को हम ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ मनाते हैं, लेकिन यह दिन हमारे मन में सच्ची प्रेरणा नहीं जगा पाता. क्योंकि इसके साथ इतिहास की कोई प्रेरक घटना नहीं जुड़ी है. इस दिन कुछ जुलूस, धरने, प्रदर्शन, भाषण तो होते हैं, पर उससे सामान्य लोगों के मन पर कोई असर नहीं होता. दूसरी ओर भारत के इतिहास में पांच सितम्बर, 1730 को एक ऐसी घटना घटी, जिसकी विश्व में कोई तुलना नहीं की जा सकती.

राजस्थान तथा भारत के अनेक अन्य क्षेत्रों में बिश्नोई समुदाय के लोग रहते हैं. उनके गुरु जम्भेश्वर जी ने अपने अनुयायियों को हरे पेड़ न काटने, पशु-पक्षियों को न मारने तथा जल गन्दा न करने जैसे 29 नियम दिये थे. इन 20 + 9 नियमों के कारण उनके शिष्य बिश्नोई कहलाते हैं. पर्यावरण प्रेमी होने के कारण इनके गांवों में पशु-पक्षी निर्भयता से विचरण करते हैं. वर्ष 1730 में इन पर्यावरण-प्रेमियों के सम्मुख परीक्षा की वह महत्वपूर्ण घड़ी आयी थी, जिसमें उत्तीर्ण होकर इन्होंने विश्व-इतिहास में स्वयं को अमर कर लिया. वर्ष 1730 में जोधपुर नरेश अजय सिंह को अपने महल में निर्माण कार्य के लिए चूना और उसे पकाने के लिए ईंधन की आवश्यकता पड़ी. उनके आदेश पर सैनिकों के साथ सैकड़ों लकड़हारे निकटवर्ती गांव खेजड़ली में शमी वृक्षों को काटने चल दिये.

जैसे ही यह समाचार उस क्षेत्र में रहने वाले बिश्नोइयों को मिला, वे इसका विरोध करने लगे. जब सैनिक नहीं माने, तो एक साहसी महिला ‘इमरती देवी’ के नेतृत्व में सैकड़ों ग्रामवासी, जिनमें बच्चे और बड़े, स्त्री और पुरुष सब शामिल थे, पेड़ों से लिपट गये. उन्होंने सैनिकों को बता दिया कि उनकी देह के कटने के बाद ही कोई हरा पेड़ कट पायेगा. सैनिकों पर भला इन बातों का क्या असर होना था ? वे  राजाज्ञा से बंधे थे, तो ग्रामवासी धर्माज्ञा से. अतः वृक्षों के साथ ही ग्रामवासियों के अंग भी कटकर धरती पर गिरने लगे. सबसे पहले वीरांगना ‘इमरती देवी’ पर ही कुल्हाड़ियों के निर्मम प्रहार हुए और वह वृक्ष-रक्षा के लिए प्राण देने वाली विश्व की पहली महिला बन गयी. इस बलिदान से उत्साहित ग्रामवासी पूरी ताकत से पेड़ों से चिपक गये. 20वीं शती में गढ़वाल (उत्तराखंड) में गौरा देवी, चण्डीप्रसाद भट्ट तथा सुन्दरलाल बहुगुणा ने वृक्षों के संरक्षण के लिए ‘चिपको आन्दोलन’चलाया, उसकी प्रेरणास्रोत इमरती देवी ही थीं.

भाद्रपद शुक्ल 10 (5 सितम्बर, 1730) को प्रारम्भ हुआ यह बलिदान – पर्व 27 दिन तक चलता रहा. इस दौरान 363 लोगों ने बलिदान दिया. इनमें इमरती देवी की तीनों पुत्रियों सहित 69 महिलाएं भी थीं. अन्ततः राजा ने स्वयं आकर क्षमा मांगी और हरे पेड़ों को काटने पर प्रतिबन्ध लगा दिया. ग्रामवासियों को उससे कोई बैर तो था नहीं, उन्होंने राजा को क्षमा कर दिया. उस ऐतिहासिक घटना की याद में आज भी वहां ‘भाद्रपद शुक्ल 10’ को बड़ा मेला लगता है. राजस्थान शासन ने वन, वन्य जीव तथा पर्यावरण-रक्षा हेतु ‘अमृता देवी बिश्नोई स्मृति पुरस्कार’ तथा केन्द्र शासन ने ‘अमृता देवी बिश्नोई पुरस्कार’ देना प्रारम्भ किया है. यह बलिदान विश्व इतिहास की अनुपम घटना है. इसलिए यही तिथि (भाद्रपद शुक्ल 10 या पांच सितम्बर) वास्तविक ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ होने योग्य है.

About The Author

Number of Entries : 3679

Leave a Comment

Scroll to top