You Are Here: Home » विचार

समरस समाज के बिना अन्त्योदय सम्भव नहीं

भारतीय तत्वज्ञान समरसता और एकत्व का प्रथम उद्घोषक रहा है. आदि ग्रंथ ऋग्वेद की ऋचा "संगच्छध्वं संवदध्वं संवो मनांसि जानताम्. देवा भागं यथा पूर्वे संजानाना उपासते.. "(ऋग्वेद 10-191-2) समरसता की समाज की उद्घोषणा ही है. इसी प्रकार कठोपनिषद - कृष्ण यजुर्वेद के मन्त्र .. ॐ सह नाववतु. सह नौ भुनक्तु. सह वीर्यं करवावहै. तेजस्विनावधीतमस्तु मा विद्विषावहै..19.. आगे बढ़ने की अनिवार्य शर्त ही कही गई है. अद्वैत वेदांत एका ...

Read more

शक्तिपूजा

"सच पूछो तो शर में ही, बसती है दीप्ति विनय की, संधि-वचन सम्पूज्य उसी का, जिसमें शक्ति विजय की. सहनशीलता, क्षमा, दया को, तभी पूजता जग है, बल का दर्प चमकता उसके पीछे, जब जगमग है.."                       - दिनकर (कुरुक्षेत्र) राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने शक्ति की आवश्यकता को लेकर 1946 में अपने काव्य 'कुरुक्षेत्र' में जब ये पंक्तियाँ लिखीं थीं, तब उसके पीछे भारतभूमि की क्रोधपूर्ण वेदना का एक लम्बा इतिहास था ...

Read more

हिन्दू संस्कृति : व्यष्टि से परमेष्ठी की अविरल यात्रा

अपने देश को छोड़कर शेष दुनिया में समाज जीवन को संचालित करने का आधार कानून है, जबकि हमारे यहां धर्म संचालित समाज जीवन है. सृष्टि संचालन के नियमों को समझने में असफल पश्चिम ने समाज व्यवस्था के लिए कानून का सहारा लिया, जो कृत्रिम व्यवस्था है. रवींद्र नाथ ठाकुर कहते थे कि अपने घर में प्रकाश करने के लिए यदि दीपक जलाना हो तो उसके लिए अनेक आयोजन करने होंगे. सरसों या अन्य तिलहन उगानी होगी, तेल निकालना होगा. तब उससे ज ...

Read more

समाज और स्वयंसेवक मिलकर कर रहे गाँवों का कायापलट

ग्राम विकास के लिए नानाजी देशमुख ‘युगानुकूल ग्रामीण पुनर्रचना’ शब्द प्रयोग किया करते थे. प्रकृति संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण आदि गांव से जुड़ीं जो मूलभूत चीजें हैं, उनका संरक्षण ही गांव का विकास है. इसके अलावा कृषि यानी भूमि की उर्वरा शक्ति, जल यानि सिंचाई, वर्षाजल एवं पेजयल का संरक्षण, जैव संपदा का विकास, वनीकरण यानि वृक्षारोपण. इसी प्रकार ऊर्जा यानि सौर ऊर्जा, छोटे-छोटे बांधों से जल ऊर्जा, गोबर गैस आदि. जनसं ...

Read more

सिख धर्म को हिन्दुओं से कोई खतरा नहीं

मैं अभी-अभी अमरीका से लौटा हूं. वहां मैं अंतर्राष्ट्रीय सिख सेमीनार में हिस्सा लेने गया था. वहां जाकर पता चला कि विदेशों में कई सिख, जो बहुत पढ़े-लिखे हैं, एक अभियान चला रहे हैं कि भारत में हिन्दूवाद का दौर चल रहा है और इसके कारण सिखों के अलग अस्तित्व पर खतरा खड़ा हो गया है. सोशल मीडिया पर इस संबंध में कई विचार व्यक्त हो रहे हैं. कई तो यहां तक चिंतित हो गए हैं कि गुरबाणी पर भी किन्तु-परन्तु किया जा रहा है. ...

Read more

बिन पानी सब सून या जलसंकट का समाधान जल संरक्षण

3290 लाख हेक्टेयर कुल भू-क्षेत्र वाला भारत, विश्व का सातवां सबसे बड़ा देश है। प्रकृति ने हमें विविध प्रकार की जलवायु और मृदा (मिट्टी) प्रदान की है। हमारे देश में भूमि के विविध रूप जो प्रत्येक प्रकार के जीव-जन्तुओं का पालन करने में सक्षम है। मौसम ऐसा, मानो फसलों की जरूरतों के हिसाब से गढ़ा गया हो। वनस्पतियों की भांति प्राणियों की आनुवांशिक विविधता भारत में भरी पड़ी है। क्या फिर भी वर्तमान बदलते वातावरण में ह ...

Read more

सहकारिता

सहकारिता का अर्थ है मिल जुलकर काम करना. हमारी संयुक्त परिवार व्यवस्था सहकारिता का एक अच्छा उदाहरण है. जब हम सहकारिता की बात करते हैं, तब हमारा उद्देश्य आर्थिक क्षेत्र में सहयोग करना होता है. हमारी सभी आवश्यक वस्तुएं सहयोग द्वारा ही जुटाई जाती हैं. आज के युग में कोई भी काम सहयोग के बिना पूरा नहीं हो सकता है. हमारी प्रगति आपसी सहयोग पर निर्भर है. हम साथियों की मदद लेते भी हैं और उनकी मदद करते भी हैं. सहकारिता ...

Read more

समाज को सही दिशा में मोड़ने वाली नारी शक्ति..!

भारत में नारी शक्ति का सम्मान प्राचीन काल से रहा है. भारत की संस्कृति और सभ्यता को बनाये रखने में यहाँ की महिलाओं का बहुत बड़ा योगदान रहा है. भारतीय समाज समय के साथ काफी बदला है. लेकिन इसके मूल्य आज भी वही हैं. समय के साथ भारतीय समाज में बदलाव लाने का काम यहाँ की महिलाओं ने किया है. प्राचीन काल से चली आ रही परंपरा के साथ समाज को एक नये मुकाम पर पहुँचाना आसान बात नहीं है. अक्सर देखा जाता है कि या तो परंपराओं ...

Read more

संवाद से सुस्पष्ट दृष्टिपथ की ओर – जे. नंदकुमार जी

भारतीय दर्शन का मूल तत्व है विचार मंथन. स्वस्थ चर्चा और रचनात्मक संवाद ने इस महान राष्ट्र की प्रगति में एक बड़ी भूमिका निभाई है. हमारी मनीषा की विशिष्टता है, ज्ञान वितरित करने की अनूठी परंपरा. यह न तो इकतरफा सम्बन्ध है, और न ही दोतरफा. भारतीय संचार की प्रकृति और प्रवृत्ति हमेशा बहुमुखी रही है. इसमें पूरा समाज सहभागी होता है, इतना ही नहीं तो, प्रकृति का भी ध्यान रखा जाता है. इसलिए, संवाद की हमारी शैली व्यापक ...

Read more

समान नागरिक आचार संहिता : आज की जरूरत

समान नागरिक आचार संहिता का मुद्दा आज एक बार फिर चर्चा का विषय बना हुआ है. वर्तमान केन्द्र सरकार ने कानून आयोग को इस संहिता को लागू करने के लिए आवश्यक सभी पहलुओं पर विचार करने को कहा है. दरअसल यह मुद्दा आज का नहीं है. यह अंग्रेजों के जमाने से चला आ रहा है. भारत विविधताओं से भरा देश है. यहाँ विभिन्न पंथों व पूजा पद्धतियों को मानने वाले लोग रहते हैं. इन सबके शादी करने, बच्चा गोद लेने, जायदाद का बंटवारा करने, त ...

Read more
Scroll to top