You Are Here: Home » विचार (Page 5)

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 11

आध्यात्मिक इतिहास की एक दुलर्भ घटना श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के बनते बिगड़ते स्वरूप और बलिदानों की अविरल श्रृंखला के बीच भी हिन्दुओं के द्वारा आरती वंदन और अखंड रामायण पाठ एक क्षण के लिए भी बंद नहीं हुआ. अयोध्या क्षेत्र में संत महात्मा तथा समस्त हिन्दू समाज अपने श्रीराम की प्रतिमा को जन्मभूमि मंदिर में ही देखने के लिए उतावले हो रहे थे. संयम और उदारता अपनी सीमाएं पार करने ही वाले थे कि एक अनोखी एवं संसार के आध् ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 10

राष्ट्रवादी मुस्लिम सरदार और धूर्त अंग्रेज औरंगजेब के पश्चात् कुछ समय तो शांति से कटा, परन्तु धर्मान्ध मुस्लिम नवाबों के अहम के कारण यह विवाद सुलझने के स्थान पर उलझता चला गया. हिन्दुओं ने एक दिन भी मंदिर पर अपने अधिकार को नहीं छोड़ा. एक कालखंड ऐसा भी आया जब हिन्दू मुस्लिम सद्भाव का वातावरण बना. सन् 1789 में महाराष्ट्र के एक सशक्त हिन्दू राजा महादजी सिंधिया ने दिल्ली पर आक्रमण करके विजय प्राप्त की. मुगल शासक ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 9

श्रीगुरु गोबिन्दसिंह और बाबा वैष्णवदास का रणकौशल अत्याचारी शासक और हिन्दू संहारक औरंगजेब ने अपने एक दुर्दांत सेनापति जांबाज खान को मुगल सेना के साथ अयोध्या की ओर कूच करने का हुक्म दे दिया. औरंगजेब की इन हिन्दुत्व विरोधी विनाशकारी चालों से हिन्दू संत महात्मा भी अनभिज्ञ नहीं थे. अयोध्या के पास ही सरयु नदी के अहिल्या घाट पर एक महात्मा बाबा वैष्णवदास एक आश्रम बनाकर हिन्दुत्व के प्रचार प्रसार में लगे थे. इस मठ क ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 8

तथाकथित मानवतावादी अकबर की कुटिल कूटनीति इस्लाम की मूल भावना और शरीयत के सभी उसूलों को ताक पर रखकर बाबर ने मंदिर तोड़कर जो मस्जिद का ढांचा खड़ा कर दिया. यह हिन्दू समाज पर एक कलंक का टीका था. बाबर की विजय विदेश की विजय थी. आक्रमणकारी बाबर द्वारा किसी भी प्रकार का स्मृति चिन्ह समस्त भारत का अपमान था. राष्ट्र के हृदय-स्थल पर एक विदेशी आक्रांता द्वारा हिन्दुओं के ही श्रद्धा केन्द्र को ध्वस्त करके बनाए गए इस ढांचे ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 7

बाबर ने इस्लामिक सिद्धान्तों को भी दफन कर दिया मुगल सेनापति मीरबांकी द्वारा मंदिर को तोड़कर बनाई गई मस्जिद का सफाया करने के लिए हिन्दुओं ने हमलों का तांता लगा दिया. बाबर रोज-रोज के इन युद्धों में हिन्दुओं द्वारा अपमानित हो रहा था. वह कोई समझौता करके अपनी इज्जत बचाने की राह तलाशने लगा. मीरबांकी ने तो अत्यंत दुखी होकर बाबर को एक पत्र भी लिख डाला - ‘मंदिर को भूमिसात करने के पश्चात् उसके ही मलबे से जब से मस्जिद ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 6

मंदिर के खण्डहरों पर बाबरी ढांचा अयोध्या के प्रसिद्ध हिन्दू संत स्वामी श्यामानंद को अपना गुरु मानने वाले दोनों मुस्लिम फकीरों ख्वाजा अब्बास और जलालशाह ने बाबर को चेतावनी दी कि यदि रामजन्मभूमि पर बने मंदिर को नहीं तोड़ा गया तो हिन्दू पुनः संगठित और शक्तिशाली होकर बाबर और उसके सारे सैन्यबल का सफाया कर देंगे. ठीक उसी तरह जैसे राणा संग्राम सिंह के मात्र 30 हजार सैनिकों ने बाबर के 1 लाख सैनिकों को गाजर-मूली की तर ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 5

दो विधर्मी फकीरों की गद्दारी सम्पूर्ण भारत के भूगोल, इतिहास और सांस्कृतिक धरोहर को बर्बाद करने के उद्देश्य से विदेशी हमलावरों ने जो हिंसक रणनीति अपनाई थी, उसी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा था हिन्दुओं के धार्मिक स्थलों को तोड़ना और अत्यंत अपमानजनक हथकंडे अपना कर भारत के राष्ट्रीय समाज का उत्पीड़न करना. इसी अमानवीय व्यवहार के अंतर्गत हजारों मंदिर टूटे, ज्ञान के भंडार विश्वविख्यात विद्या परिसर जले, अथाह धन सम्पदा लूट ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 4

एक भी यवन सैनिक जिंदा नहीं बचा 11वीं सदी के प्रारम्भ में कौशल प्रदेश पर महाराज लव के वंशज राजा सुहैल देव का राज था. उनकी राजधानी अयोध्या थी, इन्हीं दिनों महमूद गजनवी ने सोमनाथ का मंदिर और शिव की प्रतिमा को अपने हाथ से तोड़कर तथा हिन्दुओं का कत्लेआम करके भारत के राजाओं को चुनौती दे दी. परन्तु देश के दुर्भाग्य से भारत के छोटे-छोटे राज्यों ने महमूद का संगठित प्रतिकार नहीं किया. गजनवी भारत को अपमानित करके सुरक्ष ...

Read more

क्यों खास है 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाना

भारत गणराज्य का संविधान 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हुआ. संविधान की प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉ. भीमराव आंबेडकर के 125वें जयंती वर्ष में 26 नवंबर 2015 को भारत सरकार द्वारा पहली बार इस दिन को "संविधान दिवस" के तौर पर मनाना प्रारंभ किया गया. इसके पीछे जो मंशा थी, वह यह थी कि इससे संविधान के महत्व व दर्शन का प्रसार व डॉ. भीमराव आंबेडकर के विचारों एवं अवधारणाओं को आमजन तक पहुंचाने का कार्य आगे बढ़ेगा. संविधान की ...

Read more

राष्ट्रीय चेतना का उद्घोष : अयोध्या आंदोलन – 3

मंदिर की रक्षार्थ बलिदानों की झड़ी श्रीराम जन्मभूमि के साथ भारत की अस्मिता और हिन्दुओं का सर्वस्व जुड़ा है. यही कारण है कि रावण से लेकर बाबर तक जिस भी विदेशी और अधर्मी आक्रांता ने रामजन्मभूमि को अपवित्र करने का जघन्य षड्यंत्र रचा, हिन्दुओं ने तुरन्त उसी समय अपने प्राणों का उत्सर्ग करते हुए अपने इस सांस्कृतिक प्रेरणा केन्द्र की रक्षा की. जन्मभूमि पर महाराजा कुश के द्वारा बनवाया गया मंदिर भी आक्रान्ताओं का निशा ...

Read more

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about VSK Bharat Latest News

Scroll to top