You Are Here: Home » विचार (Page 6)

घरवापसी से उठा निष्कारण विवाद : मा. गो. वैद्य

उत्तर प्रदेश के आगरा महानगर में 57 मुस्लिम परिवारों ने फिर से अपने मूल हिन्दू धर्म में प्रवेश किया. इस घटना को लेकर संसद में तथा प्रसार माध्यमों में अकारण विवाद खड़ा किया जा रहा है. अनेक लोगों ने इस विधि को धर्मान्तरण, धर्म परिवर्तन, अंग्रेजी में ‘कन्व्हर्शन’ कहा है. किन्तु यह धर्मपरिवर्तन नहीं है. यह अपने ही घर में यानी समाज में परावर्तन यानी पुनरागमन है. यह ‘घरवापसी’ है. उनका धर्म परिवर्तन तो पहले ही हो चु ...

Read more

राष्ट्र की विजिगीषा जगाने की अनिवार्यता

श्री कृष्ण के गीता उपदेश से पूर्व का अर्जुन और संवाद के बाद का अर्जुन-दोनों ही एकदम विभिन्न व्यक्ति हैं. कौरव सेना में अपने अग्रजों और संबंधियों को देखकर अर्जुन हतोत्साहित होकर युद्ध न लड़ सकने की बात भगवान श्री कृष्ण से कहते हैं. परन्तु कृष्ण ने उसका चित्त, मन और मस्तिष्क इस प्रकार बदला कि उसके बाद अर्जुन को विजय ही विजय दिखाई दी. अर्जुन की यह यात्रा जिजीविषा से विजिगीषा तक की है अर्थात केवल मात्र जीने का ...

Read more

गीता पर औचित्यहीन पंथनिरपेक्षी विलाप

कथित पंथनिरपेक्षी व्यथित हैं. पंथनिरपेक्षता को खतरा है. नरेंद्र मोदी की सरकार ने संस्कृति और संस्कृत को बढ़ावा दिया है. उनकी मानें तो सांस्कृतिक मूल्य पंथनिरपेक्ष नहीं हैं. ताजा खतरा अंतरराष्ट्रीय ख्याति के दर्शन ग्रंथ गीता से है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित करने की आवश्यकता बताई है. कथित पंथनिरपेक्षी विलापरत हैं. उनके अनुसार गीता की महत्ता से संविधान के 'धर्मनिरपेक्ष चरित्र' ...

Read more

गीता पर संकीर्ण राजनीति

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि महान पवित्र ग्रंथ भगवद् गीता भी संकीर्ण राजनीति से बच नहीं पा रही है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा भगवत गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ बनाने की हिमायत करने के बाद विरोधी दलों ने उन पर हमले तेज कर दिये हैं. कुछ दिन पहले एक कार्यक्रम में सुषमा स्वराज ने भगवदद् गीता को राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित करने की बात कहते हुए दलील दी थी कि गीता में हर वर्ग और हर तरह की समस्याओं का समाधान है, लिहाजा इसे र ...

Read more

यूरोपीय इतिहास के विरोध में विश्व संगठित हो

इक्कीसवीं सदी तक विज्ञान का विकास सूचना तकनीक, जैव विज्ञान और नैनोविज्ञान तक आ चुका है, लेकिन आज भी विश्व का इतिहास 'वंशवाद' नामक दकियानूसी सिद्धांत पर ही निर्भर है. विश्व का विभाजन आज भी 'वंश सिद्घांत’ पर ही आधारित है. यह सिद्धांत कहता है कि आज के विश्व का विस्तार नोहा की कहानी के आधार पर तुर्किस्तान के अरावत पर्वत से हुआ है़, यह कहानी जेनेसिस में है. उसी को आधार मानकर आज विश्व के 80 प्रतिशत देशों की पाठशा ...

Read more

गीता से बन सकती है सबको अपना मानने की प्रकृति : प.पू. सरसंघचालक

5 हजार 1 सौ 51 वर्ष भगवद्गीता के पूरे हुये और हमारे विदेशी दिनदर्शिका में प्रतिवर्ष गीता जयंती है. आज भी अपने देश में सर्वत्र ऐसे लोग हैं जिनको गीता के 18 अध्याय कंठस्थ हैं. पढ़ने वाले लोग हैं, देखने वाले लोग हैं, उस पर बोलने वाले लोग हैं, इतनी सुदीर्घ परम्परा में समय के अनेक फेरों में श्रीमदभगवद् गीता को लेकर अनेक टीकायें और अनेक भाष्य बने और आगे भी बनते रहेंगे. जब-जब कभी किसी समाज को संकट से उबारने की, सम ...

Read more

सौहार्द से भरे विश्व की खोज

मैं हमेशा कहता रहा हूं कि दुनिया भर के सात अरब लोग हैसियत और ताकत में जैसे भी हों, मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक रूप से एक ही तरह के हैं. चाहे राजा हो या रानी, भिखारी या धर्मगुरु- सब एक ही तरह से जन्म लेते हैं. फर्क हम ही करते हैं. बड़े होकर भूलने लगते हैं कि हम सबका जन्म एक समान ही हुआ है. फर्ज कीजिये कि एक बड़ी प्राकृतिक आपदा आये और हम उसमें से बच निकलें तो उस वक्त तमाम अंतरों को भूल जायेंगे. यह बात बच्चों ...

Read more

ईसाइयत की आंधी और पश्चिमी देशों की थानेदारी

पिछले कुछ समय से किसी भी महासत्ता की कसौटी इस बात पर निर्भर होती आ रही है कि विश्व के अन्य देशों पर उसका किस सीमा तक नियंत्रण है. व्यापार,औद्योगिक कारोबार, विज्ञान-तकनीक, खेती जैसे हर क्षेत्र में नियंत्रण का पैमाना मापा जाता है. उसी से उन महासत्ताओं की अन्य देशों पर थानेदारी की सीमा और क्षमता स्पष्ट हो जाती है. पिछले 100 वर्ष में ही जिन देशों के महासत्ता होने का आभास हो रहा था, वैसे तत्कालीन सोवियत संघ और आ ...

Read more

भारत-तोड़ो जमात के प्यादे

बीसवीं और इक्कीसवीं सदी विकसित विज्ञान की सदी मानी जाती है. सूचना तकनीक, जैविक तकनीक और नैनो तकनीक का इतना विस्तार हुआ है कि आज तक के विज्ञान के पूरे विकास को पीछे धकेलते हुए विकास के नये आयाम हमारे सामने आये हैं. माना जाता था कि विज्ञान का विकास अथवा नये आयाम औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि, औषधि उत्पादन जैसे क्षेत्रों तक सीमित होंगे. लेकिन ऐसा नहीं है,यह प्रयोग तो कुछ मनुष्यों के दिमाग के साथ भी चल रहा है. नई ...

Read more

हिन्दू दर्शन भारतीय है और वैश्विक भी : डॉ. कृष्ण गोपाल

हम जानते हैं कि सभी देश और हर एक समाज का एक विशिष्ट ‘स्वाभाविक-स्वभाव’ होता है. उस देश व समाज की वह एक विशिष्ट पहचान भी होती है. उस विशिष्ट पहचान और स्वभाव को लेकर के ही वह देश विश्व में जीता है. वही विशेष स्वभाव और उसकी वह परम्परा उस देश और समाज की आत्मा के रूप में और वही उसकी नियति के रूप में भी रहता है. एक तरह से कहा जाये तो उस समाज और राष्ट्र की विश्व के लिये देन भी वही हो सकती है. हमारे देश की भी हजारो ...

Read more
Scroll to top