You Are Here: Home » व्यक्तित्व (Page 2)

11 जून / जन्मदिवस – काकोरी कांड के नायक पंडित रामप्रसाद बिस्मिल को नमन

नई दिल्ली. पंडित रामप्रसाद का जन्म 11 जून, 1897 को शाहजहांपुर, उत्तर प्रदेश में हुआ था. इनके पिता मुरलीधर जी शाहजहांपुर नगरपालिका में कर्मचारी थे. पर, आगे चलकर उन्होंने नौकरी छोड़कर निजी व्यापार शुरू कर दिया. रामप्रसाद जी बचपन से महर्षि दयानन्द तथा आर्य समाज से बहुत प्रभावित थे. शिक्षा के साथ साथ वे यज्ञ, संध्या वन्दन, प्रार्थना आदि भी नियमित रूप से करते थे. स्वामी दयानन्द द्वारा विरचित ग्रन्थ ‘सत्यार्थ प्र ...

Read more

संकट के समय संघ के स्वयंसेवकों ने निभाई अहम भूमिका – सुरेश चंद्र जी

अवध. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख सुरेश चंद्र जी ने कहा कि देश व समाज के सामने जब भी बड़े सामाजिक संकट आए, उस समय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने तन, मन, धन से देश व समाज को संकट से उबारने का प्रयास किया. चाहे युद्ध का समय रहा हो या आपातकाल का समय रहा हो, देश में संकट के समय कार्यकर्ताओं ने संघर्ष किया है. संघ के कार्यकर्ता स्थापनाकाल से ही जन जागरण का कार्य करते आ रहे है ...

Read more

10 जून / विजय दिवस – पराक्रमी राजा सुहेलदेव

नई दिल्ली. मुस्लिम आक्रमणकारी सालार मसूद को बहराइच (उत्तर प्रदेश) में उसकी एक लाख बीस हजार सेना सहित जहन्नुम पहुंचाने वाले राजा सुहेलदेव का जन्म श्रावस्ती के राजा त्रिलोकचंद के वंशज पासी मंगलध्वज (मोरध्वज) के घर में माघ कृष्ण 4, विक्रम संवत 1053 (सकट चतुर्थी) को हुआ था. अत्यन्त तेजस्वी होने के कारण इनका नाम सुहेलदेव (चमकदार सितारा) रखा गया. विक्रम संवत 1078 में इनका विवाह हुआ तथा पिता के देहांत के बाद वसंत ...

Read more

कारगिल युद्ध का अमर योद्धा – कैप्टन सौरभ कालिया

09 जून, 1999, कारगिल युद्ध की आहट का साक्षी अमर योद्धा कैप्टन सौरभ कालिया के अदम्य साहस की दास्तान अगला जन्म मैं जब भी पाऊँ , इसी धरा का मैं हो जाऊं दिल में भारत माता हो, गीत उसी के सदा मैं गाऊँ देश की सीमाओं को शत्रु के नापाक हाथों से बचाने के लिए अपना प्राणोत्सर्ग करने वाले अमर बलिदानी सैनिकों की गौरवमयी परंपरा है. भारतमाता के ऐसे अनगिनत लाडले बलिदानी बेटों में एक 22 वर्षीय दुलारे कैप्टन सौरभ कालिया थे, ज ...

Read more

09 जून / पुण्यतिथि – समरसता के नव संशोधक : रामफल सिंह जी

नई दिल्ली. अस्पृश्यता, जातिभेद तथा ऊंचनीच हिन्दू परम्परा का अंग नहीं हैं. यह बीमारियां मुसलमान आक्रांताओं की देन हैं, जिन्हें अंग्रेजों ने अपने हित के लिए खूब हवा दी. इस विचार को समाज में स्थापित कर समरसता अभियान को नयी दिशा देने वाले रामफल सिंह जी का जन्म ग्राम मऊ मयचक (अमरोहा, उत्तर प्रदेश)  में अगस्त, 1934 में दलसिंह जी के घर में हुआ था. छात्र जीवन में उनका संपर्क संघ और अशोक सिंहल जी से हुआ. इस बीच घर व ...

Read more

कारगिल युद्ध के नायक – कैप्टन अमोल कालिया

08 जून, 1999, कारगिल के वीर बलिदानी कैप्टन अमोल कालिया की वीरगाधा, जब अमोल कालिया पैराशूट से 18 हजार फीट ऊंची पहाड़ी पर उतरे और दुश्मनों को ढेर कर विजय हासिल की 08 जून 1999! कैप्टन अमोल कालिया और उनकी टुकड़ी के सैनिकों को बटालिक सेक्टर की 18 हजार फीट ऊंची पहाड़ी पर पैराशूट की मदद से उतारा गया. मिशन था - सामने की पहाड़ी पर चौकी नंबर 5302 को पाकिस्तानी घुसपैठियों के कब्जे से आजाद करवाना. ऐसे मुकाबलों के लिए ह ...

Read more

08 जून / जन्मदिवस – तपस्वी प्रचारक : मधुसूदन देव जी

नई दिल्ली. यूं तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की परम्परा में पले-बढ़े सभी प्रचारक परिश्रम, सादगी, प्रेमभाव और सरलता की प्रतिमूर्ति होते हैं, पर उनमें से कुछ के तपस्वी जीवन की छाप सामान्य कार्यकर्त्ता के मन-मस्तिष्क पर बहुत गहराई से अंकित हो जाती है. मधुसूदन गोपाल देव जी ऐसे ही एक प्रचारक थे. कार्यकर्ताओं में वे ‘देव जी’ के नाम से लोकप्रिय थे. देव जी का जन्म आठ जून, 1918 को धन्तोली, नागपुर में गोपाल देव जी एवं उ ...

Read more

वीर माता विद्यावती कौर जी

इतिहास साक्षी है कि देश, धर्म और समाज की सेवा में अपना जीवन अर्पण करने वालों के मन पर संस्कार उनकी माताओं ने ही डाले हैं. भारत के स्वाधीनता संग्राम में हंसते हुए फांसी चढ़ने वाले वीरों में भगत सिंह का नाम प्रमुख है. उस वीर की माता थीं,  वीर माता विद्यावती कौर. भगत सिंह पर उज्जैन के विख्यात लेखक श्रीकृष्ण ‘सरल’ ने एक महाकाव्य लिखा. नौ मार्च, 1965 को इसके विमोचन के लिए माता जी जब उज्जैन आईं, तो उनके स्वागत के ...

Read more

31 मई / जन्मदिवस – कुशल प्रशासक, प्रजावत्सल, धर्मपरायणा राजमाता अहिल्याबाई होल्कर

नई दिल्ली. भारत में जिन महिलाओं का जीवन आदर्श, वीरता, त्याग तथा देशभक्ति के लिए सदा याद किया जाता है, उनमें कुशल प्रशासक, प्रजावत्सल, धर्मपरायणा रानी अहिल्याबाई होल्कर का नाम प्रमुख है. उनका जन्म 31 मई, 1725 को ग्राम छौंदी (अहमदनगर, महाराष्ट्र) में एक साधारण कृषक परिवार में हुआ था. इनके पिता श्री मनकोजी राव शिन्दे परम शिवभक्त थे. अतः यही संस्कार बालिका अहिल्या पर भी पड़े. एक बार इन्दौर के राजा मल्हार राव हो ...

Read more

31 मई / जन्मदिवस – केरल की प्रथम शाखा के स्वयंसेवक पी. माधव जी

नई दिल्ली. केरल के कार्यकर्ताओं में श्री पी. माधव जी का नाम बड़े सम्मान से लिया जाता है. वहां शाखा कार्य का प्रारम्भ 1942 में कोझीकोड (कालीकट) में श्री दत्तोपंत ठेंगड़ी ने किया. श्री पी. माधव उसी शाखा के स्वयंसेवक थे. माधव जी का जन्म कोझीकोड के प्रतिष्ठित सामोरिन राजपरिवार में 31 मई, 1926 को हुआ था. उनके पिता श्री मानविक्रमन राजा वकील थे. लोग उन्हें सम्मानपूर्वक कुन्मुणि राजा कहते थे. उनकी माता जी का नाम श् ...

Read more

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about VSK Bharat Latest News

Scroll to top