You Are Here: Home » समाचार » उत्तराखंड

मिशनरी स्कूल में बच्चे की पीट-पीट कर हत्या, फिर दफनाया

देहरादून. शिक्षा के क्षेत्र में गौरवपूर्ण शहरों में गिने जाने वाले देहरादून में शिक्षण संस्थाओं के हालात बदतर होते जा रहे हैं. पिछले दिनों एक नामी बोर्डिंग स्कूल की एक छात्रा से सामूहिक बलात्कार की घटना को लोग भूल भी नहीं पाए थे कि बोर्डिंग के ही एक और स्कूल में बारहवीं कक्षा के 2 छात्रों ने उसी स्कूल के एक छात्र की क्रिकेट के बल्ले और विकेट से पीट-पीटकर हत्या कर दी. मृतक छात्र पर एक बिस्कुट का पैकेट उठाने ...

Read more

लोकतंत्र के समक्ष व्यक्तिवाद, जातिवाद, क्षेत्रवाद सबसे बड़ी चुनौती – डॉ. राकेश सिन्हा

देहरादून (विसंकें). राज्यसभा सांसद डॉ. राकेश सिन्हा ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र के सामने व्यक्तिवाद, जातिवाद, क्षेत्रवाद व साम्प्रदायिकता सबसे बड़ी चुनौती है. व्यक्तिवाद के कारण लोकतंत्र व्यक्ति विशेष का बंधक बन जाता है जो न समाज हित में है और न ही देश हित में. डॉ. सिन्हा ए.एम.एन. घोष सभागार (ओ.एन.जी.सी.) में विश्व संवाद केन्द्र द्वारा आयोजित ‘लोकतंत्र के समक्ष उपस्थित चुनौतियां’ विषय पर कार्यक्रम को मुख्य वक् ...

Read more

संघ समता युक्त-शोषण मुक्त समाज एवं अहंकार व स्वार्थ मुक्त व्यवस्था बनाने में लगा है – डॉ. मोहन भागवत

देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि संघ संस्थापक डॉ. हेडगेवार जी जन्मजात देशभक्त थे. उनको लगा कि हमारे समाज का परिवर्तन या देश को स्वतन्त्रता सिर्फ सरकारों या नारों के माध्यम से नहीं मिलेगी तथा स्वतन्त्रता का लाभ तभी मिलेगा, जब हमारा समाज एकजुट होगा. इस उद्देश्य को लेकर उन्होंने सन् 1925 में संघ की स्थापना की और शाखा के माध्यम से व्यक्ति निर्माण व समाज सेवा क ...

Read more

हमारी सोच व्यक्तिगत न होकर समाज हित में होनी चाहिए – हितेश शंकर जी

हिमालय हुंकार के विशेषांक का लोकार्पण देहरादून (विसंकें). व्यक्ति के जीवन को समाज से अलग नहीं देखा जा सकता. एकात्म मानववाद का विचार हमें यही सिखाता है. संस्कार, शरीर, मन, बुद्धि व आत्मा को केन्द्र में रखकर ही हमें समाज हित में कार्य करने चाहिएं, तभी देश के प्रति हमारा उत्तरदायित्व पूर्ण हो सकता है. विश्व संवाद केन्द्र द्वारा प्रकाशित ‘हिमालय हुंकार’ पाक्षिक पत्रिका के ‘मेरा भारत और मैं’ विशेषांक के लोकार्पण ...

Read more

विश्व संवाद केंद्र द्वारा संगोष्ठी का आयोजन

देहरादून (विसंकें). देवभूमि उत्तराखण्ड औद्योगिक विकास एवं कृषि विकास की सम्भावनाओं पर दो सत्रों में संगोष्ठी का आयोजन विश्व संवाद केन्द्र द्वारा किया गया. प्रथम सत्र की अध्यक्षता दून विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. चन्द्रशेखर नौटियाल जी तथा दूसरे सत्र की अध्यक्षता वन विभाग के पूर्व मुख्य वन संरक्षक डॉ. आर.बी.एस. रावत जी ने की. दोनों सत्रों का संचालन कार्यक्रम के लक्ष्मीप्रसाद जायसवाल जी ने किया. प्रथम सत्र के व ...

Read more

पत्रकार समाज को जोड़ने का काम करते हैं – प्रो. बृजकिशोर कुठियाला जी

देहरादून (विसंकें). नारद जयन्ती के अवसर पर नगर निगम, प्रेक्षागृह, देहरादून में एक समारोह का आयोजन किया गया. कार्यक्रम के मुख्य वक्ता उच्च शिक्षा आयोग, हरियाणा के अध्यक्ष प्रो. बृजकिशोर कुठियाला जी ने कहा कि देवर्षि नारद इस ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार थे. वे सूचनाओं का आदान-प्रदान बिना किसी भेदभाव के करते थे. उनके द्वारा दी गई जानकारी के पीछे समाज हित होता था. पत्रकार समाज को जोड़ने का काम करते हैं, अपने विवेक ...

Read more

मातृ भूमि की सेवा ही हमारा परम कर्तव्य – सुरेश चन्द्र जी

देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ देहरादून महानगर की विद्यार्थी शाखा दर्शन कार्यक्रम में महानगर के 51 शाखाओं के 954 स्वयंसेवकों ने प्रतिभाग किया. अनेक प्रेरक कहानियों व अपने जीवन के छोटे-छोटे अनुभवों के माध्यम से मातृभूमि की सेवा को परम कर्तव्य बताते हुए संघ के अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख सुरेश चन्द्र जी ने कहा कि जिस प्रकार हम अपनी जन्म देने वाली माँ की सेवा करते हैं, उसी प्रकार हम इस मातृभूमि की ...

Read more

सामाजिक समरसता व समन्वय से ही समाज शक्तिशाली और संगठित होगा

देहरादून (विसंकें). रविवार को गोपेश्वर, चमोली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ चमोली की विभिन्न शाखाओं के स्वयंसेवकों का बद्रीश स्वयंसेवक समागम का गोपेश्वर के पुलिस मैदान में सम्पन्न हुआ. मुख्य वक्ता प्रांत प्रचारक युद्धवीर जी ने कहा कि सामाजिक समरसता व समन्वय से ही समाज शक्तिशाली और संगठित होगा, तभी भारत विश्व गुरू बनेगा. यही कार्य संघ विगत 92 वर्षों से शाखा के माध्यम से कर रहा है. दैनिक एक घण्टे की शाखा में अन ...

Read more

हिन्दुत्व से बेहतर कोई अन्य व्यवस्था नहीं – अमेरिकी प्रोफेसर के. पेनिंग्टन

उत्तराखंड. पूरी दुनिया में हिन्दुत्व से बेहतर कोई अन्य व्यवस्था नहीं है. सकारात्मक आस्था के मामले में हिन्दू धर्म दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है. भारत में गंगा को माँ का दर्जा दिया गया है. ऐसा आपको दुनिया में कहीं देखने को नहीं मिलेगा. हिन्दुत्व में मानव सभ्यता के आदर्श समाहित हैं. प्रकृति की पूजा भारत के मूल में है. जीवन को संचालित करने की हिन्दुत्व से बेहतर कोई अन्य व्यवस्था नहीं है. हिन्दू धर्म का उद्देश्य मा ...

Read more

अध्यात्म भारत के चिन्तन का आधार है – डॉ. मनमोहन वैद्य जी

ग्राफिक एरा हिल विश्वविद्यालय में ‘राष्ट्र निर्माण एवं पत्रकारिता के सरोकार’ पर व्याख्यान देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य जी ने कहा कि अंग्रेज तो 1947 में चले गए, लेकिन अंग्रेजियत छोड़ गए. इस भाषा का खौफ इस कदर हावी है कि हम अपनी पहचान ही खो रहे हैं. हमें अपनी भाषा पर स्वाभिमान होना चाहिए, लेकिन हम इसे सीखने में शर्म महसूस करते हैं. अगर कोई अंग्रेजी नहीं जानता तो ...

Read more
Scroll to top