You Are Here: Home » समाचार » गोरक्ष

शिक्षा को प्रदर्शन से दर्शन की ओर ले जाना है – यतीन्द्र

गोरखपुर. विद्या भारती के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतीन्द्र जी ने कहा कि शिक्षा आज प्रदर्शन का विषय हो गई है, इसे दर्शन की ओर ले जाना है. शिक्षा व्यवसाय हो गई है, उसे ज्ञान की तरफ ले जाना है. यतीन्द्र जी विद्या भारती (पूर्वी उत्तर प्रदेश) द्वारा आयोजित दस दिवसीय क्षेत्रीय शिशु वाटिका प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि शिक्षा आज सरकारों की दासी बनकर रह गई है. यह बहुत भयावह ...

Read more

भारत में स्वाधीनता की चेतना के नायक हैं महाराणा प्रताप – डॉ. बालमुकुन्‍द

गोरखपुर (विसंकें). मध्यकालीन भारत में महाराणा प्रताप स्वाधीन चेतना के वैसे ही नायक हैं जैसे बीसवीं शताब्दी में भगत सिंह, आजाद, बिस्मिल जैसे क्रान्तिकारी थे. महाराणा प्रताप हमारे वास्तविक नायक हैं, जिनका जीवन शौर्य, संप्रभुता, स्वतंत्रता, जातीय स्वाभिमान का प्रतिमान था. महाराणा प्रताप का नाम भारत के शिखर के अमर-सपूतों में दर्ज है. प्रताप भारत एवं भारतीयता के प्रतीक हैं. राष्ट्रीय स्वाभिमान की रक्षा के लिए प् ...

Read more

संघ की ‘शाखा’ संस्कार देने वाला विद्यापीठ – सुनील कुलकर्णी

गोरखपुर (विसंकें). महाराणा प्रताप इण्टर कॉलेज परिसर गोलघर, गोरखपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ गोरखपुर महानगर के स्वयंसेवक समागम को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय शारीरिक शिक्षण प्रमुख सुनील कुलकर्णी जी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ 93 वर्षों से अनवरत चला आ रहा है. इस कालखंड में संगठन ने अनेकों उतार-चढ़ाव देखे. डॉ. हेडगेवार जी ने जब संघ की स्थापना की थी, तब समाज का एक बड़ा वर्ग अ ...

Read more

हिन्दू कोई जाति या पंथ नहीं, यह एक संस्कार व संस्कृति है – शंकर लाल जी

गोरखपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य शंकर लाल जी ने कहा कि हम भाग्यशाली हैं कि भारत भूमि पर पैदा हुए हैं. यह भूमि इतनी पवित्र है कि यहां स्वयं भगवान भी जन्म लेने की इच्छा रखते हैं. हिन्दुस्थान की भूमि हिन्दू भूमि है. हिन्दू कोई जाति या पंथ नहीं है. यह एक संस्कार व संस्कृति है. हिन्दुस्थान में रहने वाला हर व्यक्ति हिन्दू है. सभी के पूर्वज एक हैं. उपासना पद्धति जरूर अ ...

Read more

विभाजनकारी शक्तियां देश व समाज को तोड़ने के लिये प्रयासरत – अनिरुद्ध देशपांडे जी

गोरखपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय संपर्क प्रमुख अनिरुद्ध देशपांडे जी ने कहा कि विभाजनकारी शक्तियां हिन्दू समाज को बांटने और देश को तोड़ने का कार्य कर रही हैं. जाति-बिरादरी और ऊंच-नीच का भाव दिखाकर समाज के लोगों को लड़ाने की पुरजोर कोशिश में जुटी हुई हैं, लेकिन संघ उनके इस कुत्सित प्रयास को पूरा नहीं होने देगा. समाज को जागृत कर ऐसी देशद्रोही मानसिकता वाले लोगों को पराजित करना ही संघ क ...

Read more

गोरखपुर का प्रथम अप्रवासी भारतीय स्वयंसेवक सम्मेलन

गोरखपुर (विसंकें). विदेशों में रहकर व्यापार या नौकरी करने वाले गोरखपुर के अप्रवासी स्वयंसेवक बन्धुओं का प्रथम सम्मेलन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, गोरखपुर द्वारा तारामण्डल, भगत चौराहा स्थित देवकी लॉन में शनिवार (31 मार्च) को आयोजित किया गया. सम्मेलन में प्रमुख रूप से थाईलैंड, सिंगापुर, मलेशिया, खाड़ी देशों, फिलीपींस आदि में रहने वाले स्वयंसेवक उपस्थित रहे. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विश्व विभाग हिन्दू स्वयंसेवक सं ...

Read more

सम्पूर्ण समाज संगठित, समरस, समभाव होकर मानवता की उन्नति के लिए कार्य करे – रामाशीष सिंह जी

गोरखपुर (विसंकें). प्रज्ञा प्रवाह के क्षेत्र संगठन मंत्री रामाशीष सिंह जी ने कहा कि मकर संक्रांति के दौरान सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है. इसके बाद से दिन बड़े होने शुरू हो जाते हैं. समाज से धुंध, अंधकार छंटने लगता है. ये नकारात्मकता पर सकारात्मकता की विजय का पर्व है. इसीलिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से सहभोज के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिससे समाज में व्याप्त छुआछूत, भेदभाव जैसी बुर ...

Read more

राष्ट्र को सेवा क्षेत्र में आंदोलन की आवश्यकता – सुधीर जी

गोरखपुर (विसंकें). राष्ट्रीय सेवा भारती के राष्ट्रीय सह महासचिव सुधीर जी ने कहा कि भारतवर्ष के सेवाभावी इतिहास को धत्ता बताकर सेवा के नाम पर छलावा करने वाली विदेशी धन पर पोषित मिशनरीयों ने न केवल देश के खिलाफ कार्य किया, बल्कि अपने गुप्त एजेण्डे के तहत उन्होंने मतांतरण का कुचक्र भी चलाया. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का सेवा विभाग निरन्तर विपदा की स्थितियों में, आदिवासी बाहुल्य प्रदेशों में पिछड़ों और वंचितों के ...

Read more

आंग्लदासता से युक्त इतिहासकारों ने भारत के राष्ट्रीय इतिहास के गौरव के मर्दन का कुप्रयास किया – बालमुकुंद जी

गोरखपुर (विसंकें). अखिल भारतीय इतिहास संकलन योजना के राष्ट्रीय संगठन सचिव डॉ. बाल मुकुंद जी ने कहा कि इतिहास के समक्ष यह सोचने का बिन्दु है कि आखिर सन् 1857 की प्रथम राष्ट्रीय क्रांति के काल में न तो सांप्रदायिक कट्टरवाद था और न ही जातिवादिता. लेकिन पाश्चात्य जगत ने आंग्लदासता से युक्त इतिहास लिखने के लिए हमारे राष्ट्रीय इतिहास के गौरव का मर्दन करने का कुप्रयास किया. यह सौभाग्य का विषय रहा कि तत्कालीन भारती ...

Read more

संघ में सभी का स्वागत है – सुनील कुलकर्णी जी

गोरखपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय शारीरिक शिक्षण प्रमुख सुनील कुलकर्णी जी ने कहा कि संघ समाज के सभी वर्गों को समाहित करता है. संघ में सभी का स्वागत है. संघ की पद्धति व कार्यशैली अलग है, इसलिए संघ को समझना है तो शाखा आना पड़ेगा. संघ की शाखा में व्यक्ति का शारीरिक एवं बौद्धिक विकास होता है. संघ की शाखा में धैर्यवान, राष्ट्रप्रेमी और जोशीले कार्यकर्ता तैयार किये जाते हैं जो समय-समय पर सम ...

Read more

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about VSK Bharat Latest News

Scroll to top