You Are Here: Home » समाचार » छत्तीसगढ (Page 3)

सकारात्मक लेखन की आवश्यकता

रायपुर. राज्य सभा के पूर्व सदस्य श्री गोपाल व्यास का कहना है कि देश की अनेक समस्याओं का समाधान लेखकों की लेखनी में छुपा है, इसलिये जितना सकारात्मक लेखन और चिन्तन होगा, समाज और देश अच्छे नतीजे हासिल कर सकेगा. विश्व संवाद केंद्र की ओर से वरिष्ठ लेखक तथा स्तम्भकारों के लिये आयोजित परिचर्चा में गौवंश, नारी अस्मिता, आर्थिक उदारीकरण, धर्मान्तरण एवं नक्सलवाद जैसे विषयों पर अपने विचार व्यक्त किये. प्रान्त प्रचार प् ...

Read more

वेब पत्रकारिता ने मीडिया को ज्यादा सुलभ बनाया’

रायपुर(विसंके). पठनीय सामग्री और आकर्षक कलेवर से छत्तीसगढ़ में अपनी पहचान स्थापित कर चुकी आम आदमी मासिक पत्रिका ने साहित्यिक आयोजनों की ओर कदम बढ़ाते हुये, विगत शनिवार, 20 सितंबर को एक संगोष्ठी का आयोजन किया. इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में राज्यसभा सांसद श्री नंद कुमार साय उपस्थित थे, जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता रायपुर प्रेस क्लब के अध्यक्ष तथा सन स्टार अखबार के संपादक श्री अनिल पुसदकर ने की. मुख्य अतिथि ...

Read more

दुर्लभ प्रजातियों के संरक्षण की पहल

12 मई को चित्रकूट में दीनदयाल शोध संस्थान के तत्वावधान में "चित्रकूट की जैव विविधता में दुर्लभ प्रजातियां" विषय पर विद्वानों और जैव विशेषज्ञों ने गहन चिंतन-मनन किया. विद्वानों ने कहा कि चित्रकूट आदिकाल से ही जैव विविधता के रूप में परिपूर्ण रहा है. चित्रकूट पर्वत पर हजारों औषधीय पौधे पाये जाते हैं. कुल 223 तरह के पौधे कामदगिरी पर्वत पर हैं. चित्रकूट के 84 कोसीय क्षेत्र में 780 प्रजातियों के पौधे पाये जाते है ...

Read more

देवर्षि नारद जैसे बनें आज के पत्रकार : प्रो. अग्निहोत्री

रायपुर. आदि पत्रकार के तौर पर पूजे जाने वाले देवर्षि नारद की जयंती तथा नारद सम्मान समारोह का आयोजन 12 मई को संपन्न हुआ. छत्तीसगढ़ विश्व संवाद केन्द्र की ओर से आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार श्री गोपाल वोरा को पत्रकारिता में अमूल्य योगदान के लिये "नारद सम्मान" से सम्मानित किया गया. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रख्यात लेखक एवं पत्रकार प्रो. कुलदीप चन्द अग्निहोत्री थे. बतौर मुख्य वक्ता उन्होंने कहा कि सृष्ट ...

Read more

नक्सली पाठशालाओं में पढ़ाया जा रहा जनक्रांति का पाठ

जगदलपुर: बस्तर संभाग के नक्सल प्रभावित क्षेत्र के स्कूलों से लगातार वनवासी विद्यार्थी लापता हो रहे हैं. नक्सली हर गांव के प्रत्येक घर से एक युवक या युवती की मांग कर रहे हैं और जनयुद्ध का स्कूल चलाकर वनवासी छात्र-छात्राओं को संगठित कर, विभिन्न विषयों सहित माओवादी विचारधारा का भी पाठ पढ़ा रहे हैं. आधिकारिक सूत्रों के अनुसार बस्तर संभाग के नक्सल इलाकों में लगभग 150 पाठशालायें संचालित हैं, जिनमें जनक्रांति का प ...

Read more
Scroll to top