You Are Here: Home » समाचार » जोधपुर (Page 6)

राष्ट्रहित में चिन्तन करने वाले संगठन सदैव राष्ट्रहित की नीति पर जोर देते हैं – ललित जी

जोधपुर (विसंकें). राष्ट्र हित में चिन्तन करने वाले संगठन सदैव राष्ट्रहित की नीति बने, इसी बात के लिए क्रियाशील रहते हैं, स्वदेशी जागरण मंच भी उनमें से एक है. भारत को समृद्धशाली एवं गौरवमयी बनाने के लिए कार्य कर रहे मंच के कार्यकर्ताओं द्वारा इस बात की चिन्ता न करते हुए कि सरकार किस पार्टी की है, सदैव राष्ट्रहित के मुद्दों को उजागर करना चाहिए. वर्तमान में मंच अपने कार्यों द्वारा इस बात को सिद्ध भी कर रहा है. ...

Read more

स्वयं के लिए कठोर व कार्यकर्त्ता के लिए निर्मल हृदय था स्व. सोहन सिंह जी का – मुरलीधर जी

जोधपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जोधपुर के प्रान्त प्रचारक मुरलीधर जी ने कहा कि स्व. सोहन सिंह जी का हृदय स्वयं के लिए कठोर और कार्यकर्त्ता के लिए निर्मल रहता था. अपनी कठोर दिनचर्या से प्रत्येक स्वयंसेवक के लिए वे एक आदर्श थे, स्वयंसेवक के लिए प्रेरणा पुंज थे. व्यवस्था एवं स्वच्छता के प्रति वे अत्यंत संवेदनशील थे. जहां कुछ कमी लगती वे स्वयं उस काम को करने लग जाते थे. जोधपुर महानगर में आयोजित श्रद्ध ...

Read more

व्यक्ति निर्माण की कार्यशाला थे सोहन सिंह जी – मुरलीधर जी

बालोतरा (विसंकें). राजस्थान के पूर्व प्रान्त प्रचारक रहे श्रद्धेय सोहन सिंह जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करने हेतु 6 जुलाई को सुबह श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया. जोधपुर प्रान्त के प्रान्त प्रचारक मुरलीधर जी ने कहा कि  श्रद्धेय सोहन सिंह जी डॉ. हेडगेवार और गुरूजी की प्रतिमूर्ति थे.  वे व्यक्ति निर्माण की कार्यशाला थे, सच्चे शिल्पी थे. उनकी कार्यशैली का अनुसरण करना ही सच्ची श्रद्धांजलि होगी. सभा में विश्व हि ...

Read more

निस्वार्थ, कर्तव्य भाव से की गई सेवा ही वास्तविक सेवा है – सुरेश जी

जोधपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख सुरेश जी ने कहा कि मानव जीवन में सेवा कार्य सर्वश्रेष्ठ है. सेवा कार्य में हर एक व्यक्ति को सहभागी होना चाहिए. सेवा यानि निस्वार्थ भाव से सेवा करना और कर्तव्य भाव से सेवा करना. वह पचरंगा रिसोर्ट में सुदर्शन सेवा संस्थान द्वारा तीन सेवा वाहनों के लोकार्पण अवसर पर संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि भारतीय समाज ने गाय को मां की संज्ञा से प ...

Read more

देश की आर्थिक नीतियां स्वदेशी अनुरूप ही होनी चाहिए – सतीश कुमार

जोधपुर (विसंकें). आर्थिक गुलामी से भारत को आजाद कराने के लिए देश की आर्थिक नीतियां स्वदेशी अनुरूप ही होनी चाहिए. 1992 में लाया गया आर्थिक उदारीकरण सिर्फ और सिर्फ अमेरिकी पूंजीवादी आर्थिक नीतियों पर आधारित था. वर्तमान में इन नीतियों की समीक्षा करने की आवश्यकता है. जिस लक्ष्य को लेकर इन नीतियों को लागू किया गया, उस लक्ष्य को भारत ने वर्षो पहले प्राप्त कर लेना चाहिए था वो अभी तक प्राप्त नहीं किया है. ऐसी स्थित ...

Read more

सीमाजन कल्याण समिति जोधपुर को मिला तृतीय राष्ट्रीय सम्मान

अजमेर (विसंकें). सिन्धुपति महाराजा दाहरसेन स्मारक विकास एवं समारोह समिति अजमेर, अजमेर विकास प्राधिकरण, नगर निगम एवं पर्यटन विभाग के सहयोग से 1303वां बलिदान दिवस समारोह हरिभाऊ उपाध्याय नगर स्थित दाहरसेन स्मारक पर आयोजित किया गया. अतिथियों के स्मारक में प्रवेश के बाद हिंगलाज माता की पूजा-अर्चना की गई और महापुरुषों के चित्रों के साथ महाराजा दाहरसेन की मूर्ति पर श्रद्धा-सुमन अर्पित किए. समारोह की शुरुआत कुमारी ...

Read more

ऐसा प्रकल्प चले जो समाज को बल प्रदान कर सके – मुरलीधर जी

जैसलमेर (विसंकें). सीमाजन कल्याण समिति के दिवंगत पदाधिकारियों स्व. राकेश कुमार और स्व. भीखसिंह भाटी की प्रथम पुण्यतिथि पर सोढ़ाकोर गांव के समीप उनके स्मारक स्थल पर समिति व उसमें सहयोगी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने पुष्प अर्पित कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की. उसके पश्चात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत प्रचारक मुरलीधर जी ने कहा कि समिति के दो श्रेष्ठ कार्यकर्ताओं का इसी स्थान पर सीमा सुरक्षा के निमि ...

Read more

हिन्दू का अर्थ ही हिंसा न करने वाला है – डॉ. भगवती प्रकाश जी

भीनमाल (जालोर ). क्षेत्र संघचालक डॉ भगवती प्रकाश जी ने कहा कि हिन्दू का अर्थ ही हिंसा न करने वाला है. हिन्दू सर्वे भवन्तु सुखिनः की कामना करता है.  हिन्दू मनुष्य के साथ साथ पशु पक्षियों के भी सुख की कामना करने वाला है. भारत पवित्र भूमि है, विश्व में शांति हो, यही इसकी कामना रहती है. उन्होंने महान संस्कृति की रक्षा के लिए देशी  गाय पालने, वृक्षारोपण करने, जल बचाने, पॉलिथीन का उपयोग न करने का आग्रह किया. उन्ह ...

Read more

वैचारिक स्तर पर सकारात्मकता का संदेश समाज तक पहुंचे- सदानंद सप्रे जी

बीकानेर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बीस दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग प्रथम वर्ष का समारोप हो गया. समारोप कार्यक्रम  घड़सीसर मार्ग पर गंगाशहर स्थित आदर्श विद्या मंदिर में आयोजित हुआ. कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विश्व विभाग के सह संयोजक डॉ. सदानंद दामोदर सप्रे ने मुख्य वक्ता के रूप में भाग लिया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की एक शाखा को नियमित रूप से चलाने में कम से कम दस लोग पूर् ...

Read more

संस्कृत तृतीय भाषा नहीं, अनिवार्य भाषा बने – प्रो. चान्दकिरण सलूजा

जोधपुर.  संस्कृत भारती के अखिल भारतीय अध्यक्ष प्रो. चान्दकिरण सलूजा ने कहा कि संस्कृत जन जन की भाषा बने, संस्कृत में सभी तरह का ज्ञान निहित है. संगच्छध्वम् साथ चले अतिथि देवो भव की बात संस्कृत में ही है. जितनी भी समस्याएं समाज में है, वह संस्कृत से दूर हो सकती है. अतः संस्कृत तृतीय भाषा नहीं अनिवार्य भाषा बने विश्व के लोग संस्कृत को उत्साह के साथ सीख रहे है, एक दिन संस्कृत विश्व भाषा बनेगी. संस्कृत भारती जो ...

Read more
Scroll to top