You Are Here: Home » समाचार » दिल्ली

वामपंथी इतिहासकारों ने मुसलमानों को गुमराह किया, नहीं तो मुद्दा सुलझ जाता – के.के. मुहम्मद

प्रसिद्ध पुरातत्ववेत्ता और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक (उत्तर) श्री के.के. मुहम्मद जी 1978 में डॉ. बी.बी. लाल की अगुआई वाली उस टीम के सदस्य थे, जिसने अयोध्या में उत्खनन किया था. श्री मुहम्मद साक्ष्यों के आधार पर पुरजोर तरीके से कहते आ रहे हैं कि अयोध्या में विवादित ढांचा हिन्दू मंदिरों के अवशेष पर खड़ा किया गया. उन्होंने अपनी किताब में भी इसका उल्लेख किया है. केरल के कालीकट में जन्मे ...

Read more

वामपंथी आतंक के शिकार पीड़ितों की दास्तां नेशनल मीडिया को नहीं भा रही ?

हमारे कार्य का आधार घृणा, हिंसा नहीं, आत्मीयता है – डॉ. कृष्ण गोपाल जी केरल में वामपंथी आतंक के पीड़ितों ने सुनाया अपना दर्द विस्मया, ये नाम अधिकांश ने सुना होगा. उसकी कविता सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुई थी. वह पुलिस अधिकारी बनकर अपने गांव की सेवा करना चाहती है, लेकिन वामपंथी गुंडों ने उसके पिता की हत्या कर दी. वह कहती है कि ---- “मेरे पिता मेरे सपनों को पूरा करना चाहते थे, वह रात मेरे सारे सपनों को तबाह कर ...

Read more

डॉ. अंबेडकर जी ने हमेशा समता, बंधुता और स्वतंत्रता पर जोर दिया – वी. भागय्या जी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह वी भागय्या जी ने कहा कि अनुसूचित जाति का विकास ही देश का विकास है, लेकिन बड़ी संख्या में अनुसूचित जातियों के नेताओं व संगठनों की उपस्थिति के बावजूद उनके विकास के लिए जितना काम होना चाहिए, वह नहीं हो पा रहा है. सह सरकार्यवाह जी भारत रत्न डॉ. भीमराव अंबेडकर जी के 127वें जन्मदिवस पर दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने संसद परिसर में डॉ ...

Read more

केरल में लाल आतंक के साये में रह रहे लोग अपनी गुहार लेकर पहुंचे दिल्ली

दिल्ली में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की जोरदार पैरवी करने वाली मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का दोहरा चरित्र है. केरल में इसी पार्टी के कार्यकर्ता अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता तो दूर किसी दूसरी विचारधारा के लोगों को बर्दाश्त तक नहीं कर सकते. ग्रुप ऑफ इंटलेक्चुअल और एकेडमिशियन की संयोजिका और सुप्रीम कोर्ट की वकील मोनिका अरोड़ा जी ने कहा कि मार्क्सवादी सीपीएम के अराजक कार्यकर्ता अब तक सैकड़ों लोगों को मौत के घाट उता ...

Read more

भारतीय संस्कृति में किसी भी प्रकार की हिंसा मान्य नहीं है – डॉ. मोहन भागवत जी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि "गौ रक्षा के दौरान कोई हिंसा न हो. गौ रक्षकों को यह ध्यान रखना चाहिए कि इस दौरान किसी की भावनाओं को ठेस न पहुंचे, नहीं तो गौ रक्षा के तरीके पर ही सवाल उठने लगेंगे." उन्होंने कहा कि "गौ हत्या बंदी सरकार के अधीन है. हमारी इच्छा है कि पूरे भारतवर्ष के लिये कानून बने. इसके लिए केंद्र सरकार को एक कानून बनाना चाहिए." सरसंघचालक जी दिल्ली क ...

Read more

वर्ष 2017-2018 के लिये अखिल भारतीय कार्यकारिणी…

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की वर्ष 2017-2018 के लिये अखिल भारतीय कार्यकारिणी... सरसंघचालक – डॉ. मोहन भागवत जी सरकार्यवाह - सुरेश भय्या जी जोशी सह सरकार्यवाह - सुरेश सोनी जी सह सरकार्यवाह - दत्तात्रय होसबले जी सह सरकार्यवाह – डॉ. कृष्ण गोपाल जी सह सरकार्यवाह - वी भगैय्या जी अखिल भारतीय बौद्धिक प्रमुख - स्वांत रंजन जी अखिल भारतीय सह बौद्धिक प्रमुख - मुकुंद सीआर जी अखिल भारतीय शारीरिक प्रमुख - सुनील कु ...

Read more

एनसीएसटी जनजाति समाज के हितों की रक्षा एवं उनकी सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है – नन्द कुमार साय

नई दिल्ली. द इंडियन सोसाइटी ऑफ इंटरनेशनल लॉ के वी.के. कृष्णमेनन सभागार में अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम द्वारा राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग एनसीएसटी, भारत सरकार के नवनियुक्त अध्यक्ष एवं सदस्यों का अभिनन्दन एवं स्वागत किया गया. इस अवसर पर एनसीएसटी, भारत सरकार के नवनियुक्त अध्यक्ष नन्द कुमार साय जी ने कहा कि हम जनजाति समाज के हितों की रक्षा एवं उनकी सुरक्षा के लिए संकल्पित ही नही, प्रतिबद्ध भी है. हमारे ...

Read more

गंगा – जमुनी तहजीब को बचाने के लिए दाराशिकोह के विचार आज भी सार्थक – पीयूष गोयल जी

नई दिल्ली. अन्तरराष्ट्रीय सांस्कृतिक अध्ययन केन्द्र द्वारा नई दिल्ली में 9वें चमनलाल स्मृति व्याख्यान में केन्द्रीय विद्युत राज्य मंत्री पीयूष गोयल जी ने कहा कि हर व्यक्ति एवं संस्था की निगरानी तथा मार्ग में भटकने से बचाने के लिए कोई न कोई मौरल अथॉरिटी आवश्यक होती है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के रूप में हमें वह अथॉरिटी मिली है जो हमें गलत रास्ते में जाने से बचाती आई है. श्री चमन लाल जी भी संघ के शीर्षस्थ मार ...

Read more

‘भेद रहित समाज का निर्माण होने वाला है’ – डॉ. मोहन भागवत जी

और फिर कोई अन्याय करने वाला खड़ा न हो सके - इसका इंतजाम होना चाहिए फिर कोई अन्याय करने वाला खड़ा न होना सके - इसका इंतजाम होना चाहिए. यह सब इसलिए करना है ताकि संपूर्ण समाज एक हो सके. आपस में दुर्भावना बढ़ाने वाली भाषा नहीं होनी चाहिए. फिर व्यवस्था में इस दृष्टि से जो-जो प्रावधान किए जाते हैं, या करने के सुझाव आते हैं, वे प्रावधान लागू हों. इस प्रक्रिया में सबको समाहित करते हुए, किसी की राह देखे बिना, नित्य व्य ...

Read more

शिक्षा प्रणाली में भारतीय दृष्टिकोण के विकास के प्रयासों को बढ़ावा देने की आवश्यकता – डॉ. मोहन भागवत जी

ज्ञान संगम - शिक्षा में भारतीय दृष्टिकोण लाने का संकल्प नई दिल्ली. नई दिल्ली में 25 और 26 मार्च को ज्ञान संगम नाम से दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित हुई. प्रज्ञा प्रवाह के तत्वावधान में आयोजित कार्यशाला में 721 शिक्षाविद् शामिल हुए थे. इनमें 51 कुलपति भी शामिल थे. संगम में वक्ताओं ने कला, संस्कृति, थियेटर, दर्शन, सामाजिक विज्ञान, प्रबंधन, जन संचार, विज्ञान आदि विषयों पर गहन चर्चा की. प्रज्ञा प्रवाह के अखिल भारती ...

Read more
Scroll to top