You Are Here: Home » समाचार » दिल्ली (Page 3)

अध्यात्म के बिना भौतिक ज्ञान भी मार्ग से भटक जाएगा – डॉ. मोहन भागवत जी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत एक है और अब वो जाग रहा है. भारत उठेगा और अपना स्थान हासिल करेगा, ऐसी आशाएं पल्लवित हो रही हैं. ज्ञान निधि प्रकट करने का समय आ गया है. हमें अपने आप को पहचानना होगा. वेद हमारी पहचान तो हैं, लेकिन उसे एक बार फिर लोगों के लिए आधुनिक युग के हिसाब से समझाना होगा. परमाणु क्षेत्र में हुए खोज का श्रेय भी वैज्ञानिक वेदों को ही देते रहे ह ...

Read more

राष्ट्रहित के लिए स्वदेशी आधारित नीति अपनाने की आवश्यकता – डॉ. अश्विनी महाजन जी

नई दिल्ली. स्वदेशी जागरण मंच के अखिल भारतीय संयोजक डॉ. अश्विनी महाजन जी ने कहा कि स्वदेशी का स्वतंत्रता आन्दोलन में अहम योगदान रहा. अंग्रेजों ने देश को ना सिर्फ राजनीतिक रूप से गुलाम बनाया था, बल्कि आर्थिक रूप से भी गुलाम बनाया. जिसका असर आज तक दिखाई देता है. हमारे देश के पास आयात करने के लिए विदेशी मुद्रा का भंडार सीमित है, यह हमारे देश के राजनेताओं ने नहीं कहा अपितु यह अमेरिका समेत कई पश्चिमी देशों ने कहा ...

Read more

मानव का सम्पूर्ण प्रकृति के साथ एकात्म संबंध स्थापित करना ही एकात्म मानव दर्शन – मदन दास देवी जी

चित्रकूट. राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख ने 1968 में पं. दीनदयाल उपाध्याय के निर्वाण के उपरांत दीनदयाल स्मारक समिति बनाकर उनके अधूरे कार्यो को पूर्ण करने के लिये दिल्ली में नींव रखी थी. श्रद्धेय नानाजी ने 42 वर्ष में दीनदयाल स्मारक समिति से लेकर दीनदयाल शोध संस्थान की स्थापना तक के सफर में पं. दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानव दर्शन के विचारों को व्यावहारिक रूप से धरातल पर उतारने का काम सामूहिक पुरूषार्थ से करके दि ...

Read more

एकात्मता और परिवार भाव है, भारतीय संस्कृति का वैश्विक अवदान

भारत बोध व्याख्यान श्रृंखला नई दिल्ली. एकात्मता और परिवार भाव ही है भारतीय संस्कृति का वैश्विक अवदान. भारतीय शब्द हमारी संस्कृति का परिचायक है. आजादी के समय कुछ लोगों ने देश का नाम आधिकारिक रूप से ‘भारत’ रखने के लिए कई प्रयत्न किये, लेकिन अंग्रेजपरस्त लोगों ने साथ नहीं दिया. हमारे यहाँ जो भी सांस्कृतिक परम्पराओं के पीछे की दृष्टि है, उसका सन्दर्भ सदैव वैश्विक ही रहा है. भारतीय शिक्षण मंडल के अखिल भारतीय संग ...

Read more

अभावग्रस्तों की सेवा करना, उनकी सहायता करना हमारे जीवन मूल्यों में है – डॉ. मोहन भागवत जी

नई दिल्ली. एयरो सिटी नई दिल्ली, वरलक्ष्मी फाउंडेशन (जीएमआर ग्रुप) के सिल्वर जुबली समारोह में सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी का उद्बोधन....... वरलक्ष्मी फाउंडेशन और जीएमआर ग्रुप से संबन्धित सभी कर्मचारीगण, कार्यकर्तागण उपस्थित नागरिक सज्जन, माता और बहनों, मंत्री जी ने जो कहा, उससे मैं 100 प्रतिशत सहमत हूँ, कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी, ये तीन शब्द आने के बहुत पहले से जो कमाते हो, उसमें से कितना देते हो, उस पर ...

Read more

‘यक्ष प्रश्नों के उत्तर’ और ‘जम्मू-कश्मीर से साक्षात्कार’ पुस्तकों का लोकार्पण

नई दिल्ली. हिन्दी भवन सभागार, विष्णु दिगंबर मार्ग, नई दिल्ली में प्रख्यात समाजधर्मी इंद्रेश कुमार जी की सद्यः प्रकाशित पुस्तकों ‘यक्ष प्रश्नों के उत्तर’ तथा ‘जम्मू-कश्मीर से साक्षात्कार’ का लोकार्पण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय तथा राज्यमंत्री प्रधानमंत्री कार्यालय डॉ. जितेंद्र सिंह जी के करकमलों से संपन्न हुआ. प्रख्यात अर्थशास्त्री, विधिवेत्ता एवं राज्यसभा सांसद डॉ. स ...

Read more

बाइक से हिन्दू-मुस्लिम एकता का सन्देश देने भारत यात्रा पर निकले युवा

नई दिल्ली. नागपुर से हिन्दू - मुस्लिम एकता के उद्देश्य से मोटर बाइक द्वारा भारत यात्रा पर निकले अजय राज ने दिल्ली पहुँचने पर प्रेस क्लब में बताया कि नागपुर से आरम्भ हुई यह बाइक यात्रा सियाचिन होते हुए अमृतसर, जयपुर, अहमदाबाद और अहमदाबाद से वापस नागपुर में संपन्न होगी. हम लोग 5 हजार 700 किलोमीटर बाइक द्वारा तय करेंगे. बाइक रैली का मकसद हिन्दू-मुस्लिम एकता है. उन्होंने इस यात्रा से सम्बंधित अपने यूट्यूब चैनल ...

Read more

‘भूमि अधिग्रहण कानून, सिद्धांत एवं व्यवहार : भावी मार्ग’ विषय पर राष्ट्रीय कार्यशाला आयोजित

नई दिल्ली. अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम और गाँधी स्मृति एवं दर्शन समिति के संयुक्त तत्वावधान में दिनांक 9 और 10 सितम्बर 2017 को दिल्ली में दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसका विषय था - भूमि अधिग्रहण कानून, सिद्धांत एवं व्यवहार : भावी मार्ग (Land Acquisition Laws, Theory and Practice : Way Ahead). 2013 में उचित प्रतिकार का अधिकार एवं भूमि अधिग्रहण पुनर्वास तथा पुनर्व्यवस्थापन में पारदर्शिता अधिनि ...

Read more

घर, विद्यालय और समाज में हो एक जैसी शिक्षा – डॉ. मोहन भागवत जी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि कोई भी ग्रन्थ अंतिम शब्द नहीं होता. ग्रन्थ पोथी बद्धता को बढ़ाने वाले नहीं होने चाहिए, जबकि हम सभी पोथीबद्ध हो जाते हैं. औपनिवेशिक काल में स्वामी विवेकानंद, रविन्द्र नाथ ठाकुर, महात्मा गांधी जैसे हमारे महापुरुषों ने हालांकि मैकाले की शिक्षा पद्धति से शिक्षा प्राप्त की, लेकिन वे इससे अप्रभावित रहे और भारतीय शिक्षा पद्धति पर ही ध्यानाक ...

Read more

राष्ट्र सेविका समिति की पूर्व संचालिका उषा ताई चाटी को श्रद्धांजलि अर्पित की

नई दिल्ली. दीनदयाल उपाध्याय शोध संस्थान दिल्ली में राष्ट्र सेविका समिति की तृतीय प्रमुख संचालिका उषा ताई चाटी जी की दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि देने के लिए श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया. विगत 17 अगस्त  2017 को उषा ताई चाटी का 96 वर्ष की अवस्था में लंबी बीमारी के बाद नागपुर में देहांत हो गया था. शोक सभा में राष्ट्र सेविका समिति की प्रमुख संचालिका शांता अक्का जी, अखिल भारतीय प्रमुख कार्यवाहिका सीता अन्नदा ...

Read more
Scroll to top