You Are Here: Home » समाचार » दिल्ली (Page 6)

जाति, वर्ग, संप्रदाय से ऊपर उठकर सम्पूर्ण भारतीय समाज को जाग्रत करें – दिनेश चंद्र जी

नई दिल्ली (इंविसंकें). विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय संगठन महामंत्री दिनेश चंद्र जी ने कहा कि हमारा देश 1200 वर्षो तक गुलाम रहा क्योंकि हिन्दू समाज बंटा हुआ था. आज दुनिया भर में पुन: ऐसी जेहादी ताकतें सिर उठा रही हैं जो भारत को खंडित करना चाहती हैं. हिन्दू युवाओं को इन आतंकी ताकतों के खिलाफ आवाज उठानी होगी और अपने शौर्य बल से इन ताकतों को जड़ से कुचलना होगा. उन्होंने कहा कि आतंकवाद का कोई पंथ या जाति ...

Read more

उड़ान का वार्षिक पंचांग अनावरण कार्यक्रम

नई दिल्ली. दिल्ली के हरियाणा भवन में ‘उड़ान’ (Unfolding Drama and Acts to Awaken Nation) द्वारा ‘पंचांग अनावरण’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया. 07 जून को पंचांग अनावरण कार्यक्रम में ‘उड़ान’ ने वर्षभर में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा प्रस्तुत की. इनमें प्रमुख रूप से महापुरूषों की जयन्तियां, देश के सांस्कृतिक एवं राष्ट्रीय पर्व, राष्ट्रीय गौरव के विषय आदि को युवा शक्ति के साथ मनाने की योजना बनायी गयी. इ ...

Read more

मनुष्य और प्रकृति अन्योन्याश्रित हैं  – डॉ. बजरंग लाल जी गुप्ता

नई दिल्ली (इंविसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उत्तर क्षेत्र संघचालकडॉ. बजरंग लाल जी गुप्ता ने कहा कि विश्व में आज बाहरी पर्यावरण और प्रदूषण की चर्चा हो रही है, जबकि हमारे देश में मनीषियों ने आंतरिक पर्यावरण और प्रदूषण की बात कही है. डॉ. बजरंग लाल जी 'पर्यावरण दर्शन' पुस्तक के विमोचन अवसर पर संबोधित कर रहे थे. झंडेवाला मंदिर सभागार में सुरुचि प्रकाशन द्वारा प्रकाशित डॉ. ओम प्रभात अग्रवाल की पुस्तक का विमोचन ...

Read more

विश्व पर्यावरण दिवस पर आस्था कुञ्ज में पर्यावरण शुद्धि यज्ञ

नई दिल्ली. विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में एक बृहद पर्यावरण शुद्धि यज्ञ का आयोजन किया गया. यज्ञ के उपरान्त विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल जी ने कहा कि पर्यावरण की रक्षा भारतीय संस्कृति का मूल मंत्र है. भारतीय दर्शन ही तो है जो समस्त विश्व को प्रकृति के भोग व दोहन से बचाकर समुचित उपयोग तथा उसकी संरक्षणवादी सोच की ओर ले जाता है. यही कारण है कि सिर्फ सनातन हिन्दू धर्म में पेड़-पौधों, नदियों-झरनों, स ...

Read more

दिल्ली में संघ शिक्षा वर्ग प्रथम वर्ष (सामान्य) का पथ संचलन

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बीस दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग में प्रशिक्षण ले रहे शिक्षार्थियों ने 04 जून को पूर्ण गणवेश में पथ संचलन निकाला. पूर्वी दिल्ली स्थित सेवाधाम विद्या मंदिर, मंडोली में 21 मई 2017 से शुरू हुए वर्ग में दिल्ली प्रान्त के 30 जिलों से कुल 286 शिक्षार्थी प्रशिक्षण ले रहे हैं. 04 जून को शिक्षार्थियों द्वारा पथ-संचलन का कार्यक्रम रहा, जिसमें 286 शिक्षार्थी व 65 घोष (बैंड) वादकों ने पू ...

Read more

समाज और स्वयंसेवक मिलकर कर रहे गाँवों का कायापलट

ग्राम विकास के लिए नानाजी देशमुख ‘युगानुकूल ग्रामीण पुनर्रचना’ शब्द प्रयोग किया करते थे. प्रकृति संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण आदि गांव से जुड़ीं जो मूलभूत चीजें हैं, उनका संरक्षण ही गांव का विकास है. इसके अलावा कृषि यानी भूमि की उर्वरा शक्ति, जल यानि सिंचाई, वर्षाजल एवं पेजयल का संरक्षण, जैव संपदा का विकास, वनीकरण यानि वृक्षारोपण. इसी प्रकार ऊर्जा यानि सौर ऊर्जा, छोटे-छोटे बांधों से जल ऊर्जा, गोबर गैस आदि. जनसं ...

Read more

सिख धर्म को हिन्दुओं से कोई खतरा नहीं

मैं अभी-अभी अमरीका से लौटा हूं. वहां मैं अंतर्राष्ट्रीय सिख सेमीनार में हिस्सा लेने गया था. वहां जाकर पता चला कि विदेशों में कई सिख, जो बहुत पढ़े-लिखे हैं, एक अभियान चला रहे हैं कि भारत में हिन्दूवाद का दौर चल रहा है और इसके कारण सिखों के अलग अस्तित्व पर खतरा खड़ा हो गया है. सोशल मीडिया पर इस संबंध में कई विचार व्यक्त हो रहे हैं. कई तो यहां तक चिंतित हो गए हैं कि गुरबाणी पर भी किन्तु-परन्तु किया जा रहा है. ...

Read more

बिन पानी सब सून या जलसंकट का समाधान जल संरक्षण

3290 लाख हेक्टेयर कुल भू-क्षेत्र वाला भारत, विश्व का सातवां सबसे बड़ा देश है। प्रकृति ने हमें विविध प्रकार की जलवायु और मृदा (मिट्टी) प्रदान की है। हमारे देश में भूमि के विविध रूप जो प्रत्येक प्रकार के जीव-जन्तुओं का पालन करने में सक्षम है। मौसम ऐसा, मानो फसलों की जरूरतों के हिसाब से गढ़ा गया हो। वनस्पतियों की भांति प्राणियों की आनुवांशिक विविधता भारत में भरी पड़ी है। क्या फिर भी वर्तमान बदलते वातावरण में ह ...

Read more

वनवासी कल्याण आश्रम वनवासी बंधुओं के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध – अजय जी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उत्तर क्षेत्र बौद्धिक प्रमुख अजय जी ने कहा कि वनवासी बंधुओं के कल्याण के लिए सतत् प्रयास करने की जरूरत है और वनवासी कल्याण आश्रम इस दिशा में लगातार प्रयास करने के लिए प्रतिबद्ध है. वन बंधुओं के कल्याण और उनके हितों की रक्षा के लिए वनवासी कल्याण आश्रम लंबे समय से काम करता आ रहा है. स्वामी विवेकानंद ने भी कहा था कि वह नर की सेवा करते हैं क्योंकि नर ही नारायण है. इसी भावना के ...

Read more

समाज भगवान श्रीराम के सर्वप्रिय वनवासी समाज के कल्याण हेतु आगे आए – विहिप

नई दिल्ली. भगवान श्रीराम का सर्वप्रिय समाज, जिनके साथ चौदह वर्ष रहकर उन्होंने उनके कल्याण हेतु कार्य किया, दुर्भाग्य से वह आज अभावग्रस्त अवस्था में जी रहा है. विश्व हिन्दू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल जी ने समाज का आह्वान करते हुए कहा कि सभी राम भक्त मिलकर भगवान श्रीराम के आदर्शों पर चलते हुए समाज के हर दलित या पिछड़े व्यक्ति की सेवार्थ तन मन धन से आगे आएं. सृष्टि के आदि ग्रंथ वेदों के मंत्रों को स ...

Read more
Scroll to top