You Are Here: Home » समाचार » पश्चिम महाराष्ट्र

समाज की समस्याओं का समाधान समाज में ही मिलेगा – भय्याजी जोशी

पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने कहा कि “संघ को केवल अपने बूते काम नहीं करना है, बल्कि सारे समाज को साथ लेकर चलना है. इस समाज की समस्याओं का समाधान इसी समाज में मिल सकता है, यह संघ का विचार व भूमिका है.” रामकृष्ण पटवर्धन लिखित ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ-एक विशाल संगठन’ मराठी पुस्तक का विमोचन 09 अप्रैल को भय्याजी जोशी ने किया. सरकार्यवाह पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में संबोधित ...

Read more

भय्याजी जोशी ने परीसवेध पुस्तक का विमोचन किया

 पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि जैसे गंगा उसमें आने वाली सभी धाराओं को पवित्र करती है, वैसे ही संघ में आने वाला हर व्यक्ति वैचारिक रूप से पवित्र हो जाता है. संघ का पारस स्पर्श सभी को हुआ है. परीसवेध पुस्तक संघ से एकरूप होकर सामाजिक कार्य के लिए खड़े रहने वाले सभी के लिए प्रतिनिधिक होगा. रवींद्र तथा राजाभाऊ मूले द्वारा लिखित और साप्ताहिक विवेक व हिंदुस्ता ...

Read more

‘सेवा गाथा’ वेबसाइट का अनावरण

पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सेवा प्रमुख पराग अभ्यंकर जी ने कहा कि सेवा करना भारत का मूल विचार है क्योंकि सेवा परमो धर्मः, ये हमारे सभी शास्त्रों में कहा है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवाकार्य इसी विचार के अनुरूप हैं. सेवा विभाग की तरफ से सेवा प्रकल्पों की जानकारी देने वाली ‘सेवा गाथा’ वेबसाइट का अनावरण प्रसिद्ध उद्यमी प्रकाशजी धोका के हाथों 01 जनवरी को मोतीबाग कार्यालय में हुआ. ...

Read more

समस्या का धैर्य से सामना करना गीता की पहली सीख है – मोहन भागवत जी

पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि समस्या सामने आने पर पीठ नहीं दिखाना, यह भगवद्गगीता की पहली सीख है. गीता को जन-जन तक पहुंचाना होगा. अगर भगवद गीता घर-घर तक पहुंचे और उसका सच्चे अर्थों में आचरण हो तो भारत आज की तुलना में सौ गुना सामर्थ्य के साथ विश्वगुरु के रूप में सामने आ सकता है. पुणे स्थित गीताधर्म मंडल संस्था द्वारा प्रकाशित गीता दर्शन मासिक पत्रिका के स्वर् ...

Read more

‘अविरत श्रम करना, संघ जीवन जीना’ इस पंक्ति को बालासाहेब ने अर्थ दिया

पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भय्याजी) जोशी ने कहा कि संघ के कार्य को केवल उसका व्याकरण अच्छा है, शब्द अच्छे हैं, स्वर अच्छे हैं, इसलिए अर्थ प्राप्त नहीं होता. बल्कि उसका अनुसरण कर जो स्वयंसेवक जीते हैं, उनके कामों के कारण अर्थ प्राप्त होता है. बालासाहेब आहिरे के कार्यों के कारण ‘अविरत श्रम करना, संघ जीवन जीना’ इस पंक्ति को सच्चे मायने में अर्थ प्राप्त हुआ है. इन शब्दों से सरक ...

Read more

पत्रकार को पेशेवर दर्जा और मीडिया को जिम्मेदारी का अहसास हो – विष्णु कोकजे जी

देवर्षि नारद पत्रकार सम्मान समारोह पुणे (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व न्यायाधीश विष्णु कोकजे जी ने कहा कि पत्रकारिता एक व्यवसाय है. लेकिन कानून में इस व्यवसाय को कहीं भी मान्यता नहीं है. इसलिए पत्रकार को पेशेवर दर्जा और साथ ही मीडिया को जिम्मेदारी का अहसास होना चाहिए. पत्रकारिता में व्याप्त दुष्प्रवृत्तियों के लिए जिम्मेदार और प्रतिष्ठित पत्रकारों को उत्तर देना पड़ता है. ...

Read more

भीमा-कोरेगांव का सच सामने आने लगा, घटना नकस्ली समर्थकों की साजिश थी

पुणे (विसंकें). सन् 2018 के आरंभ में हुए भीमा - कोरेगांव हिंसा तथा उसके बाद पूरे महाराष्ट्र में कई स्थानों पर हुई हिंसा के मामले का सच सामने आने लगा है. ये घटना सोची समझी साजिश थी. इसके साथ ही कुछ लोगों द्वारा दलित अत्याचार को लेकर किया जा रहा प्रलाप भी बेनकाब हो गया है. मामले में पुणे पुलिस ने बुधवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए चार नक्सली समर्थकों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इन लोगों को विभिन्न स्थानों से ...

Read more

राष्ट्रोत्थान के लिये छत्रपति शिवाजी महाराज का नित्य स्मरण आवश्यक – डॉ. मोहन भागवत जी

रायगढ़. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि समाज में सुधार की इच्छा, शौर्य, ऐसे अनेक गुणों के प्रतीक रहे छत्रपति शिवाजी महाराज का आदर्श हमें लेना चाहिए. और शिवाजी महाराज का अनुकरण कर आदर्श समाज निर्मिती के लिए प्रयास करना चाहिए. हम सब के आचरण से ही संपूर्ण विश्व को शिवाजी महाराज के कर्तृत्व का एहसास होना चाहिए. भारत का उत्थान करना है तो हमें श्रीराम, श्रीकृष्ण, श्री हनुमान और छत ...

Read more

संगीत कला का उपयोग कलाकार राष्ट्रकार्य हेतु करें – डॉ. मोहन भागवत जी

पुणे (विसंकें). सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि संगीत की कला प्रकृति ने ही मनुष्य के हृदय में रखी है. इस कला का उपयोग राष्ट्रकार्य के लिए हो सकता है और इसके लिए कलाकारों को अपने सुझाव देने चाहिए. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ निश्चय ही उनका उपयोग करेगा. सरसंघचालक जी रविवार (01 अप्रैल) को आयोजित 'स्वरांजली' कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ स्वयंसेवक बापूराव दाते जी की जन्मशत ...

Read more

व्यक्ति निर्माण ही संघ का कार्य – भय्याजी जोशी

पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कहा कि  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कार्य व्यक्ति का निर्माण है और साहित्य के सृजन से निर्मित व्यक्ति वास्तव जीवन में कुछ नहीं कर सकते. लेकिन साहित्य सृजन किए बिना जिन्होंने पूरा जीवन व्यक्ति निर्माण में बिताया, उनकी प्रतिकृति बाबासाहेब चव्हाण हैं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ स्वयंवसेवक एवं भारतीय किसान संघ के शहर अध्यक्ष एड. ब ...

Read more
Scroll to top