You Are Here: Home » समाचार » पूर्व उड़ीसा

स्वामी प्राण स्वरूपानंद जी महाराज को उत्कल मणि सेवा सम्मान

भुवनेश्वर (विसंकें). समाजसेवा में अपना जीवन समर्पित करने वाले स्वामी प्राण स्वरूपानंद जी महाराज को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा संस्थान उत्कल विपणन सहायता समिति की ओर से उत्कलमणि सेवा सम्मान से सम्मानित किया गया. रविवार (10 जून, 2018) को स्थानीय समिति कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि श्रीमय कर, विशेष अतिथि पूर्वी ओडिशा के संघचालक समीर मोहंती जी, मुख्य वक्ता राष्ट्रीय सेवा भारती के सह सच ...

Read more

तपन मिश्र को नारद सम्मान – सत्य व भेदभाव शून्य खबरें देना पत्रकार का धर्म

भुवनेश्वर (विसंकें). विश्व संवाद केन्द्र ओड़िशा द्वारा वर्ष 2018 के नारद सम्मान से वरिष्ठ पत्रकार तपन मिश्र को सम्मानित किया गया. पत्रकारिता के क्षेत्र में उनके योगदान के मद्देनजर तपन जी को 16वाँ नारद सम्मान प्रदान किया गया. पुरस्कार के तौर पर 10 हजार रूपये, श्रीफल, स्मारक, प्रशस्ति पत्र और अंग वस्त्र भेंट किया गया. स्थानीय जयदेव भवन में आयोजित समारोह में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), भुवनेश्वर क ...

Read more

सर्वपुरातन संस्कृति हजारों साल से भारत वर्ष को एक सूत्र में पिरोये हुए है – डॉ. मोहन भागवत जी

अनुगुल, भुवनेश्वर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत एक चिरंजीवी राष्ट्र है. हिन्दुत्व हमारी संस्कृति है. यह सर्वपुरातन संस्कृति हजारों साल से भारत वर्ष को एक सूत्र में पिरोये हुए है, मजबूती प्रदान कर रहा है. सभी धर्म, वर्ण, जाति व विचार को सम्मान देना तथा एकता के सूत्र में बांधे रखना ही हिन्दुत्व है. विविधता में एकता हमारे देश का परिचय है, जबकि इसे जोड़कर रखने क ...

Read more

हिन्दू आध्यात्मिक एवं सेवा मेले में सामूहिक कन्या पूजन

उड़ीसा (विसंकें). चार दिवसीय हिन्दू आध्यात्मिक एवं सेवा मेला में सामूहिक कन्या पूजन कार्यक्रम आयोजित किया गया. इसमें 500 कन्याओं का 500 बच्चों ने वैदिक रीति के अनुसार पूजन किया. मंत्रोच्चार एवं हुलहुली ध्वनि के बीच कन्याओं की आरती उतारी तथा मिठाई खिलाकर अनुष्ठान का समापन हुआ. सामूहिक कन्या पूजन अनुष्ठान को देखने के लिए काफी संख्या में लोग उपस्थित थे. आइएमसीटी के कार्यकारी अध्यक्ष मुरली मनोहर शर्मा जी ने कहा ...

Read more

शिक्षा व्यवस्था में आध्यात्मिक विद्या को शामिल करना होगा – गजपति महाराज दिव्य सिंहदेव जी

चार दिवसीय हिन्दू आध्यात्मिक एवं सेवा मेला भुवनेश्वर (विसंकें). गजपति महाराज दिव्य सिंहदेव जी ने कहा कि भारत को यदि विश्व गुरु बनाना है तो शिक्षा व्यवस्था में आध्यात्मिक विद्या को शामिल करना होगा. भारतीय संविधान को सम्मान देते हुए सभी धर्मावलंबियों से चर्चा कर भौतिक विद्या के साथ शिक्षा व्यवस्था में आध्यात्मिक विद्या को शामिल किया जाना चाहिए. इससे हम अपने बच्चों को चरित्रवान बना सकते हैं. अध्यात्म जीवन में ...

Read more

शक्ति आराधना का पर्व है विजया दशमी – नरेंद्र कुमार जी

भुवनेश्वर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख नरेंद्र कुमार जी ने कहा कि आसुरी शक्ति का विनाश करने देवी दुर्गा के अवतरण और आसुरी शक्ति के विनाश का पर्व विजया दशमी शक्ति आराधना का पर्व है. असत्य पर सत्य की विजय का यह पर्व सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत बने. नरेंद्र जी रविवार को राजधानी भुवनेश्वर में आयोजित विजया दशमी उत्सव में मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि सज्जन ...

Read more

भारतीय संस्कृति संपूर्ण विश्व को परिवार मानती है – प्रो. राकेश सिन्हा जी

भुवनेश्वर (विसंकें). राजधानी में आयोजित नारद सम्मान समरोह में मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित प्रो. राकेश सिन्हा जी ने कहा कि भारतीय समाज प्रयोगधर्मी समाज रहा है. यहां विभिन्न मतों को सम्मान दिया जाता है. केवल अपना ही मत श्रेष्ठ है, यह भारतीय धारणा नहीं है. पश्चिम के लिए समग्र विश्व एक बाजार है, जबकि भारतीय संस्कृति समग्र विश्व को कुटुंब मानती है. बाजार की भावना और कुटुंब की भावना में सोच का अंतर है. प्रो. स ...

Read more

800 परिवार बंधुओं ने किया माता पिता का पूजन

हिन्दू आध्यात्मिक एवं सेवा मेला - 2016 भुवनेश्वर (विसंकें). परिवार एवं मानवता की रक्षा के लिए माता-पिता का आदर सम्मान और पूजन जरूरी है. हिन्दू शास्त्रों में भी माता-पिता, आचार्य एवं अतिथि को सम्मान देने की कथा वर्णित है. माता-पिता, आचार्य अतिथि देवता की ही तरह पूजनीय हैं. मगर आधुनिकता ने माता-पिता, आचार्य एवं अतिथियों पर रहे विश्वास को नष्ट कर दिया है. इससे पारिवारिक संपर्क भी छिन्न भिन्न होते जा रहे हैं. अ ...

Read more

महिलाएं भारतीय समाज एवं संस्कृति की मुख्य केंद्र हैं – प्रदीप जोशी जी

600 कन्याओं का सामूहिक पूजन, हिन्दू आध्यात्मिक एवं सेवा मेला - 2016 भुवनेश्वर (विसंकें). भारतीय समाज आधुनिकता के नाम पर पाश्चात्य संस्कृति को अपनाने की होड़ में अपनी प्राचीन परंपरा एवं संस्कृति को भूलता जा रहा है. यहां तक कि लोग अपने जन्मदाता को भूल रहे हैं और उन्हें बुढ़ापे में दर दर की ठोकरें खाने को छोड़ दे रहे हैं. जन्म लेने से पहले ही गर्भ में ही कन्याओं की हत्या की जा रही है. पेड़ पौधों की बेरोक टोक कटाई ...

Read more

एकांत में आत्म साधना, लोकान्त में सेवा परोपकार, ऐसा अपना जीवन होना चाहिये – डॉ. मोहन भागवत जी

डेंकानाल, उड़ीसा (विसंकें). माघ मेले की संध्या पर महिमा धर्म पीठ में धर्मसभा का आयोजन किया गया. इस दौरान महिमा समाज से साधु रघुनाथ बाबा, साधु पवित्र बाबा सहित अन्य पूज्य संत उपस्थित थे. सभा के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने दो पुस्तकों का लोकार्पण भी किया. कार्यक्रम के दौरान सह सरकार्यवाह वी भगैय्या जी, क्षेत्र कार्यवाह गोपाल प्रसाद महापात्र, क्षेत्र प्रचारक प्रदीप जोशी जी उ ...

Read more
Scroll to top