You Are Here: Home » समाचार » मध्य भारत (Page 5)

गांव के विकास से ही होगा देश का विकास – सुरेश सोनी जी

भाऊसाहब भुस्कुटे स्मृति लोक न्यास के रजत जयंती समारोह का उद्घाटन भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी जी ने कहा कि देश में मुफ्त में सामग्री मिलने से सस्ती लोकप्रियता तो मिल सकती है, पर समाज का स्वाभिमान नहीं जग सकता. स्मृति न्यास ग्रामीणों में स्वाभिमान जागरण कर अपने ग्राम को तीर्थ बनाने का प्रयत्न करे. उन्होंने मेरा गांव मेरा तीर्थ का उल्लेख करते हुए कहा कि गांव के व्यक्ति ...

Read more

हम अभी तक बौद्धिक उपनिवेशवाद से बाहर नहीं निकल पाए हैं – प्रो. राकेश सिन्हा जी

राष्ट्रीय विमर्श लोकमंथन-2016 के प्रतीक चिन्ह का भोपाल में लोकार्पण भोपाल (विसंकें). 12, 13, 14 नवम्बर 2016 को भोपाल में लोकमंथन – 2016 के नाम से तीन दिवसीय राष्ट्रीय विमर्श का आयोजन किया जाने वाला है. राष्ट्र सर्वोपरि/Nation First की भावना से कार्यक्रम में नई पीढ़ी के विचारक, अध्येता, शोधार्थी एवं मीडिया जगत की सहभागिता रहेगी. कार्यक्रम का आयोजन भारत भवन व प्रज्ञा प्रवाह के संयुक्त तत्वावधान में होगा. 08 स ...

Read more

समाज की चिंता करने का काम संघ के स्वयंसेवक करते हैं – विलास जी गोले

भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भोपाल में रविवार से नए गणवेश (पेंट) की बिक्री शुरू हो गई. पीपुल्स मॉल में रविवार को आयोजित कार्यक्रम में भोपाल विभाग के 3300 स्वयंसेवकों की उपस्थिति में प्रांत संघचालक सतीश पिंपलीकर जी और प्रांत सह संघचालक अशोक पाण्डेय जी ने शुभारंभ किया. इससे पूर्व क्षेत्र बौद्धिक प्रमुख विलास जी गोले ने स्वयंसेवकों को संबोधित किया. एकत्रीकरण को संबोधित करते हुए क्षेत्र बौद्धिक प्रम ...

Read more

भारत एशिया की प्रिविटल पावर बन रहा – एमजे अकबर

भोपाल (विसंकें). विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर जी ने कहा कि पाकिस्तान बिखर रहा है, भारत मजबूत हो रहा है, तरक्की कर रहा है. भारत एशिया की प्रिविटल पावर बनकर उभर रहा है, जिसे झुकाया नहीं जा सकता. जबकि पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर को पिछले 70 सालों से आतंक की आग में झुलसा कर जम्मू कश्मीर को बदनाम कर रखा है, पाकिस्तान ने मजहब के नाम पर अपने देश में जो आग लगा रखी है. यह आईडिया हम अपने मुल्क में कामयाब नहीं होने देंग ...

Read more

तकनीकी राष्ट्रवाद एवं आर्थिक राष्ट्रनिष्ठा आज की आवश्यकता – प्रो. भगवती प्रसाद शर्मा

भोपाल (विसंकें). अर्थशास्त्री एवं पैसिफिक विश्वविद्यालय उदयपुर के कुलपति प्रो. भगवती प्रसाद शर्मा जी ने कहा कि विश्व में यदि हमें अग्रिम पंक्ति में स्थान पाना है तो ज्ञान आधारित क्षेत्रों में अपना योगदान बढ़ाना होगा. इसके लिए आवश्यक है कि हम अपने खुद के उत्पाद एवं ब्रांड विकसित करें. तकनीकी क्षेत्रों में भारतीय मानव संसाधन दुनिया में पहचाना जाता है, परंतु इनके द्वारा तैयार किए गए तकनीकी उत्पाद का फायदा वैश्व ...

Read more

कारगिल की विजयगाथा अमरगाथा बन चुकी है – अरूण कुमार जी

भोपाल. लेफ्टिनेंट जनरल सैय्यद अता हसनैन ने कहा कि कारगिल की जीत का श्रेय हमारे शहीद जवानों के साथ उनके परिवार, सैन्य और राजनीतिक नेतृत्व एवं देश की सामूहिक एकजुटता को जाता है. इस युद्ध में हमारे देश की मीडिया की भूमिका भी बहुत सशक्त थी, जिसे नकारा नहीं जा सकता है. वह रविंद्र भवन में कारगिल विजय के 17 वर्ष पूर्ण होने पर आयोजित स्मृति दिवस समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि हमारी जिस युवा पीढ़ी की ...

Read more

वास्तव में मीडिया प्रजातंत्र के तीनों स्तंभों की आत्मा है – प्रेम शुक्ला जी

भोपाल (विसंकें). सामना के पूर्व संपादक प्रेम शुक्ला जी ने कहा कि मैं मीडिया को प्रजातंत्र का चौथा स्तम्भ नहीं मानता. वस्तुतः मीडिया प्रजातंत्र के तीनों स्तंभ, न्याय पालिका, कार्य पालिका व विधायिका की आत्मा है. जिस प्रकार लोक कल्याण के प्रतीक नारद को कलह प्रिय घोषित कर दिया गया, कुछ कुछ उसी प्रकार का काम आज का अंग्रेजीदां मीडिया करता दिखाई दे रहा है. वह भोपाल विश्व संवाद केंद्र द्वारा आयोजित नारद जयन्ती कार् ...

Read more

प्राचीन एवं वर्तमान में संतुलन बनाकर कार्य करना होगा – सुरेश भय्या जी जोशी

भोपाल (विसंकें). निनौरा-उज्जैन में अंतर्राष्ट्रीय विचार महाकुंभ के दूसरे दिन 'कृषि एवं कुटीर' कुंभ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्या जी जोशी ने कहा कि प्रकृति से अधिक से अधिक लेने की सोच के कारण ही असंतुलन हुआ है. प्राकृतिक संसाधनों पर अधिकार की प्रवृत्ति दानवीय प्रवृत्ति है. हमें अपने मूल की ओर लौटना ही होगा. प्रकृति के साथ मित्रता करनी होगी. उन्होंने कहा कि अन्न देने वाली माता वसुंधरा ...

Read more

समाज में व्यवस्था समतायुक्त और शोषणमुक्त होनी चाहिए – डॉ. मोहन भागवत जी

भोपाल (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि व्यवस्था समतायुक्त और शोषणमुक्त होनी चाहिये. जब तक सभी को सुख प्राप्त नहीं होता, तब तक शाश्वत सुख दिवास्वप्न है. विज्ञान जितना प्रगट हो रहा है, उतना आध्यात्म के निकट आ रहा है. सरसंघचालक जी उज्जैन के समीप निनौरा में सिंहस्थ का सार्वभौम संदेश देने के लिए तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय विचार महाकुंभ के शुभारंभ सत्र को संबोधित कर रहे थ ...

Read more

संघ का कार्य व्यक्ति निर्माण का कार्य है – अशोक पोरवाल जी

संघ शाखा कवायद करने का स्थान नहीं, संस्कारों का विद्यापीठ है भोपाल (विसंकें). प्रांत प्रचारक अशोक पोरवाल जी ने कहा कि वर्तमान परिवेश में जेएनयू, हैदराबाद एवं कश्मीर एनआईटी की घटनाओं से देश के युवाओं में गलत संदेश जा रहा है. संघ की प्रेरणा से चलने वाला विद्यार्थी संगठन इन चुनौतियों का डटकर सामना कर रहा है. देश को आज ज्यादा खतरा बाहरी शक्तियों से नहीं, देश में छिपे हुये गद्दारों से है. युवाओं को आज देश हित मे ...

Read more
Scroll to top