You Are Here: Home » समाचार » मध्य भारत (Page 6)

अध्यात्म के बिना विज्ञान, विनाश कर सकता है – डॉ. कृष्णगोपाल जी

भोपाल (विसंकें). भोपाल के रविन्द्र भवन में सिंहस्थ के परिप्रेक्ष्य में ‘विज्ञान एवं अध्यात्म’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ  के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल जी ने कहा कि पाश्चात्य जगत में धर्म और विज्ञान में द्वंद है. भारत में धर्म का स्वरूप व्यापक है. इसके अंत:रूप में धर्म है. सभ्यता विज्ञान और अर्थ से आगे बढ़ती है. सभ्यता परिवर्तनशील है, जबकि संस्कृति स्थायी है. संस्कृति में अध्यात्म ...

Read more

वर्तमान में भारत में बौद्धिक आतंकवाद चल रहा है – जे नंदकुमार जी

इंदौर. रविवार 06 दिसंबर को इंदौर में चित्र भारती फिल्मोत्सव के कार्यालय का शुभारम्भ एवं चित्रभारती फिल्म फेस्टिवल की वेबसाइट का लोकार्पण हुआ. कार्यक्रम में शहर के कई गणमान्य व्यक्ति शामिल हुए. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख जे नंदकुमार जी उपस्थित थे. उनके साथ कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय रायपुर के कुलपति डॉ. मानसिंग परमार, सह आयोजक देवी अहिल्या विश्वव ...

Read more

भारत को विश्व का सिरमौर बनाना है तो हमें भारतीयता को बनाए रखना होगा – डॉ मोहन जी भागवत

भोपाल (विसंकें). अपेक्स बैंक के समन्वय भवन में सरसंघचालक डॉ. मोहनराव भागवत के कर कमलों से मृदुला सिन्हा द्वारा लिखित उपन्यास “ परितप्त लंकेश्वरी ” का लोकर्पण किया गया. मृदुल सिन्हा गोवा की राज्यपाल हैं. कार्यक्रम की अध्यक्षता लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन और मुख्य अतिथि के रूप में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उपस्थित थे. सरसंघचालक जी ने कहा कि भारत को विश्व का सिरमौर बनना है, तो उसे भारतीयता ...

Read more

संवाद केंद्र के पूर्व अध्यक्ष बनवारी लाल बजाज जी को श्रद्धांजलि दी

भोपाल. विश्व संवाद केंद्र के पूर्व अध्यक्ष बनवारी लाल बजाज जी का  07 जून को दुखद निधन हो गया. उनके अन्त्येष्टी कार्यक्रम में विश्व संवाद केंद्र भोपाल के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अजय नारंग जी सम्मिलित हुए तथा श्रद्धा सुमन आर्पित किए. विश्व संवाद केंद्र के न्यासियों द्वारा बनवारी लाल बजाज जी के प्रेरक जीवन को स्मरण किया गया. साथ ही उनकी अध्यक्षता में विश्व संवाद केंद्र भोपाल की प्रगति में उनके योगदान का भी स्मरण ...

Read more

कलम का इस्तेमाल संजीदगी से हो – मधु किश्वर

भोपाल (विसंकें). लेखिका  एवं मानुषी पत्रिका  की  संपादक सुश्री मधु किश्वर ने कहा कि आजादी के दशकों बाद आज भी देश में अंग्रेजी मीडिया का दबदबा है, जिसका नकारात्मक प्रभाव यहां के हिंदी मीडिया पर भी पड़ा. मधु किश्वर विश्व संवाद केंद्र भोपाल द्वारा आयोजित “नारद जयंती समारोह” में बोल रही थीं. शहीद भवन सभागृह में “जनसंचार माध्यम एवं महिला प्रश्न” विषय पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि विदेशी वित्त से संचालित ...

Read more

संस्कृति दुनिया में केवल भारत के पास, शेष देशों में केवल सभ्यताएं – डॉ प्रणव पण्ड्या

भोपाल (विसंकें). अखिल विश्व गायत्री परिवार के निदेशक एवं देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार के कुलपति डॉ प्रणव पण्ड्या ने कहा कि संस्कृति भारत के अलावा अन्य कहीं नहीं है. दुनिया के सभी देशों में सभ्यताएं हैं. भारतीय संस्कृति से ही जीवन मूल्य पनप सकते हैं. भारत को अपनी संस्कृति पर गर्व है. सद्गुणों की खेती ही संस्कृति है. संस्कृति का सम्बन्ध आध्यात्मिकता से है. हम कैसे अपना जीवन मूल्यवान बना सकते हैं, इस प ...

Read more

संबंधों के नाम पर राष्ट्रीयता से समझौता नहीं : प्रो. सिन्हा

भोपाल (विसंकें). दिल्ली विश्वविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक एवं नीति प्रतिष्ठान के संचालक प्रो राकेश सिन्हा ने कहा कि जब-जब चिंतन और विमर्श की बात हुई तो एक तरफा चिंतन हुआ, जबकि डॉ केशवराव बलिराम हेडगेवार ने जो बीज बोया था, वह अब पेड़ बन गया है, क्योंकि उन्होंने कभी भी संबंधों के नाम पर राष्ट्रीय विचारधारा से समझौता नहीं किया. वह समन्वय भवन में आयोजित व्याख्यानमाला के दूसरे एवं समापन दिवस पर संबोधित कर रहे थ ...

Read more

स्वदेशी ज्ञान परंपरा पर स्वाभिमान जागृत करना चाहिये – सह सरकार्यवाह जी

भोपाल (विसंके). भारतीय सनातन विचारधारा की युगानुकूल प्रस्तुति है, दीनदयाल जी उपाध्याय का एकात्म मानववाद. अरुंधति वशिष्ठ अनुसंधान पीठ द्वारा आयोजित एक राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण समारोह में वक्ताओं द्वारा व्यक्त विचारों का यही सार था. निबंध प्रतियिगिता का विषय था – “एकात्म मानववाद के विशेष सन्दर्भ में आर्थिक विकास”. विश्व हिन्दू परिषद् के मार्गदर्शक अशोक सिंघल द्वारा प्रयाग में अरुंधति वशिष ...

Read more

मानव के आचरण को परिभाषित करने वाले मानव धर्म को ही हिन्दू धर्म कहते हैं : प.पू. सरसंघचालक जी

भोपाल (विसंके). 1964 से 1989 तक लगातार 25 वर्ष एक गृहस्थ प्रचारक के रूप में भाऊ साहब भुस्कुटे मध्यक्षेत्र प्रचारक रहे. उस समय उत्कल प्रांत भी संघ कार्य की दृष्टि से मध्य क्षेत्र में समाहित था. टिमरनी में विगत 23 वर्षों से भाऊसाहब भुस्कुटे व्याख्यान माला जारी है, और सतत् वर्धिष्णु है. भाऊ साहब द्वारा लिखित पुस्तक “हिन्दूधर्म- मानव धर्मं” पुस्तक के तीसरे संस्करण का लोकार्पण व विमोचन प.पू. सरसंघचालक मोहन राव ज ...

Read more

स्थापना दिवस पर होगा गीत संध्या का आयोजन

भोपाल (विसंके). राष्ट्र के नवनिर्माण और शिक्षा के क्षेत्र में अलख जगाने वाली सामाजिक संस्था वनबंधु परिषद भोपाल द्वारा 11 जनवरी 2015 को ग्यारहवें स्थापना दिवस पर “गीत संध्या” कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. केम्पियन स्कूल, अरेरा कॉलोनी में शाम 6.00 बजे से आयोजित कार्यक्रम में श्री प्रशांत नासेरी (पुणे), शिफा अंसारी (मुंबई ) और आकृति मेहरा (भोपाल) द्वारा चित्रपट के सुनहरे गीतों की संध्या के रूप में कार्यक् ...

Read more
Scroll to top