You Are Here: Home » समाचार » विदर्भ

संगठित और सक्रिय होकर संकट का सामना करना होगा – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि देश में भाषा, प्रान्त, पंथ-संप्रदाय, समूहों की स्थानीय तथा समूहगत महत्वाकांक्षाओं को हवा देकर समाज में राष्ट्र विरोधी शक्तियाँ अराजकता निर्माण करने का प्रयास कर रही हैं, समाज को संगठित और सक्रिय होकर इस संकट का सामना करना होगा. तब ही इस समस्या से सफलतापूर्वक निपटा जा सकेगा. सरसंघचालक जी विजयादशमी उत्सव में संबोधित कर रहे थे. ...

Read more

सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी के विजयादशमी उत्सव 2017 के अवसर पर दिया गया उद्बोधन……

इस वर्ष की विजयादशमी के पावन अवसर को संपन्न करने के लिये हम सब आज यहाँ पर एकत्रित हैं. यह वर्ष परमपूज्य पद्मभूषण कुषोक बकुला रिनपोछे (His eminence Kushok Bakula Rinpoche) की जन्मशती का वर्ष है, साथ ही स्वामी विवेकानंद के प्रसिद्ध शिकागो अभिभाषण का 125वां वर्ष तथा उनकी शिष्या स्वनामधन्य भगिनी निवेदिता के जन्म का 150वाँ वर्ष है. पूज्य कुषोक बकुला रिनपोछे तथागत बुद्ध के 16 अर्हतों में से बकुल के अवतार थे, ऐसी ...

Read more

‘मूर्तिमंत वात्सल्यता’ इस एक ही शब्द में वंदनीय उषाताई का वर्णन होता है – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). ‘मूर्तिमंत वात्सल्यता’ इस एक ही शब्द में वंदनीय उषाताई का वर्णन होता है, जो भी उनके सान्निध्य में 05 मिनट भी रहा, उसको यह अनुभव जरूर आया होगा. इस शब्द के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने वं. उषाताई चाटी जी को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की. राष्ट्र  सेविका समिति की तृतीय संचालिका वंदनीय उषाताई चाटी जी को श्रद्धांजलि देने हेतु श्रद्धांजलि सभा, नागपुर स्थित अहिल्या म ...

Read more

भारत की आंतरिक सुरक्षा खतरे में

राष्ट्र सेविका समिति – अखिल भारतीय कार्यकारिणी तथा प्रतिनिधिमंडल बैठक नागपुर (विसंकें). राष्ट्र सेविका समिति का यह पूर्ण विश्वास है कि भारत बाहरी खतरों का मुकाबला करके उनको परास्त करने में सक्षम है. विश्व की सर्वश्रेष्ठ सेनाओं में से एक भारत की सेना किसी भी खतरे से भारत की सीमाओं की रक्षा कर सकती है, परन्तु भारत की आन्तरिक सुरक्षा के बारे में देश के नागरिक चिंतित हैं. आज देश में प्रतिदिन कोई न कोई ऐसी घटना ...

Read more

राष्ट्र सेविका समिति – अखिल भारतीय कार्यकारिणी तथा प्रतिनिधिमंडल बैठक प्रारम्भ

नागपुर. राष्ट्र सेविका समिति की तीन दिवसीय अखिल भारतीय कार्यकारिणी तथा प्रतिनिधिमंडल बैठक 01 जुलाई 2017 से देवी अहिल्या मंदिर, नागपुर में प्रारम्भ हुई. बैठक में देश के सभी राज्यों से कुल 170 पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता बहनें उपस्थित हैं. समिति कार्य विस्तार दृष्टि से बैठक में कार्य योजना बनेगी तथा देश के अंतर्गत एवं बाह्य सुरक्षा के सन्दर्भ में प्रस्ताव पारित होने की भी संभावना है. परिवार प्रबोधन की दृष्टि से ...

Read more

विश्व कल्याण का काम भारत ही कर सकता है  – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत में पंथ, भाषा, परंपरा, पर्यावरण में विविधता है, फिर भी यह एकता की भूमि है. क्योंकि यहाँ हिन्दू बहुसंख्यक हैं और हिन्दू विचार की दृष्टि सबको स्वीकार करती है. ऐसे सबको स्वीकार करने वाले लोगों का देशव्यापी समूह निर्माण करने का काम संघ कर रहा है. सरसंघचालक जी नागपुर में संघ शिक्षा वर्ग तृतीय वर्ष के समारोप कार्यक्रम में संबो ...

Read more

आज सोशल मीडिया सूचना का प्रभावी माध्यम बन गया है – रोहित सरदाना

नागपुर (विसंकें). जी न्यूज़ के कार्यकारी संपादक रोहित सरदाना ने कहा कि आज सोशल मीडिया नाराजगी व्यक्त करने का शक्तिशाली माध्यम बन गया है, इससे मतभिन्नता और नाराजगी में गफलत होती है. अभिव्यक्ति की आज़ादी पर खतरे का शोर मचता है. दस-पंद्रह कैमरे लगाकर लोग ‘अभिव्यक्ति की आज़ादी पर खतरा’ विषय पर भाषण देते हैं, चर्चा करते हैं. यह सब प्रसार माध्यमों पर दिखाया जाता है. समाचार पत्रों में भी प्रकाशित होता है. सरकार के व ...

Read more

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ – संघ शिक्षा वर्ग तृतीय वर्ष का शुभारम्भ

नागपुर (विसंकें). रेशिमबाग स्थित डॉ. हेडगवार स्मृति भवन परिसर के महर्षि व्यास सभागृह में तृतीय वर्ष संघ शिक्षा वर्ग का सोमवार प्रातः शुभारंभ हुआ. उद्घाटन सत्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि संघ से जुड़ने के पश्चात् सभी स्वयंसेवक स्वप्न देखते है कि संघ शिक्षा, तृतीय वर्ष तक पूर्ण की जाए. परन्तु ये सौभाग्य सभी को प्राप्त नहीं होता है. लाखों स्वयंसेवकों में से चुने ह ...

Read more

श्री हल्देकर जी का संघ जीवन से बड़ा पुरुषार्थ क्या हो सकता है ? – सुरेश भय्या जी जोशी

केवल युद्ध करना ही पुरुषार्थ नहीं होता है, अपितु अंतःकरण की सभी भावनाओं को, संपूर्ण जीवन को केवल एक ध्येय के लिए समर्पित करना, यह भी पुरुषार्थ होता है. श्री रामभाऊ हल्देकर जी, जब 1954 में संघ के प्रचारक निकले, वह समय संघ के लिए सब प्रकार से विरोध का कालखण्ड था. ऐसी परिस्थितियों में जो संघ के प्रचारक निकले, उससे बड़ा पुरुषार्थ क्या हो सकता है? जो जो बंधु श्री हल्देकर जी के संपर्क में आए, उनको संघ समझाने के लि ...

Read more

केरल की ‘राज्य संरक्षित’ हिंसा के खिलाफ 01 मार्च को विरोध प्रदर्शन

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख जे. नंदकुमार जी ने कहा कि केरल में राज्य सरकार के संरक्षण में माकपा (सीपीएम) द्वारा हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं की हत्याओं के विरोध में एक मार्च को नागपुर में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा. नागपुर में आयोजित प्रेस वार्ता में नंदकुमार जी ने बताया कि लोकाधिकार मंच के बैनर तले प्रदर्शन का आयोजन किया जाएगा. सायं काल 5.30 बजे संविधान चौक से ...

Read more
Scroll to top