You Are Here: Home » समाचार » विदर्भ

विश्व कल्याण का काम भारत ही कर सकता है  – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत में पंथ, भाषा, परंपरा, पर्यावरण में विविधता है, फिर भी यह एकता की भूमि है. क्योंकि यहाँ हिन्दू बहुसंख्यक हैं और हिन्दू विचार की दृष्टि सबको स्वीकार करती है. ऐसे सबको स्वीकार करने वाले लोगों का देशव्यापी समूह निर्माण करने का काम संघ कर रहा है. सरसंघचालक जी नागपुर में संघ शिक्षा वर्ग तृतीय वर्ष के समारोप कार्यक्रम में संबो ...

Read more

आज सोशल मीडिया सूचना का प्रभावी माध्यम बन गया है – रोहित सरदाना

नागपुर (विसंकें). जी न्यूज़ के कार्यकारी संपादक रोहित सरदाना ने कहा कि आज सोशल मीडिया नाराजगी व्यक्त करने का शक्तिशाली माध्यम बन गया है, इससे मतभिन्नता और नाराजगी में गफलत होती है. अभिव्यक्ति की आज़ादी पर खतरे का शोर मचता है. दस-पंद्रह कैमरे लगाकर लोग ‘अभिव्यक्ति की आज़ादी पर खतरा’ विषय पर भाषण देते हैं, चर्चा करते हैं. यह सब प्रसार माध्यमों पर दिखाया जाता है. समाचार पत्रों में भी प्रकाशित होता है. सरकार के व ...

Read more

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ – संघ शिक्षा वर्ग तृतीय वर्ष का शुभारम्भ

नागपुर (विसंकें). रेशिमबाग स्थित डॉ. हेडगवार स्मृति भवन परिसर के महर्षि व्यास सभागृह में तृतीय वर्ष संघ शिक्षा वर्ग का सोमवार प्रातः शुभारंभ हुआ. उद्घाटन सत्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि संघ से जुड़ने के पश्चात् सभी स्वयंसेवक स्वप्न देखते है कि संघ शिक्षा, तृतीय वर्ष तक पूर्ण की जाए. परन्तु ये सौभाग्य सभी को प्राप्त नहीं होता है. लाखों स्वयंसेवकों में से चुने ह ...

Read more

श्री हल्देकर जी का संघ जीवन से बड़ा पुरुषार्थ क्या हो सकता है ? – सुरेश भय्या जी जोशी

केवल युद्ध करना ही पुरुषार्थ नहीं होता है, अपितु अंतःकरण की सभी भावनाओं को, संपूर्ण जीवन को केवल एक ध्येय के लिए समर्पित करना, यह भी पुरुषार्थ होता है. श्री रामभाऊ हल्देकर जी, जब 1954 में संघ के प्रचारक निकले, वह समय संघ के लिए सब प्रकार से विरोध का कालखण्ड था. ऐसी परिस्थितियों में जो संघ के प्रचारक निकले, उससे बड़ा पुरुषार्थ क्या हो सकता है? जो जो बंधु श्री हल्देकर जी के संपर्क में आए, उनको संघ समझाने के लि ...

Read more

केरल की ‘राज्य संरक्षित’ हिंसा के खिलाफ 01 मार्च को विरोध प्रदर्शन

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख जे. नंदकुमार जी ने कहा कि केरल में राज्य सरकार के संरक्षण में माकपा (सीपीएम) द्वारा हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं की हत्याओं के विरोध में एक मार्च को नागपुर में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा. नागपुर में आयोजित प्रेस वार्ता में नंदकुमार जी ने बताया कि लोकाधिकार मंच के बैनर तले प्रदर्शन का आयोजन किया जाएगा. सायं काल 5.30 बजे संविधान चौक से ...

Read more

सैनिक देश की सीमाओं की, और संत समाज में नैतिक मूल्यों की रक्षा करते हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि सैनिक हमें विदेशी आक्रमण से बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डालते हैं . वे सदैव हमारी सीमाओं की रक्षा के लिए सतर्क रहते हैं. हमें उन्हें केवल युद्ध के समय ही स्मरण नहीं करना चाहिए, बल्कि ईश्वर के समान उन्हें भी अपने दैनिक जीवन में दिल में स्मरण करना चाहिए. उनके बलिदान का सतत स्मरण ही राष्ट्रवाद के अभ्यास जैसा है. सरसंघचालक जी 24 दिसंबर ...

Read more

रेशिमबाग नागपुर में विजयादशमी उत्सव पर सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी का पूर्ण संबोधन……..

आदरणीय प्रमुख अतिथि महोदय, निमंत्रित विशिष्ट अतिथिगण, नागरिक सज्जन माता भगिनी, माननीय संघचालक गण एवं आत्मीय स्वयंसेवक बंधु, अपने पवित्र संघकार्य के 90 वर्ष पूर्ण होने के पश्चात् युगाब्द 5118 अर्थात् ई. स. 2016 का यह विजयादशमी उत्सव एक वैशिष्ट्यपूर्ण कालखण्ड में संपन्न हो रहा है. स्व. पंडीत दीनदयाल जी उपाध्याय की जन्मशती के संबंध में पिछले वर्ष ही मैंने उल्लेख किया था. वह 100वाँ वर्ष पूरा होने के बाद इस वर्ष ...

Read more

युवाओं को अपनी भारतीय संस्कृति का अध्ययन करना चाहिए – राजेश लोया जी

नागपुर. नागपुर के चार्टर्ड अकाउंटेंट तथा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ नागपुर महानगर संघचालक राजेश लोया जी ने कहा कि हमारा देश युवाओं का देश है और युवा ही आने वाले भारत के रचयिता हैं. परन्तु आज का युवा थोड़ा भटक गया है और अध्ययन से दूर जा रहा है. वर्तमान समय में सोशल मीडिया कोई बुरी बात नहीं, परन्तु उसका सही उपयोग करना आवश्यक है. राजेश जी समर्थ भारत सामाजिक संस्था (नागपुर) द्वारा आयोजित कार्यक्रम ‘आइडिया ऑफ़ इंडिया ...

Read more

“समान नागरिक संहिता से राष्ट्रीय एकता”

राष्ट्र सेविका समिति ने प्रतिनिधि सभा – 2016 में पारित किया प्रस्ताव नागपुर. विश्व के सभी सुसंस्कृत देशों में वहां के प्रत्येक नागरिक के लिए एक जैसे कानून लागू होते हैं. पंथ, जाति, रंग, क्षेत्र या लैंगिक आधार पर किसी भी नागरिक में कोई अन्तर नहीं किया जाता. स्वतन्त्रता प्राप्त होने पर भारत में भी होना तो यही चाहिए था, परन्तु दुर्भाग्य से तुष्टिकरण की नीति के कारण तत्कालीन राजनैतिक नेतृत्व ने देश हित का विचार ...

Read more

आरक्षण व्यवस्था को प्रमाणिकता से लागू किया जाता, तो सामाजिक भेदभाव समाप्त होता – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत में सामाजिक भेदभाव समाप्त करने के लिए आरक्षण की व्यवस्था लागू की गई. इसे प्रामाणिकता से लागू किया जाता तो सब ठीक होता, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. इस कारण शक्तिशाली घटक आरक्षण के लाभ उड़ा ले जाते हैं और अन्य पिछडे घटक आरक्षण के लाभ से वंचित रहते हैं, उनकी दुरावस्था होती है. इस दुष्चक्र को तोड़ना होगा. सरसंघचालक जी नागपुर के चिचभवन स्थित अ ...

Read more
Scroll to top