You Are Here: Home » समाचार » विदर्भ (Page 3)

जिनके मन में देश के प्रति लगाव है, वह भारत माता की जय बोलने से परहेज नहीं करते – सुरेश भय्या जी जोशी

मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्या जी जोशी ने कहा कि अपने देश के बारे में जिनके मन में लगाव है, ऐसे नागरिक भारत माता की जय कहने में परहेज नहीं करते. लेकिन जो अपने ही देश का उपयोग सिर्फ निजी स्वार्थ के लिए करते हैं, ऐसे लोगों को इसमें आपत्ति होती है. भय्या जी जोशी दीनदयाल शोध संस्थान द्वारा नानाजी देशमुख की स्मृति में आयोजित व्याख्यान माला में प्रमुख वक्ता के रूप में संबोधित क ...

Read more

देश में मातृशक्ति को सशक्त होने की आवश्यकता – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत माता की जय बोलने वाले लोगों की कमी दिख रही है. इसके लिए सीख देने की आवश्यकता है. अफसोस की बात है कि देश की जय नहीं कहने की सीख देने वालों की संख्या बढ़ रही है. गुरुवार 03 मार्च को रेशिमबाग के संत गजानन महाराज श्रद्धास्थान में आयोजित कार्यक्रम में सामाजिक कार्यकर्ता सिंधुताई सपकाल को सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने मातृशक्ति पुरस्का ...

Read more

राष्ट्रविरोधी ताकतों के खिलाफ संपूर्ण समाज के खड़े होने की आवश्यकता – सुनील आंबेकर जी

नागपुर (विसंकें). युवा जागरण समिति नागपुर द्वारा “जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय का सच” विषय पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री सुनील आंबेकर जी ने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्य का विषय है कि जिस देश में वीर हनुमनथप्पा जैसे सैनिक देश के लिए बलिदान देते है, उसी देश में जेएनयू परिसर में राष्ट्रविरोधी नारे कुछ राह भटके युवक दे रहे हैं, यह  बहुत ही निंदनीय घटना है. एक ...

Read more

भारतीय मनीषियों के चिंतन का मूल तत्व है “एकात्म मानव दर्शन” – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि हृदय की करुणा और तपस्वी जीवन यही पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी का परिचय है. उनके द्वारा प्रतिपादित एकात्म-मानव दर्शन का रूप नया है, पर वह है पुराना ही. भारतीय मनीषियों के चिंतन का मूल तत्व है “एकात्म-मानव दर्शन”. सरसंघचालक जी डॉ. कुमार शास्त्री द्वारा लिखित “कारुण्य ऋषि” नामक पुस्तक के लोकार्पण समारोह में संबोधित कर रहे थे. सरसंघ ...

Read more

स्वामी विवेकानंद ने भारतीय धर्म, परंपरा, संस्कृति को विश्व में प्रतिष्ठित किया – एम हनुमंतराव जी

नागपुर (विसंकें). विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी के अखिल भारतीय कोषाध्यक्ष एम. हनुमंतराव जी ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द भारतीय संस्कृति, परम्परा, वेदान्त, उपनिषद् और सन्यास धर्म के महान प्रतीक हैं. उन्होंने शिकागो के विश्व धर्म सम्मलेन में पाश्चात्य जगत के सामने भारत को प्रस्थापित किया. भारतीय संस्कृति, धर्म, परम्परा और इतिहास को विश्व पटल पर प्रतिष्ठित करने वाले स्वामी विवेकानन्द, वास्तव में भारत का व्यक्त स ...

Read more

सामाजिक समता से ही सामाजिक एकता आएगी – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने “सामाजिक समरसता” विषय पर व्याख्यान समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि देश के विकास के लिए सामाजिक एकता की आवश्यकता होती है और समाज में एकता की पूर्व शर्त है सामाजिक समता. जब समता आएगी तो सामाजिक एकता अपने आप आएगी. इसके लिए हमें प्रयत्न करना होगा. संघ के तृतीय सरसंघचालक बालासाहेब देवरस की जन्मशती के उपलक्ष्य में नागपुर नागरिक सहकारी बैंक ने व्य ...

Read more

लक्ष्मणराव जी के निधन पर सरसंघचालक जी, सरकार्यवाह जी ने जताया शोक

नागपुर (विसंकें). प. पू. सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी, सरकार्यवाह भय्याजी जोशी, सह-सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी, डॉ. कृष्ण गोपाल जी, तथा वी भागय्या जी का शोक संदेश - लक्ष्मणराव पार्डीकरजी के अपघाती निधन की वार्ता अत्यंत वेदनादायी तथा हम सब पर आघात करने  वाली है. संघकार्य करते समय जीवनभर जो भी जिम्मेदारी मिली, चाहे वह छोटी हो या बड़ी उसे परिश्रमपूर्वक निभाने वाला एक अत्यंत समझदार कार्यकर्ता हमने गंवाया है ...

Read more

आज भारत की गीता, भारत का योगदर्शन, भारत के तथागत विश्वमान्य हो रहे हैं – डॉ. मोहन भागवत जी

पू. सरसंघचालक डॉ. मोहन जी भागवत का विजयादशमी उत्सव 2015 (गुरुवार दिनांक 22 अक्तुबर 2015) के अवसर पर दिया उद्बोधन - नागपुर. कार्यक्रम के प्रमुख अतिथि आदरणीय डॉ. वीके सारस्वत जी अन्य निमंत्रित अतिथि गण, उपस्थित नागरिक सज्जन, माता भगिनी तथा आत्मीय स्वयंसेवक बन्धु - विजयादशमी के प्रतिवर्ष संपन्न होने वाले पर्व के निमित्त आज हम यहां एकत्रित हैं. संघ कार्य प्रारम्भ होकर आज 90 वर्ष पूर्ण हुए. यह वर्ष भारतरत्न डॉ. ...

Read more

लघु व सूक्ष्म उद्योगों को मजबूत करके ही चीन से प्रतिस्पर्धा की जा सकती है – डॉ. बजरंग लाल जी गुप्त

नागपुर. लघु उद्योग भारती का राष्ट्रीय अधिवेशन 22 तथा 23 अगस्त को रेशमबाग नागपुर में सम्पन्न हुआ. अधिवेशन में राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं महामंत्री का चुनाव हुआ, जिसमें जयपुर के उद्यमी ओमप्रकाश मित्तल को अध्यक्ष चुना गया, भोपाल के उद्यमी जितेंद्र गुप्ता को सर्वसम्मति से महामंत्री चुना गया तथा भोपाल के ही उद्यमी डॉ. अजय नारंग को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया. भोपाल के ही सुधीर दाते को राष्ट्रीय सचिव उज्जैन के उल्ला ...

Read more

हिन्दू चिंतन से जीवन में शांति और समाधान मिलेगा – शांताक्का जी

नागपुर. राष्ट्र सेविका समिति की अर्धवार्षिक बैठक के समापन समारोह में समिति की प्रमुख संचालिका शांताक्का जी ने कहा कि हिन्दू चिंतन से ही जीवन में शांति और समाधान मिलेगा, इसलिए आज विश्व उसे आत्मसात करना चाहता है. उन्होंने कहा कि त्याग आधारित जीवन बिताने से शाश्वत आनंद प्राप्त होता है. इस दृष्टि से समिति का कार्य भी समर्पित भाव से करना है. जिस तरह योग्य दबाव एवं उष्णता कोयले के अंदर छिपे हीरे को बाहर निकालता ह ...

Read more
Scroll to top