You Are Here: Home » समाचार (Page 4)

कांग्रेस के लिए न महाराणा प्रताप महान और न ही सावरकर वीर

मार्क्सवादी फोबिया से ग्रस्त कांग्रेसियों के लिए न तो वीर सावरकर ‘वीर’ हैं और न ही महाराणा प्रताप ‘महान’. हां, चित्तौड़गढ़ में 40,000 लोगों का नरसंहार कर अजमेर शरीफ पर सजदा करने वाला अकबर जरूर इनके लिए महान है. अकबर के समय में लिखे गए राजदरबारी फारसी वृत्तान्त ही इनके ऐतिहासिक स्रोत हैं. राजस्थान के लिखित और वहां पढ़े जाने वाले साहित्य को ये देखना तक उचित नहीं समझते, क्योंकि इनकी मानसिकता मार्क्स के इस कथन से ...

Read more

राम नाम के बहाने

आज की राजनीति में राम नाम की महिमा के सार्वकालिक महत्व की बात को कोई नहीं झुठला सकता. यह देश राम राज्य की आदर्श कल्पना से लेकर गांधी के राम तक के प्रयोग का साक्षी रहा है. पिछले सप्ताह जब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का काफिला बैरकपुर लोकसभा क्षेत्र के भाटपारा क्षेत्र (24 परगना जिला) से गुजर रहा था तो कुछ व्यक्तियों ने जय श्रीराम के नारे लगाए. जिसके बाद ममता बनर्जी नाराज हो गई थी. इस घटना के एक वी ...

Read more

जग सिरमौर बनाएं भारत, यही विद्या भारती का लक्ष्य – श्रीराम आरावकर

गुवाहाटी. विद्या भारती पूर्वोत्तर क्षेत्र की वार्षिक साधारण सभा गुवाहाटी के शंकरदेव विद्या निकेतन विष्णु पथ में सम्पन्न हुई. असम, अरूणाचल, मेघालय, मणिपुर, नागालैण्ड, त्रिपुरा से 151 सदस्यों की उपस्थिति साधारण सभा में रही. असम के शिक्षा मंत्री सिद्धार्थ भट्टाचार्य, विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान के महामंत्री श्रीराम आरावकर, विद्या भारती के अखिल भारतीय सह संगठन मंत्री गोविंद चंद्र महंत, अखिल भारतीय उ ...

Read more

1976 में सब एडिटर नहीं, सब इंस्पेक्टर तय करता था कि कौन सा समाचार छापना है या नहीं

मुरादाबाद (विसंकें). साप्ताहिक पत्रिका पाञ्चजन्य के संपादक हितेश शंकर ने कहा कि केवल हम ही नहीं मानते कि देवर्षि नारद जी प्रथम संवादवाहक थे, बल्कि 02 जून 1826 को भारत का प्रथम हिंदी समाचार पत्र उदन्त मार्तण्ड शुरू हुआ था. उस दिन पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ कृष्ण द्वितीया यानि देवर्षि नारद जयंती थी. हितेश शंकर ने पत्रकारिता के मुख्य कार्य सूचना, शिक्षा एवं संचार पर बल दिया तथा नकारात्मक समाचार लेखकों और संपादको ...

Read more

राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रशक्ति के जागरण से ही देश जगद्गुरु बनेगा – श्यामजी हरकरे

डहाणू, मुंबई (विसंकें). पश्चिम क्षेत्र धर्म जागरण प्रमुख श्याम जी हरकरे ने कहा कि ‘राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रशक्ति के जागरण के कारण देश फिर से जगद्गुरु बनेगा.’ पिछली अनेक सदियों से भारत में अनेक महापुरुषों ने प्रयास कर राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रशक्ति जागरण का अत्यंत महत्त्वपूर्ण कार्य किया है और 1925 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भी समाज की भक्ति व शक्ति के जागरण का संकल्प लिया है. श्याम जी राष्ट्रीय स्वयंसेवक सं ...

Read more

संघ निःस्वार्थ भाव से राष्ट्र के लिए कार्य करने वाले स्वयंसेवक तैयार करता है – डॉ. भरत भाई पटेल

गुजरात (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, गुजरात/सौराष्ट्र प्रांत द्वारा आयोजित संघ शिक्षा वर्ग, प्रथम वर्ष के समारोप सत्र का आयोजन ब्राइट स्कूल, नरोडा, कर्णावती में किया गया. कार्यक्रम में निरमा लिमिटेड के वाईस चेयरमैन राकेश भाई पटेल मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे. मुख्य वक्ता प्रांत संघचालक डॉ. भरत भाई पटेल ने कहा कि संघ कोई संस्था नहीं है, संगठन है. अतः दूसरी संस्थाओं के आधार पर संघ को नहीं समझा जा ...

Read more

वीर सावरकर महान क्रांतिकारी व भारत के सच्चे सपूत

सावरकर जयंती पर प्रभात फेरी, गोष्ठी, पुष्पांजलि कार्यक्रम, मानव श्रृंखला का आयोजन जयपुर (विसंकें). पिछले कुछ दिनों में राज्य के छोटे बड़े अनेक शहरों में सावरकर जयंती पर कार्यक्रम व गोष्ठी का आयोजन किया गया. राजधानी जयपुर में भी विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित हुए. प्रभात फेरी निकाली गई, मानव श्रृंखला बनाई गई. तो कहीं पुष्पांजलि के कार्यक्रम हुए. इन कार्यक्रमों का आयोजन विभिन्न सामाजिक संगठनों एवं आम जनत ...

Read more

शिक्षा को प्रदर्शन से दर्शन की ओर ले जाना है – यतीन्द्र

गोरखपुर. विद्या भारती के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतीन्द्र जी ने कहा कि शिक्षा आज प्रदर्शन का विषय हो गई है, इसे दर्शन की ओर ले जाना है. शिक्षा व्यवसाय हो गई है, उसे ज्ञान की तरफ ले जाना है. यतीन्द्र जी विद्या भारती (पूर्वी उत्तर प्रदेश) द्वारा आयोजित दस दिवसीय क्षेत्रीय शिशु वाटिका प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि शिक्षा आज सरकारों की दासी बनकर रह गई है. यह बहुत भयावह ...

Read more

वीर माता विद्यावती कौर जी

इतिहास साक्षी है कि देश, धर्म और समाज की सेवा में अपना जीवन अर्पण करने वालों के मन पर संस्कार उनकी माताओं ने ही डाले हैं. भारत के स्वाधीनता संग्राम में हंसते हुए फांसी चढ़ने वाले वीरों में भगत सिंह का नाम प्रमुख है. उस वीर की माता थीं,  वीर माता विद्यावती कौर. भगत सिंह पर उज्जैन के विख्यात लेखक श्रीकृष्ण ‘सरल’ ने एक महाकाव्य लिखा. नौ मार्च, 1965 को इसके विमोचन के लिए माता जी जब उज्जैन आईं, तो उनके स्वागत के ...

Read more

पत्रकारों को अपनी विश्वसनीयता को कायम रखना चाहिए – भाऊ तोरसेकर

पणजी (विसंकें). वरिष्ठ पत्रकार भाऊ तोरसेकर ने कहा कि अनेक माध्यमों के कारण पाठक, समाज जागृत हुआ है. इसलिए पत्रकारों को इन माध्यमों से आगे जाकर अपनी विश्वसनीयता कायम रखनी चाहिए. पत्रकारों को ने संदर्भ देने चाहिए. पत्रकारिता दायित्त्व का काम है, संरक्षण मांग कर पत्रकारों का निर्भय पत्रकारिता करना संभव नहीं. वे विश्व संवाद केंद्र, मुंबई राष्ट्रीय स्वधर्म संस्कार मंडल, पणजी के संयुक्त तत्वाधान में नारद जयंती के ...

Read more

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about VSK Bharat Latest News

Scroll to top