You Are Here: Home » Posts tagged "एकात्म मानव दर्शन"

संस्कृति और अर्थनीति के समन्वय से भारत पुनः बन सकता है सोने की चिड़िया – डॉ. महेश चंद्र शर्मा

नई दिल्ली. भाऊराव देवरस सेवा न्यास द्वारा एनडीएमसी कन्वेंशन सेंटर, संसद मार्ग में 24वां भाऊराव देवरस स्मृति व्याख्यान 'संस्कृति और अर्थनीति के संगम की उभरती विकास ज्ञान परंपरा' विषय पर आयोजित किया गया. मुख्य वक्ता पूर्व राज्यसभा सांसद एवं एकात्म मानव दर्शन अनुसंधान विकास संस्थान के अध्यक्ष डॉ. महेश चंद्र शर्मा जी ने कहा कि संस्कृति की व्यापक अवधारणा है, जिसमें सब कुछ समाहित है. विकास की पश्चिमी ज्ञान परंपरा ...

Read more

जाति आधारित भेदभाव अमानवीय, असंवैधानिक एवं अधार्मिक भी है – संघ

हैदराबाद में अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक का शुभारंभ हैदराबाद (विसंकें). आज 23 अक्तूबर को प्रातः 08:30 बजे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल बैठक का शुभारंभ श्रीविद्या विहार, अन्नोजिगुडा, भाग्यनगर (हैदराबाद) में हुआ. पहले दिन पत्रकारों को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह वी भागैय्या जी ने कहा कि कार्यकारी मंडल बैठक समाज के विभिन्न आयामों से सम्बंधित संघ कार ...

Read more

एकात्म-मानव दर्शन से पुरातन को युगानुकूल व नवीन को देशानुकूल करना संभव: बजरंगलालजी

आनंद ( गुजरात). एकात्म मानव दर्शन विषय पर भारतीय विचार मंच द्वारा आनंद (गुजरात) में एक दिवसीय प्रांत स्तरीय कार्यकर्ता प्रशिक्षण वर्ग का आयोजन किया गया. उद्धघाटन सत्र में एकात्म मानव दर्शन अर्ध शताब्दी समिति, गुजरात प्रांत की घोषणा की गई. अभ्यास वर्ग की भूमिका रखते हुए श्री श्रीकांत भाई काटदरे, संयोजक – प्रज्ञा प्रवाह (पश्चिम, मध्य एवं राजस्थान क्षेत्र) ने कहा कि पंडित दीनदयाल जी द्वारा 1964 -65 में मुंबई, ...

Read more

राजनीति के क्षेत्र में अध्यात्म के राजदूत थे दीनदयाल – अजय मित्तल

मेरठ. विश्व संवाद केन्द्र पर दीनदयाल उपाध्याय जयन्ती पर उनको श्रद्धांजलि दी गयी.विश्व संवाद केन्द्र प्रति माह एक पत्रकार लेख की जयन्ती अथवा पुण्यतिथि पर किसी महापुरुष को याद करता है. कार्यक्रम का शुभारम्भ दीनदयाल जी के चित्र के सम्मुख दीप जलाकर किया गया. गोष्ठी के मुख्य वक्ता राष्ट्रदेव के सम्पादक अजय मित्तल ने कहा कि दीनदयाल जी राजनीति में अध्यात्म तथा संस्कृति के राजदूत थे. वे राजनेता के साथ ही राजर्षि व ...

Read more
Scroll to top