You Are Here: Home » Posts tagged "जम्मू कश्मीर"

जम्मू कश्मीर अधिमिलन के 7 नायक

1947 में ब्रिटेन समेत अंतरराष्ट्रीय ताकतें जम्मू कश्मीर राज्य को भारत में शामिल न होने देने की चालें चल रही थीं. क्योंकि एशिया में जम्मू कश्मीर का बहुत बड़ा भौगोलिक और सामरिक महत्व है. ब्रिटिश शासन ने तमाम कूटनीतिक चालें चली. जब पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर पर हमला किया और राज्य में सांप्रदायिक भावनाएं भड़काईं. तब भी ब्रिटेन मूकदर्शक बना रहा. लेकिन तमाम साजिशों के बावजूद जम्मू कश्मीर भारत का हिस्सा बन गया. जम् ...

Read more

कब, कैसे हुआ जम्मू कश्मीर अधिमिलन – तारीख की नज़र में

आजादी के समय जम्मू कश्मीर राज्य की संवैधानिक स्थिति क्या थी और कैसे जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बना. इसको समझने के लिए कुछ समय के पड़ावों को समझकर आप आसानी से जम्मू कश्मीर के अधिमिलन को समझ सकते हैं. पढ़िए औऱ जानिए – 1. 1946, भारत में अंग्रेज़ी शासन, प्रशासनिक रूप से दो भागो में बंटा था. ब्रिटिश भारत - इस क्षेत्र पर अंग्रेज़ों का प्रत्यक्ष शासन था, जिसका शासन सीधे लंदन में बैठे राज्य के सचिव की कलम से चलत ...

Read more

कश्मीर समस्या के समाधान के लिये वहां के समाज को गहराई से समझना आवश्यक – प्रो. कुलदीप चंद्र अग्निहोत्री जी

भोपाल (विसंकें). हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति एवं हिमालय क्षेत्र के विशेषज्ञ प्रो. कुलदीप चंद्र अग्निहोत्री जी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की समस्या को समझने के लिए वहाँ के समाज को गहराई से समझना जरूरी है. हमें जम्मू-कश्मीर के इतिहास और आतंरिक व्यवस्था को समझना चाहिए. एक बहुत छोटा समुदाय कश्मीर के मूल लोगों पर अधिपत्य जमाना चाहता है, जिसके कारण वहाँ समस्या पैदा हुई है. वे माखनलाल चतुर्वेदी राष् ...

Read more

‘यक्ष प्रश्नों के उत्तर’ और ‘जम्मू-कश्मीर से साक्षात्कार’ पुस्तकों का लोकार्पण

नई दिल्ली. हिन्दी भवन सभागार, विष्णु दिगंबर मार्ग, नई दिल्ली में प्रख्यात समाजधर्मी इंद्रेश कुमार जी की सद्यः प्रकाशित पुस्तकों ‘यक्ष प्रश्नों के उत्तर’ तथा ‘जम्मू-कश्मीर से साक्षात्कार’ का लोकार्पण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्रालय तथा राज्यमंत्री प्रधानमंत्री कार्यालय डॉ. जितेंद्र सिंह जी के करकमलों से संपन्न हुआ. प्रख्यात अर्थशास्त्री, विधिवेत्ता एवं राज्यसभा सांसद डॉ. स ...

Read more

23 जून / बलिदान दिवस – जम्मू कश्मीर के लिए डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी का बलिदान

नई दिल्ली. छह जुलाई, 1901 को कोलकत्ता में आशुतोष मुखर्जी एवं योगमाया देवी के घर में जन्मे डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी को दो कारणों से सदा याद किया जाता है. पहला तो यह कि वे योग्य पिता के योग्य पुत्र थे. आशुतोष मुखर्जी कोलकत्ता विश्वविद्यालय के संस्थापक उपकुलपति थे. 1924 में उनके देहान्त के बाद केवल 23 वर्ष की अवस्था में ही श्यामाप्रसाद को विश्वविद्यालय की प्रबन्ध समिति में ले लिया गया. 33 वर्ष की छोटी अवस्था म ...

Read more

16 जनवरी / जन्मदिवस – अखंड कर्मयोगी डॉ. ओमप्रकाश मैंगी जी

नई दिल्ली. संघ के निष्ठावान कार्यकर्ता डॉ. ओमप्रकाश मैंगी का जन्म 16 जनवरी 1918 को जम्मू में समाजसेवी ईश्वरदास जी के घर में हुआ था. सामाजिक कार्यों में सक्रिय पिताजी के विचारों का प्रभाव ओमप्रकाश जी पर भी पड़ा. प्रारम्भिक शिक्षा जम्मू, भद्रवाह और श्रीनगर में पूर्णकर उन्होंने मेडिकल कॉलेज अमृतसर से ‘जनरल फिजीशियन एंड सर्जन’ की उपाधि ली. इसके बाद वे जम्मू-कश्मीर सरकार में चिकित्सा अधिकारी तथा सतवारी कैंट चिकि ...

Read more

अनुच्छेद 370 देश हित में नहीं : किशोर कांत

राजपुरा, (विसंके पंजाब). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पंजाब प्रांत प्रचारक श्री किशोरकांत जी ने कहा है  कि देश के संविधान में जम्मू-कश्मीर के लिये अनुच्छेद 370 का प्रवधान अस्थायी तौर पर किया गया था लेकिन राजनीतिक दलों ने अपने संकार्ण दलीय स्वार्थ व वोट बैंक के लिये इसको स्थायी प्रावधान बनाकर रख दिया है. फलस्वरूप, जम्मू-कश्मीर की हालत नाजुक बन गयी है. किशोरकांत जी ने देश के व्यापक हित के लिये इसे समाप्त करने क ...

Read more

संघ का जम्मू-कश्मीरवासियों की सहायता का आह्वान

नागपुर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री सुरेश (भय्याजी) जोशी ने जम्मू-कश्मीर राज्य में आई प्राकृतिक विपत्ति के समय में समस्त देशवासियों विशेषकर स्वयंसेवकों से एकजुट होकर सभी प्रकार की आवश्यक सहायता हेतु आगे आने का आह्वान किया है. सरकार्यवाह के 11 सितंबर को यहां जारी वक्तव्य में कहा गया है, “अपनी सदैव की परंपरा और अभ्यास के अनुसार संघ के स्वयंसेवक नागरिकों के सहयोग से ‘‘सेवा भारती, जम्मू-कश्मीर’’ ...

Read more

चीन ने फिर की गुस्ताखी, अरुणाचल प्रदेश और कश्मीर के बड़े हिस्से को बताया अपना

नई दिल्ली. चीन ने एक बार फिर अपना नया नक्शा जारी करके नये विवाद को जन्म दिया है. पिछले कई वर्षों की तरह ड्रैगन ने फिर अरुणाचल प्रदेश और इस बार जम्मू-कश्मीर के एक बड़े हिस्से को भी अपने नक्शे में दिखाया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में एनडीए की नई सरकार बनने के बाद चीन ने पहली बार यह विवादित नक्शा जारी किया है. अरुणाचल प्रदेश को लेकर चीन अकसर विवाद खड़ा करता रहता है. भारत अरुणाचल प्रदे ...

Read more

जम्मू कश्मीर संवाद केंद्र में मनाई गई नारद जयंती

जम्मू. दिनांक 18 मई को त्रिकुटा संवाद केन्द्र, जम्मू कश्मीर की ओर से देर्विर्ष नारद जयंती कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिस में मुख्य वक्ता के नाते पांचजन्य के संपादक श्री हितेष शंकर ने बताया कि नारद जी आदि पत्रकार के तौर पर याद किये जाते है. उनका पूरा जीवन सूचना संचार के लिये समर्पित था. वे देवों के पास भी पहुंचते और दानवों के पास भी जाते. सबके द्वार उनके लिये खुला थे. सब उनका स्वागत करते, सब उनको पूजते क्य ...

Read more
Scroll to top