You Are Here: Home » Posts tagged "भय्याजी जोशी"

जनजाति समाज की प्राचीन परंपरा की रक्षा ही अस्मिता जागरण है – सुरेश भय्याजी जोशी

नासिक (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कहा कि स्वावलंबन, संस्कृति, कला, परंपरा, नृत्य, वाद्य आदि जनजातीय समाज के स्वाभिमान और अस्मिता के विषय हैं. उन्हें अगर कोई बाधा पहुंचाने का प्रयास कर रहा हो तो हिन्दू समाज नहीं सहेगा. जनजातीय समाज की प्राचीन परंपरा की रक्षा ही अस्मिता जागरण है. सरकार्यवाह वनवासी कल्याण आश्रम की ओर से सुरगाणा तहसील के गुही गांव में आयोजित जनजाति अस् ...

Read more

भारत  के ऋषि मुनियों का चिंतन चिरंतन और शाश्वत है – सुरेश भय्याजी जोशी

जयपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कहा कि हमारे ऋषि मुनियों के चिंतन की प्रासंगिकता पर कोई प्रश्न चिह्न नहीं लग सकता, क्योंकि उनका चिंतन मूलभूत और सर्वकालिक रहा है. युगानुकूल उसकी व्याख्याएं बदलती रही हैं, लेकिन मूलभूत विषय कभी नहीं बदला. इसलिए यह चिरंतन और शाश्वत है. इसी में विश्व के समग्र मानव का कल्याण समाहित है. सरकार्यवाह जी गुरुवार को एकात्म मानवदर्शन अनुसंधान ...

Read more

भारत का चिंतन प्रासंगिक नहीं, बल्कि सर्वकालिक और सभी के लिए है – सुरेश भय्याजी जोशी

रायपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने कहा कि विश्व में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ रही है, यह निरंतर बढ़ती रहेगी. किन्तु समक्ष की समस्याओं और देशहित के प्रश्नों  पर एकात्म भाव से प्रयास करें, यह भारत को परम वैभवशाली बनाने के लिए आवश्यक है. सरकार्यवाह जी विजयादशमी पर आयोजित कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने देश की वर्तमान परिस्थितियों के संबंध में समाज को एकात्म होकर स ...

Read more

युगानुकूल चिंतन से परंपरा का परिष्करण होना दीर्घजीवन के लिये आवश्यक – सुरेश भय्या जी जोशी

मुंबई (विसंकें). मुंबई के कांदिवली पूर्व के तेरापंथी भवन में 25 सितंबर को सायं 5 बजे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने दीप प्रज्ज्वलन कर "दीनदयाळ कथा" कार्यक्रम के दूसरे दिन का शुभारंभ किया. यहाँ 24 सितंबर से रामभाऊ म्हाळगी प्रबोधिनी तथा दीनदयाळ शोध संस्थान संस्थाओं द्वारा दो दिवसीय "दीनदयाल कथा" का आयोजन किया जा रहा है. कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ दिल्ली के प्रांत सह संघ ...

Read more
Scroll to top