You Are Here: Home » Posts tagged "भारत रत्न"

06 जून / जन्मदिवस – असम के रक्षक : गोपीनाथ बारदोलोई

नई दिल्ली. भारत रत्न से विभूषित गोपीनाथ बारदोलोई जी का जन्म छह जून, 1890 को असम के नागांव जिले के राहा गांव में हुआ था. इनके पिता बुद्धेश्वर तथा माता प्राणेश्वरी थीं. उन्होंने एमए तथा फिर कानून की परीक्षायें अच्छे अंकों से उत्तीर्ण कीं. वर्ष 1922 में एक स्वयंसेवक के नाते वे कांग्रेस में शामिल हुये. सविनय अवज्ञा तथा असहयोग आंदोलन में वे कई बार जेल गये. पूर्वोत्तर भारत प्रायः शेष भारत से कटा रहता है, पर बारदो ...

Read more

भारत के रत्न को भारत रत्न

सवाल सीधा-सा था, इतनी कठिनाइयों में भी आप शांत स्वर कैसे रखते हैं? आपकी आस्था का आधार? अटल जी अपनी चिर-परिचित शैली में मुझे देखते रहे और फिर हौले से मुस्कराते हुए बोले, आस्था? मेरी आस्था भारत है, और कुछ नहीं. मैं अवाक रह गया. इतनी बड़ी बात कितनी सहजता से कह गये अटल जी. अटल जी की तुलना सिर्फ अटल जी से ही की जा सकती है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक और कवि ऐसे कि हृदय में सागर हिलोरें लेने लगे, वक्ता ऐसे ...

Read more

भारत रत्न का गौरव बढ़ा: श्री हरि बोरिकर

मुंबई. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् ने महामना स्व. मदन मोहन मालवीय तथा पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी को भारतीय गणराज्य के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘‘भारत रत्न’’ दिए जाने की घोषणा पर समस्त देशवासियों को बधाई एवं शुभकामनायें दी हैं. अभाविप के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीहरि बोरिकर ने कहा की महामना पं. मदनमोहन मालवीय जी व श्री अटल बिहारी वाजपेयी को ‘‘भारत रत्न’’ से सम्मानित करने से उनके जीवन के उच्च आद ...

Read more

25 दिसंबर/ जन्म तिथि; भारत के अमूल्य रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी

सरकार ने भारत के अमूल्य रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न का सर्वोच्च नागरिक सम्मान प्रदान कर स्वयं को गौरवान्वित किया है. राष्ट्रीय क्षितिज पर स्वच्छ छवि के साथ अजातशत्रु कहे जाने वाले कवि एवं पत्रकार, सरस्वती पुत्र अटल बिहारी वाजपेयी, एक व्यक्ति का नाम नही है वरन् वो तो राष्ट्रीय विचारधारा का नाम है. राष्ट्रहित एवं राष्ट्रभाषा हिन्दी के प्रबल पक्षधर अटल जी राजनेताओं में नैतिकता के प्रतीक हैं. अटल ...

Read more

8 अक्तूबर/पुण्य-तिथि : लोकनायक जयप्रकाश नारायण

लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने जहां एक ओर स्वाधीनता संग्राम में योगदान दिया, वहां 1947 के बाद भूदान आंदोलन और खूंखार डकैतों के आत्मसमर्पण में भी प्रमुख भूमिका निभाई. 1970 के दशक में तानाशाही के विरुद्ध हुए आंदोलन का उन्होंने नेतृत्व किया. इन विशिष्ट कार्यों के लिए शासन ने 1998 में उन्हें मरणोपरांत ‘भारत रत्न’ से सम्मानित किया. जयप्रकाश जी का जन्म 11 अक्तूबर, 1902 को उ.प्र. के बलिया जिले में हुआ था. पटना में पढ़ ...

Read more

5 सितम्बर/जन्म-दिवस : आदर्श शिक्षक डा. राधाकृष्णन

प्रख्यात दर्शनशास्त्री, अध्यापक एवं राजनेता डा. राधाकृष्णन का जन्म पाँच सितम्बर 1888 को ग्राम प्रागानाडु (जिला चित्तूर, तमिलनाडु) में हुआ था. इनके पिता वीरस्वामी एक आदर्श शिक्षक तथा पुरोहित थे. अतः इनके मन में बचपन से ही हिन्दू धर्म एवं दर्शन के प्रति भारी रुचि जाग्रत हो गयी. उनकी सारी शिक्षा तिरुपति, बंगलौर और चेन्नई के ईसाई विद्यालयों में ही हुई. उन्होंने सदा सभी परीक्षाएँ प्रथम श्रेणी में ही उत्तीर्ण कीं ...

Read more
Scroll to top