You Are Here: Home » Posts tagged "राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ"

आपातकाल, पुलिसिया कहर और संघ

भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में 25 जून 1975 में उस समय एक काला अध्याय जुड़ गया, जब देश की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने सभी संवैधानिक व्यवस्थाओं, राजनीतिक शिष्टाचार तथा सामाजिक मर्यादाओं को ताक पर रखकर मात्र अपना राजनीतिक अस्तित्व और सत्ता बचाने के लिए देश में आपातकाल थोप दिया. उस समय इंदिरा गांधी की अधिनायकवादी नीतियों, भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा और सामाजिक अव्यवस्था के विरुद्ध सर्वोदयी नेता जयप्रकाश नार ...

Read more

राष्ट्र के प्रति समर्पण सिखाने वाली पाठशाला है संघ की शाखा – स्वान्त रंजन

उदयपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय बौद्धिक शिक्षण प्रमुख स्वान्त रंजन जी ने कहा कि संघ की शाखा केवल खेल खेलने का स्थान नहीं है. संघ के तृतीय सरसंघचालक बाला साहब देवरस ने कहा था कि संघ की शाखा सज्जनों की सुरक्षा का बिन बोले अभिवचन है, तरुणों को व्यसन मुक्त रखने वाला संस्कार पीठ है, आपत्ति-विपत्ति में त्वरित निरपेक्ष सहायता का आशा केन्द्र है, महिला सुरक्षा और सभ्य आचरण का आश्वासन है, दुष ...

Read more

08 जून / जन्मदिवस – तपस्वी प्रचारक : मधुसूदन देव जी

नई दिल्ली. यूं तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की परम्परा में पले-बढ़े सभी प्रचारक परिश्रम, सादगी, प्रेमभाव और सरलता की प्रतिमूर्ति होते हैं, पर उनमें से कुछ के तपस्वी जीवन की छाप सामान्य कार्यकर्त्ता के मन-मस्तिष्क पर बहुत गहराई से अंकित हो जाती है. मधुसूदन गोपाल देव जी ऐसे ही एक प्रचारक थे. कार्यकर्ताओं में वे ‘देव जी’ के नाम से लोकप्रिय थे. देव जी का जन्म आठ जून, 1918 को धन्तोली, नागपुर में गोपाल देव जी एवं उ ...

Read more

14 मई / पुण्यतिथि – उत्कृष्ट लेखक भैया जी सहस्रबुद्धे

नई दिल्ली. प्रभावी वक्ता, उत्कृष्ट लेखक, कुशल संगठक, व्यवहार में विनम्रता व मिठास के धनी प्रभाकर गजानन सहस्रबुद्धे का जन्म खण्डवा (मध्य प्रदेश) में 18 सितम्बर, 1917 को हुआ था. उनके पिताजी वहां अधिवक्ता थे. वैसे यह परिवार मूलतः ग्राम टिटवी (जलगाँव, मध्य प्रदेश) का निवासी था. भैया जी जब नौ वर्ष के ही थे, तब उनकी माताजी का देहान्त हो गया. इस कारण तीनों भाई-बहिनों का पालन बदल-बदलकर किसी सम्बन्धी के यहां होता रह ...

Read more

23 सितम्बर / जन्मदिवस – नवदधीचि अनंत रामचंद्र गोखले जी

नई दिल्ली. अनुशासन के प्रति अत्यन्त कठोर श्री अनंत रामचंद्र गोखले जी का जन्म 23 सितम्बर, 1918 (अनंत चतुर्दशी) को म.प्र. के खंडवा नगर में एक सम्पन्न परिवार में हुआ था. ‘’ संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री गुरुजी के पिता श्री सदाशिव गोलवलकर जब खंडवा में अध्यापक थे, तब वे उनके घर में ही रहते थे. नागपुर से इंटर करते समय गोखले जी धंतोली सायं शाखा में जाने लगे. एक सितम्बर, 1938 को वहीं उन्होंने प्रतिज्ञा ली. इंटर की ...

Read more

हम संघ का वर्चस्व नहीं चाहते – डॉ मोहन भागवत जी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ.. मोहन भागवत जी ने कहा कि "हम संघ का वर्चस्व नहीं चाहते. हम समाज का वर्चस्व चाहते हैं. समाज में अच्छे कामों के लिए संघ के वर्चस्व की आवश्यकता पड़े संघ इस स्थिति को वांछित नहीं मानता. अपितु समाज के सकारात्मक कार्य समाज के सामान्य लोगों द्वारा ही पूरे किए जा सकें, यही संघ का लक्ष्य है." सरसंघचालक जी 'भविष्य का भारत - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण' विषय ...

Read more

वे पन्द्रह दिन… / 04 अगस्त, 1947

आज चार अगस्त... सोमवार. दिल्ली में वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन की दिनचर्या, रोज के मुकाबले जरा जल्दी प्रारम्भ हुई. दिल्ली का वातावरण उमस भरा था, बादल घिरे हुए थे, लेकिन बारिश नहीं हो रही थी. कुल मिलाकर पूरा वातावरण निराशाजनक और एक बेचैनी से भरा था. वास्तव में देखा जाए तो सारी जिम्मेदारियों से मुक्त होने के लिए माउंटबेटन के सामने अभी ग्यारह रातें और बाकी थीं. हालांकि उसके बाद भी वे भारत में ही रहने वाले थे, भारत ...

Read more

राष्ट्र की रक्षा करना ही पत्रकारिता का धर्म – बल्देव भाई शर्मा

नोएडा. नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष बल्देव भाई शर्मा ने कहा कि पत्रकारिता का धर्म राष्ट्र की रक्षा करना है. देश में पत्रकारिता का उदय राष्ट्र जागरण के लिए ही हुआ था. आपातकाल के दौरान आम लोगों की आवाज कुचलने की पूरी कोशिश की गई थी. उस समय के अखबारों को लिखने की आजादी नहीं थी. वे 25 जून को प्रेरणा शोध संस्थान, नोएडा में उत्तर प्रदेश भाषा संस्थान लखनऊ के साथ संयुक्त तत्वाधान में आयोजित ‘आपातकाल की साहित्य सर्जन ...

Read more

21 मई / जन्मदिवस – प्रेरणा स्तम्भ राजाभाऊ सावरगांवकर

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक और झारखंड प्रान्त के कार्यकर्ताओं के प्रेरणा स्तम्भ राजाभाऊ का जन्म ग्राम डेहणी (यवतमाल, महाराष्ट्र) में पाण्डुरंग सावरगाँवकर जी के घर में 21 मई, 1920 को हुआ था. उनके जन्म वाले दिन नृसिंह चतुर्दशी थी. इसलिये उनका नाम नरहरि रखा गया. इस प्रकार उनका पूरा नाम हुआ नरहरि पांडुरंग सावरगाँवकर, पर महाराष्ट्र में प्रायः कुछ घरेलू नाम भी प्रचलित हो जाते हैं. वे अपने ...

Read more

प्रतिनिधि सभा नागौर – प्रांत कार्यवाह-प्रचारक बैठक में संघ शिक्षा वर्गों पर चर्चा

नागौर, जोधपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा से पूर्व प्रांत कार्यवाह तथा प्रांत प्रचारक बैठक में आगामी संघ शिक्षा वर्गों को लेकर विस्तृत चर्चा हुई. संघ शिक्षा वर्ग स्वयंसेवकों के लिए विशेष प्रशिक्षण वर्ग होता है. इन शिक्षा वर्गों में स्वयंसेवकों के व्यक्तित्व विकास हेतु शारीरिक, बौद्धिक, प्रबन्ध, सेवा, सम्पर्क व प्रचार का प्रशिक्षण दिया जाता है. संघ शिक्षा वर्ग तीन स्तर के ...

Read more

Sign Up for Our Newsletter

Subscribe now to get notified about VSK Bharat Latest News

Scroll to top