You Are Here: Home » Posts tagged "राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ"

छुआछूत मुक्त भारत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का लक्ष्य – इंद्रेश कुमार जी

नारी संस्कृति है, संस्कार है, नारी शोषण मुक्त समाज संघ का मिशन भिवानी (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य इन्द्रेश कुमार जी ने कहा कि संघ स्वयंसेवकों को प्रशिक्षण देकर राष्ट्रनिर्माण के कार्य में लगा रहा है. संपूर्ण देश में प्रतिदिन लाखों स्वयंसेवक तथा राष्ट्र सेविका समिति की हजारों सेविकाएं राष्ट्र निर्माण में साधनारत हैं. इंद्रेश कुमार जी 20 दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग प्रथम वर् ...

Read more

आत्म विस्मृति को दूर कर राष्ट्र की सुप्त आत्मा को जगाना होगा – अरुण कुमार जी

पत्रकारों को विश्वसनीयता बनाए रखने की आवश्यकता – सुमित्रा महाजन जी नई दिल्ली (इंविसंकें). राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के अखिल भारतीय सह सम्पर्क प्रमुख अरुण कुमार जी ने कहा कि आत्म विस्मृति को दूर भगाकर राष्ट्र की सोयी हुई आत्मा को जगाना होगा. ये हमारा दुर्भाग्य रहा है कि हम पश्चिम की दृष्टि से देखने–सोचने लगे हैं. बीच के काल-खंड में नारद जी हम सभी से विस्मृत हो गए थे. लेकिन खुशी इस बात की है, कि इद्रंप्रस्थ विश ...

Read more

सामाजिक व्यवस्था में समरसता एक श्रेष्ठ तत्व है – गुणवंत सिंह कोठारी जी

आगरा (विसंकें). हमारे महापुरूषों ने भारतवर्ष की सृष्टि को समरसता के सूत्रों में हमेशा से एकीकृत करने का प्रयोग किया है और वर्तमान में इसका प्रकटीकरण हमें देखाई देता है - एक स्वयंसेवक के अनुशासन में. हमारा पड़ोसी किस जाति का है, किसान है या मजदूर, वकील है या डॉक्टर, छात्र है या व्यापारी, नौकरी करता है या बेरोजगार, धनी है या निर्धन, शिक्षित है या अशिक्षित, ये सब बातें उस समय गौण हो जाती हैं, जब हम सब भाई की भा ...

Read more

योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिये – दत्तात्रेय होसबाले जी

लखनऊ (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने कहा कि योग जीवन पद्धति है. योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिए. सह सरकार्यवाह जी रविवार को विश्व संवाद केन्द्र के अधीश सभागार में पाक्षिक पत्रिका अवध प्रहरी के योग विशेषांक के विमोचन अवसर पर संबोधित कर रहे थे. सह सरकार्यवाह जी ने कहा कि गीता के अट्ठारह अध्यायों में योग है. हजारों वर्ष पूर्व हमारे पूर्वजों ने योग दिया ...

Read more

15 जून / जन्मदिवस – सरल, ओजस्वी व हंसमुख ब्रह्मदेव जी

नई दिल्ली. दिल्ली और आसपास के अनेक राज्यों में संघ के काम को गति देने वाले ब्रह्मदेव जी का जन्म 15 जून, 1920 को नजफगढ़ (दिल्ली) में हुआ था. उनके पिता नेतराम शर्मा जी तथा माता भगवती देवी जी थीं. वर्ष 1936 में उन्होंने हाईस्कूल तथा 1940 में दिल्ली विश्वविद्यालय से विज्ञान स्नातक की उपाधि प्राप्त की. वर्ष 1937 में हिन्दू महासभा भवन में लगने वाली शाखा में वे स्वयंसेवक बने. इसके बाद उनका समर्पण संघ के प्रति बढ़त ...

Read more

संघ का कार्य सामाजिक समरसता, एकात्मता को पुष्ट करने का प्रयास है – डॉ. अरुण जैन जी

हरदा, मध्यभारत (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मध्यभारत प्रांत द्वारा आयोजित 20 दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग प्रथम वर्ष का स्वयंसेवकों के शारीरिक कार्यक्रमों के प्रदर्शन के साथ स्थानीय सरस्वती विद्या मंदिर, इंदौऱ रोड, हरदा में समापन हुआ. समापन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कार्यक्रम के मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मध्य क्षेत्र प्रचारक डॉ. अरुण जैन जी ने कहा कि ऐसे वर्गों से मिलने वाला प्रशिक्षण व्यक ...

Read more

जाति, वर्ग, संप्रदाय से ऊपर उठकर सम्पूर्ण भारतीय समाज को जाग्रत करें – दिनेश चंद्र जी

नई दिल्ली (इंविसंकें). विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय संगठन महामंत्री दिनेश चंद्र जी ने कहा कि हमारा देश 1200 वर्षो तक गुलाम रहा क्योंकि हिन्दू समाज बंटा हुआ था. आज दुनिया भर में पुन: ऐसी जेहादी ताकतें सिर उठा रही हैं जो भारत को खंडित करना चाहती हैं. हिन्दू युवाओं को इन आतंकी ताकतों के खिलाफ आवाज उठानी होगी और अपने शौर्य बल से इन ताकतों को जड़ से कुचलना होगा. उन्होंने कहा कि आतंकवाद का कोई पंथ या जाति ...

Read more

विश्व कल्याण का काम भारत ही कर सकता है  – डॉ. मोहन भागवत जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत जी ने कहा कि भारत में पंथ, भाषा, परंपरा, पर्यावरण में विविधता है, फिर भी यह एकता की भूमि है. क्योंकि यहाँ हिन्दू बहुसंख्यक हैं और हिन्दू विचार की दृष्टि सबको स्वीकार करती है. ऐसे सबको स्वीकार करने वाले लोगों का देशव्यापी समूह निर्माण करने का काम संघ कर रहा है. सरसंघचालक जी नागपुर में संघ शिक्षा वर्ग तृतीय वर्ष के समारोप कार्यक्रम में संबो ...

Read more

मनुष्य और प्रकृति अन्योन्याश्रित हैं  – डॉ. बजरंग लाल जी गुप्ता

नई दिल्ली (इंविसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उत्तर क्षेत्र संघचालकडॉ. बजरंग लाल जी गुप्ता ने कहा कि विश्व में आज बाहरी पर्यावरण और प्रदूषण की चर्चा हो रही है, जबकि हमारे देश में मनीषियों ने आंतरिक पर्यावरण और प्रदूषण की बात कही है. डॉ. बजरंग लाल जी 'पर्यावरण दर्शन' पुस्तक के विमोचन अवसर पर संबोधित कर रहे थे. झंडेवाला मंदिर सभागार में सुरुचि प्रकाशन द्वारा प्रकाशित डॉ. ओम प्रभात अग्रवाल की पुस्तक का विमोचन ...

Read more

गौमाता कृषि और किसान के आर्थिक विकास का आधार –  सुरेश भय्याजी जोशी

प्रथम तथा द्वितीय वर्ष संघ शिक्षा वर्ग का पुणे में समापन पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश भय्या जी जोशी ने कहा कि गौरक्षा केवल आस्था का विषय नहीं है. गौमाता इस देश में कृषि और किसान के आर्थिक विकास का आधार है. यह किसी संप्रदाय विशेष के विरोध में नहीं है. सरकार्यवाह जी पश्चिम महाराष्ट्र प्रांत के प्रथम वर्ष संघ शिक्षा वर्ग तथा पश्चिम क्षेत्र के द्वितीय वर्ष संघ शिक्षा वर्ग के संयुक ...

Read more
Scroll to top