You Are Here: Home » Posts tagged "विश्व संवाद केंद्र"

पत्रकार को पेशेवर दर्जा और मीडिया को जिम्मेदारी का अहसास हो – विष्णु कोकजे जी

देवर्षि नारद पत्रकार सम्मान समारोह पुणे (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व न्यायाधीश विष्णु कोकजे जी ने कहा कि पत्रकारिता एक व्यवसाय है. लेकिन कानून में इस व्यवसाय को कहीं भी मान्यता नहीं है. इसलिए पत्रकार को पेशेवर दर्जा और साथ ही मीडिया को जिम्मेदारी का अहसास होना चाहिए. पत्रकारिता में व्याप्त दुष्प्रवृत्तियों के लिए जिम्मेदार और प्रतिष्ठित पत्रकारों को उत्तर देना पड़ता है. ...

Read more

संस्कृति का स्मृतिभ्रंश ही देश में बड़ी समस्या – अरुण कुमार जी

नागपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार जी ने कहा कि अपने देश का इतिहास गौरवशाली रहा है. मात्र ब्रिटिश शिक्षा पद्धति के कारण नागरिकों की विचार करने की प्रवृत्ति ही बदल गई है. इसके चलते हम लोग अपने ही इतिहास पर प्रश्नचिन्ह लगाने लगे हैं. अपनी संस्कृति परंपरा के बारे में होता स्मृतिभ्रंश ही देश के सामने बड़ी समस्या बन कर उभरी है. इसलिये समाज के सभी क्षेत्रों में भारतीय ...

Read more

लोक बोलियों को लिखने – बोलने में करें शामिल – जगदीश उपासने जी

पटना (विसंकें). माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति जगदीश उपासने जी ने कहा कि स्थानीय बोली बोलने पर आज की पीढ़ी हीनता की भावना महसूस करती है. यह संपूर्ण समाज व देश के लिए चिंता की बात है. आज अगली पीढ़ी को लोक शब्दों की जानकारी नहीं है, इसके लिए किसी बाहरी ताकत को जिम्मेदार ठहराने की बजाय हरेक व्यक्ति लोक भाषा का प्रयोग करना शुरु करे तो हम अपनी जड़ों से जुड़े रह सकते हैं. जगदीश जी शनिवार को विश् ...

Read more

तटस्थ पत्रकारिता आज की आवश्यकता – विजय रुपाणी जी

गुजरात (विसंकें). विश्व संवाद केंद्र, गुजरात द्वारा नारद जयंती के अवसर पर पत्रकार सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस वर्ष सम्मानित पत्रकारों में जपनभाई पाठक (Cyber Journalism), आरती बहन पटेल (Radio Journalism), कौशिक भाई मेहता, संपादक फूलछाब (Print Media), निर्णय कपूर, Sub-Editor (Electronic Media), नगेन्द्र विजयजी (सफारी मैगज़ीन) तथा झवेरीलाल मेहता (Photo Journalist, Gujarat Samachar) को Life Time Achie ...

Read more

1971 के युद्ध में जीते हिस्से को राजनीतिक असफलता के कारण खो दिया – नरेंद्र कुमार जी

देहरादून (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख नरेंद्र कुमार जी ने कहा कि हमने स्वतन्त्रता का उत्सव भौगोलिक आधार पर मनाया था. 1947 में अंग्रेजों ने भारत से स्वतंत्रता के जिस दस्तावेज पर हस्ताक्षर कराये थे, वह वास्तव में विभाजन का दस्तावेज था. नरेंद्र जी विश्व संवाद केन्द्र द्वारा आयोजित ‘आजादी के सत्तर साल, क्या खोया, क्या पाया ?’ स्मारिका ‘संवाद’ के विमोचन अवसर पर संबोधित कर रह ...

Read more

देहरादून में ‘आपातकाल की यादें’ विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन

देहरादून (विसंकें). विश्व संवाद केन्द्र और उत्तरांचल उत्थान परिषद देहरादून द्वारा डीएवी (पीजी) कॉलेज के दीनदयाल सभागार में ‘आपातकाल की यादें’ विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया. मुख्य अतिथि पूर्व मुख्यमंत्री एवं नैनीताल से सांसद भगत सिंह कोश्यारी जी ने कहा कि आपातकाल देश के लोकतंत्र पर काला धब्बा था. इसको याद करना और नई पीढ़ी को यह बताना हम सबकी जिम्मेदारी है. भविष्य में देश ऐसे किसी संकट में न फंसे, इस ...

Read more

योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिये – दत्तात्रेय होसबाले जी

लखनऊ (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने कहा कि योग जीवन पद्धति है. योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिए. सह सरकार्यवाह जी रविवार को विश्व संवाद केन्द्र के अधीश सभागार में पाक्षिक पत्रिका अवध प्रहरी के योग विशेषांक के विमोचन अवसर पर संबोधित कर रहे थे. सह सरकार्यवाह जी ने कहा कि गीता के अट्ठारह अध्यायों में योग है. हजारों वर्ष पूर्व हमारे पूर्वजों ने योग दिया ...

Read more

वाल्मीकि जयंती पर संगोष्ठी आयोजित

पटना( विसंके). आदि कवि वाल्मीकि जयंती के सुअवसर पर अखिल भारतीय साहित्य परिषद् की बिहार इकाई द्वारा पटना में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया. शरद पूर्णिमा के दिन विश्व संवाद केंद्र में आयोजित संगोष्ठी को संबोधित करते हुये प्रख्यात विद्वान डॉ. श्रीरंजन सूरिदेव ने कहा कि वाल्मीकि ने भारत के मानस पटल को तैयार किया. वाल्मीकि के उपरांत रामायण का अनेक लेखकों-कवियों ने प्रणयन किया. इसमें मर्यादा पुरूषोत्तम राम के चरि ...

Read more

नारद शैली से बनेगा प्रबुद्ध भारत : ढोले

मुंबई. विश्व संवाद केंद्र मुंबई ने ‘नारद जयंती’ गत 24 मई को वाशी ( नवी मुंबई ) के मराठी साहित्य केंद्र के सभागृह में समारोह आयोजित कर मनाई. इसमें प्रसिद्ध फिल्म विश्लेषक श्री विश्राम ढोले ने देवर्षि नारद की पत्रकारिता की शैली के अनुकरण का आह्वान करते हुए उसे प्रबुद्ध भारत के निर्माण के लिये अनिवार्य बताया. विश्व संवाद केंद्र के अध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार श्री सुधीर जोगलेकर जी की अध्यक्षता में हुए कार्यक्रम में ...

Read more
Scroll to top