You Are Here: Home » Posts tagged "विश्व हिन्दू परिषद"

कट्टरपंथी विचारधाराओं से बचने के लिए सब पंथों का सम्मान जरूरी – विहिप

शिमला (विसंकें). आज अगर हम अन्य लोगों की परम्पराओं का सम्मान नहीं करेंगे तो इससे कट्टरपंथ बढ़ता चला जाएगा. भारत में सर्वधर्म समभाव का दर्शन रहा है. ऐसे में आज भी हमें स्वामी विवेकानंद जी के आदर्शों को नहीं भूलना चाहिए. स्वामी विवेकानंद जी द्वारा शिकागो के धर्म सम्मेलन में दिये उनके व्याख्यान के 125 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में विवेकानंद केंद्र और विश्व हिन्दू परिषद् ने सम्मिलित रूप से कार्यक्रम का आयोजन क ...

Read more

युवाओं में स्वामी विवेकानंद जैसी देशभक्ति की भावना जागृत होनी चाहिये – विनायक देशपांडे जी

आगरा (विसंकें). विहिप के अंतरराष्ट्रीय सह संगठन मंत्री विनायक राव देशपांडे जी ने कहा कि अगले पंद्रह वर्षो में भारत के अखंड बनने का स्वप्न पूरा हो जाएगा. भारत को अखंड बनाने के लिए पाकिस्तान के टुकड़े होना जरूरी है और इसकी शुरूआत हो गई है. बलूचिस्तान के लोगों ने विद्रोह कर दिया है, आने वाले दिनों में पाकिस्तान के टुकड़े होंगे और यहीं से भारत के अखंड होने की शुरूआत हो जाएगी. विनायक जी 31 अगस्त को आगरा के डॉ. भ ...

Read more

विहिप ने प्रदेश भर में आतंकवादियों के खिलाफ  किया विरोध प्रदर्शन

शिमला (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद् ने जम्मू कश्मीर में बाबा अमरनाथ की यात्रा पर गए श्रद्धालुओं पर हमले के विरोध में मंगलवार को प्रदेश भर में विरोध प्रदर्शन किया तथा राष्ट्रपति को घटना के संदर्भ में जिलाधीश/एस.डी.एम. के माध्यम से ज्ञापन प्रेषित किया. शिमला में भी जिलाधीश शिमला के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा. ज्ञापन के माध्यम से विहिप ने आतंकियों तथा आतंक का समर्थन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई ...

Read more

कैलाश मानसरोवर यात्रा को लौटाने वाले चीन की वस्तुओं का करें बहिष्कार – विहिप

नई दिल्ली. कैलाश मानसरोवर यात्रा को चीन द्वारा रोके जाने पर विश्व हिन्दू परिषद ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की. नाथू ला बोर्डर से जाने वाली कैलाश मानसरोवर यात्रा को चीन द्वारा रोके जाने से सभी स्तब्ध थे. अभी तक लगता था कि इसके पीछे शायद प्राकृतिक विपदा ही मुख्य कारण रही होगी. परन्तु चीनी अधिकारियों द्वारा किए गए पत्र व्यवहार तथा जारी बयानों से अब यह स्पष्ट हो गया है कि इस महत्वपूर्ण यात्रा के रोकने का एक मात् ...

Read more

विहिप की प्रान्त मार्गदर्शक मण्डल की बैठक सम्पन्न

जयपुर. विश्व हिन्दू परिषद के प्रांतीय मार्गदर्शक मण्डल की बैठक श्री सियारामदासजी महाराज की बगीची, ढहर के बालाजी सीकर रोड में सम्पन्न हुई. बैठक में प्रांत के समस्त प्रमुख संत उपस्थित थे. मुख्य वक्ता केन्द्रीय मंत्री अशोक तिवारी जी ने कहा कि राष्ट्र निर्माण में संतों की भूमिका का बड़ा महत्व है. संतों के मार्गदर्शन से ही हिन्दू समाज का विकास व पुनःउत्थान होगा. हिन्दुत्व व समाज के विकास के लिये संतों को आगे आना ...

Read more

उत्तर बंग विहिप का आवासीय प्रशिक्षण वर्ग प्रारंभ

सिलीगुड़ी (विसंकें). विश्व हिन्दू परिषद उत्तर बंग प्रांत का दस दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण वर्ग 10 जून से प्रारंभ हुआ है. वर्ग सिलीगुड़ी के समीप शालबाड़ी स्थित कल्याण आश्रम के परिसर में चल रहा है, वर्ग 20 जून को समाप्त होगा. वर्ग का शुभारंभ विहिप केंद्रीय समिति के सदस्य धर्मनारायण जी की उपस्थिति में हुआ. उनके साथ प्रांत महामंत्री उदय सरकार, प्रांत संगठन मंत्री डॉ. गौतम सरकार, विशिष्ट अतिथि नॉर्थ बंगाल विवि के ग ...

Read more

जाति, वर्ग, संप्रदाय से ऊपर उठकर सम्पूर्ण भारतीय समाज को जाग्रत करें – दिनेश चंद्र जी

नई दिल्ली (इंविसंकें). विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय संगठन महामंत्री दिनेश चंद्र जी ने कहा कि हमारा देश 1200 वर्षो तक गुलाम रहा क्योंकि हिन्दू समाज बंटा हुआ था. आज दुनिया भर में पुन: ऐसी जेहादी ताकतें सिर उठा रही हैं जो भारत को खंडित करना चाहती हैं. हिन्दू युवाओं को इन आतंकी ताकतों के खिलाफ आवाज उठानी होगी और अपने शौर्य बल से इन ताकतों को जड़ से कुचलना होगा. उन्होंने कहा कि आतंकवाद का कोई पंथ या जाति ...

Read more

27 मई / पुण्यतिथि – कर्मवीर धर्मचंद नाहर

नई दिल्ली. धर्मचंद नाहर जी का जन्म राजस्थान में अजमेर से लगभग 150 किमी दूर स्थित ग्राम हरनावां पट्टी में वर्ष 1944 की कार्तिक कृष्ण 13 (धनतेरस) को हुआ था. जब वे केवल तीन वर्ष के थे, तब उनके पिता मिश्रीमल जी बच्चों की समुचित शिक्षा के लिये लाडनू आ गये. यह परिवार जैन मत के तेरापंथ से सम्बन्धित था. लाडनू उन दिनों तेरापंथ का प्रमुख स्थान था. सात भाई और एक बहन वाला यह परिवार एक ओर धर्मप्रेमी, तो दूसरी ओर संघ के ...

Read more

05 जनवरी / पुण्यतिथि – वीर रस के प्रसारक स्वामी शिवचरण लाल जी

नई दिल्ली. प्रायः हर व्यक्ति में कुछ न कुछ गुण एवं प्रतिभा होती है. संघ की शाखा में आने से ये गुण और अधिक विकसित एवं प्रस्फुटित होते हैं. शाखा एवं अन्य कार्यक्रमों में गीत एवं कविता के माध्यम से भी संस्कार दिये जाते हैं. शिवचरण लाल जी ऐसे ही एक प्रचारक थे, जो विभिन्न कार्यक्रमों में वीर रस की कविताओं का इतने मनोयोग से पाठ करते थे कि श्रोता मन्त्रमुग्ध हो जाते थे. कविता समाप्त होने पर ऐसा लगता था मानो श्रोता ...

Read more

18 जुलाई / जन्म-दिवस – विश्व हिन्दू परिषद के प्रथम अध्यक्ष जयचामराज वाडियार

नई दिल्ली. विश्व भर के हिन्दुओं को संगठित करने के लिये श्रीकृष्ण जन्माष्टमी (29 अगस्त, 1964) को स्वामी चिन्मयानंद जी की अध्यक्षता में, उनके मुंबई स्थित सांदीपनी आश्रम में विश्व हिन्दू परिषद की स्थापना हुई. इस अवसर पर धार्मिक, और सामाजिक क्षेत्र की अनेक महान विभूतियां उपस्थित थीं. स्थापना के समय महामंत्री का दायित्व संघ के वरिष्ठ प्रचारक शिवराम शंकर (दादासाहब) आप्टे जी ने संभाला, वहां अध्यक्ष के लिये सबने सर ...

Read more
Scroll to top