You Are Here: Home » Posts tagged "सह सरकार्यवाह"

भारत में राष्ट्र की अवधारणा विशिष्ट व अद्भुत है – डॉ. कृष्ण गोपाल जी

भारत में राष्ट्र की भावना लोक मंगलकारी है यानि सभी प्राणियों के कल्याण की भावना पुणे (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल जी ने कहा कि भारत के पूरे साहित्य में भारत का वर्णन है. इसमें वैश्विक भावना तो है, लेकिन यह विचार जहां से आया है उसके प्रति भक्ति भी है. वैश्विक होते हुए भी हम भारतीय हैं, यह अद्वितीय समन्वय है. वैदिक काल से लेकर देश की शिक्षा संस्कृति और उससे विकसित भारतीय ...

Read more

विश्व को सहकार और सहयोग के साथ चलने की प्रेरणा केवल भारत ही दे सकता है – डॉ. कृष्ण गोपाल जी

नई दिल्ली (इंविसंकें). युवा विमर्श तीन दिवसीय सम्मेलन का शुभारम्भ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल जी ने किया. उन्होंने भारतीय जनसंचार संस्थान के सभागृह में ‘आधुनिक सभ्यता की चुनौतियां’ विषय पर कहा कि विज्ञान की आंख सीमित है. जहां विज्ञान रुकता है, वहां से अध्यात्म शुरु होता है. आधुनिक सिविलाइजेशन में विज्ञान द्वारा अर्जित भौतिक प्रगति की स्पर्धा में अध्यात्म को जीवन से निकाला जा रहा ...

Read more

राष्ट्र के निर्माण में जनजातीय समाज का योगदान भी अहम – दत्तात्रेय होसबले जी

रांची. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने प्रज्ञा प्रवाह के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि देश के निर्माण में जितना कथित सभ्य समाज का योगदान है, उतना ही जनजातीय समाज का भी. उन्होंने भारतीय संस्कृति, सभ्यता पर कहा कि जो नगर में रहे, वे नागरिक कहलाए, गांव में रहने वाले ग्रामीण और जंगल में रहने वाले जनजातीय. इन सबका योगदान राष्ट्र निर्माण में है. राष्ट्र और राष्ट्रीयता के मुद ...

Read more

संस्कृति, स्वतंत्रता की रक्षा के लिए आत्मगौरव व वीरता भी आवश्यक – डॉ. कृष्ण गोपाल जी

नई दिल्ली. भारत के अंतिम हिन्दू सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य के राज्याभिषेक दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में समारोह आयोजित किया गया. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल जी कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे. इस अवसर पर इतिहास संकलन समिति के अखिल भारतीय संगठन मंत्री बाल मुकुंद पाण्डेय जी तथा विश्व हिन्दू परिषद् के संयुक्त सह संगठन मंत्री विनायक राव देशपाण्डेय जी मंच पर उपस्थित ...

Read more

योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिये – दत्तात्रेय होसबाले जी

लखनऊ (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले जी ने कहा कि योग जीवन पद्धति है. योग को जीवन में उतारकर योगमय जीवन बनाना चाहिए. सह सरकार्यवाह जी रविवार को विश्व संवाद केन्द्र के अधीश सभागार में पाक्षिक पत्रिका अवध प्रहरी के योग विशेषांक के विमोचन अवसर पर संबोधित कर रहे थे. सह सरकार्यवाह जी ने कहा कि गीता के अट्ठारह अध्यायों में योग है. हजारों वर्ष पूर्व हमारे पूर्वजों ने योग दिया ...

Read more

पत्रकारों को व्यवहार में पारदर्शिता और नैतिकता का मापदंड अपनाना चाहिये – दत्तात्रेय होसबले जी

मुंबई (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि समाज को शिक्षा व दिशा देने वाले पत्रकारों (मीडिया) को देखने, बोलने और लिखने को लेकर आत्मपरीक्षण करना चाहिए. पत्रकारों को अपने व्यवहार में पारदर्शिता रखनी चाहिए और नैतिकता का मापदंड अपनाना चाहिए. समाज में सकारात्मकता लाने के लिए अपने आसपास जो भी अच्छा हो रहा है, उसे प्रमुखता से स्थान देना चाहिए. हमारा वाचक या दर्शक वर्ग ...

Read more

अभावग्रस्त लोगों के लिए खड़ा होने वाला समाज कभी पराजित नहीं होता – डॉ. कृष्णगोपाल जी

भाऊराव देवरस सेवा न्यास ने किया दो समाजसेवियों का सम्मान लखनऊ (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल जी ने कहा कि अभावग्रस्त लोगों के लिए खड़ा होने वाले समाज को कोई पराजित नहीं कर सकता. उन्होंने आह्वान किया कि समाज के कमजोर वर्ग के सहयोग के लिए सक्षम वर्ग सामने आए. सह सरकार्यवाह जी निरालानगर स्थित माधव सभागार में भाऊराव देवरस सेवा न्यास द्वारा आयोजित ‘22वें सेवा सम्मान समारोह’ में ...

Read more

पिछले एक वर्ष में बढ़ीं 5524 शाखाएं और 925 मिलन – डॉ. कृष्णगोपाल जी

नागौर, जोधपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल जी ने कहा कि देशभर में संघ के कार्य में निरंतर वृद्धि हो रही है. पिछले एक वर्ष के दौरान 5524 शाखाएं तथा 925 मिलन (साप्ताहिक शाखा) बढ़े हैं. उन्होंने कहा कि वर्ष 2012 में 40922 शाखाएं थीं, जो वर्ष 2015 में बढ़कर 51335 हो गईं. तीन वर्षों के अंतराल में 10413 शाखाएं बढ़ीं हैं. वहीं वर्ष 2016 में देशभर में 5524 शाखाओं की बढ़ोतरी के ...

Read more

छात्र शक्ति को सीमित संसाधनों को ध्यान में रख अपनी भूमिका तय करनी होगी – दत्तात्रेय होसबले जी

नई दिल्ली (इंविसंके). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले जी ने कहा कि सक्रांति को परिवर्तन का काल माना जाता है, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की पत्रिका का यह विशेषांक स्वामी विवेकानन्द जी को केंद्र में रखकर मकर सक्रांति के शुभ अवसर पर लोकार्पित हुआ है. छात्र शक्ति को एक परिवर्तनकारी समूह बनाकर, अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाने की प्रेरणा यह विशेषांक देता है. वह अखिल भारतीय विद्यार्थी ...

Read more
Scroll to top