करंट टॉपिक्स

आगरा में होगा राष्ट्रीय सेवा संगम

Spread the love

Seva Sanstha milan samaroh Agraआगरा. राष्ट्रीय सेवा भारती के तत्वावधान में आगामी 4,5,6 अप्रैल 2015 को दिल्ली में राष्ट्रीय सेवा संगम आयोजित होगा, जिसमें राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के स्वंयसेवकों एवं उनकी संस्थाओं द्वारा संचालित सेवा कार्यो की विशाल प्रदर्शनी लगाई जायेगी. एक लाख अड़तीस हजार सेवा कार्यों को श्रेणीबद्धकर प्रदर्शनी में शामिल किया जायेगा. देश भर से सेवा संस्थाओं के कई हजार प्रतिनिधि तीनों दिन सेवा संगम में रहकर परस्पर अपने अनुभवों को साझा करेंगे और संवाद के द्वारा सेवा कार्यों को देशभर में बढ़ायेंगे.

उक्त जानकारी राष्ट्रीय सेवा भारती के अ.भा. अध्यक्ष श्री सूर्य प्रकाश टोंक ने मंगलवार, 18 नवंबर को यहां माधव भवन में आयोजित महानगर की सेवा संस्था मिलन समारोह में संस्थाओं के प्रतिनिधियों को दी. उन्होंने बताया कि सेवा संगम में संघ के प. पूज्य सरसंघचालक श्री मोहनजी भागवत का सान्निध्य रहेगा. इसके उद्घाटन हेतु प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से समय मांगा गया है. माँ अमृतामयी एवं सुधांशु महाराज जैसे सेवा प्रेरक संगम में रहेंगे. औद्योगिक क्षेत्र के प्रमुख लोगो को भी आंमत्रित किया है जिनमें अजीम प्रेम जी भी हैं.

Seva Sanstha milan samaroh Agra--श्री टोंक ने सभी सेवा संस्थाओं से राष्ट्रीय सेवा भारती से सम्बद्धता का आग्रह करते हुए संगम में भाग लेने का निमन्त्रण दिया. उन्होंने कहा कि देश की अन्य सेवा संस्थाओं को भी इसमें आंमत्रित किया गया है. मिलन समारोह में सेवा संस्था करुणालय के सतीश अग्रवाल, बजाज सेवा प्रकल्प के श्री सुनील विकल, समर्पण समिति के श्री अनिल अग्रवाल, हेल्थ आगरा के श्री मनोज (रेमण्ड), आगरा विकास मंच के श्री अशोक जैन सीए, रामलाल आश्रम के श्री शिव प्रकाश शर्मा, अ.भा. देहदान सेवा संस्था के डा. रामौतार शर्मा , हरिसत्संग समिति के श्री राधाबल्लभ, पंचगव्य सेवा के श्री अशोक अग्रवाल, वेकअप आगरा के श्री शिशिर भगत एवं आराधना के श्री पवन आगरी एवं श्रीमती डा. हृदयेश चौधरी आदि प्रमुख थे.

उन्होंने बताया कि समग्र ग्राम विकास को लक्ष्य बनाकर सेवा साधना, सेवा सागर, सेवा दिशा पत्रिकाओं का प्रकाशन किया जा रहा है, जिनमें देश भर की सेवा संस्थाओं की विशिष्टता का समावेश रहेगा.

प्रदर्शनी में सम्मिलित होने के लिये 31 दिसम्बर तक सामग्री भेजी जा सकती है. राष्ट्रीय स्तर पर सेवा संस्थाओं की पहचान बनने का यह सुअवसर होगा.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.